(Top 20) Candlestick Pattern in Hindi | कैंडलस्टिक पेटर्न्स के प्रकार

Candlestick pattern in hindi | Bullish candlestick pattern | Bearish candlestick pattern | Single candlestick pattern | Two and Three candlestick pattern in hindi | Types of candlestick pattern in hindi

पिछली पोस्ट में मैंने आपको ‘Candlestick के प्रकार‘ के बारे में बताया था और आज हम कैंडलस्टिक चार्ट पेटर्न्स के बारे में बात करने वाले हैं। कैंडलस्टिक पेटर्न्स के द्वारा ट्रेडिंग करके आप शेयर मार्केट से अच्छा प्रॉफिट कमा सकते हैं।

दोस्तों टेक्निकल एनालिसिस करते समय आपको चार्ट पर बहुत सारे कैंडलस्टिक पैटर्न बनते हुए दिखते होंगे उनमें कुछ पैटर्न बुलिश होते हैं तो कुछ बियरिश. कुछ Single candlestick से मिलकर बनते हैं तो कुछ Two candlestick से और कुछ candlestick pattern तीन candles से मिलकर भी बनते हैं जिन्हें Three candlestick pattern बोला जाता है।

Bullish candlestick pattern शेयर प्राइस को ऊपर ले जाते हैं तो वहीं Bearish candlestick pattern स्टॉक प्राइस को नीचे गिरा देते हैं।

आप ऑप्शन ट्रेडिंग करके bullish और bearish दोनों ही प्रकार के कैंडल स्टिक पैटर्न को ट्रेड करके पैसा कमा सकते हैं। अगर Bullish candlestick pattern बन रहा है तो आप call ऑप्शन खरीद सकते हैं और अगर Bearish candlestick pattern बन रहा है तो आप put ऑप्शन खरीद कर प्रॉफिट कमा सकते हैं।

मतलब चाहे मार्केट नीचे जाए या ऊपर दोनों ही सिचुएशन में आप पैसा कमा सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको सभी कैंडलस्टिक चार्ट पेटर्न को बारीकी से समझना होगा।

सोचिए अगर आप सभी candlestick patterns को पहचानना सीख जाए तो ट्रेडिंग से आप कितना पैसा कमा सकते हैं।

Candlestick pattern in hindi

तो आज मैं आपको सभी प्रकार के कैंडलस्टिक पेटर्न के बारे में उदाहरण सहित बताने वाला हूं। जैसे–

  • शेयर मार्केट में कैंडल स्टिक पेटर्न कितने प्रकार के होते हैं,
  • कैंडलस्टिक पेटर्न के द्वारा कैसे ट्रेड किया जाता है,
  • कैंडलेस्टिक चार्ट कैसे पढ़ें और समझें,
  • इसके अलावा हम कैंडलस्टिक पेटर्न को कैसे सीख सकते हैं।

आइये जानते हैं–

Contents

शेयर मार्केट में कैंडलस्टिक चार्ट पेटर्न क्या होते हैं?

शेयर मार्केट चार्ट पर लाल और हरी कैंडल स्टिक के द्वारा बनने वाले पैटर्न को कैंडलस्टिक पेटर्न कहते हैं। कैंडलस्टिक पेटर्न बुलिश और बियरिश दोनों प्रकार के होते हैं। चार्ट पर बुलिश कैंडलस्टिक पेटर्न बनने से शेयर प्राइस बढ़ने लगता है और बियरिश कैंडलस्टिक पेटर्न बनने से स्टॉक प्राइस नीचे जाने लगता है।

कैंडलस्टिक पेटर्न बनने के लिए कम से कम एक कैंडल (लाल या हरी) की जरूरत होती है। अगर bullish candle बनती है तो यह downtrend में बनना चाहिए तभी प्राइस reverse होकर ऊपर जाएगा।

और अगर bearish candle बनती है uptrend में बनना चाहिए और इस कैंडल के बनते ही price reverse होकर नीचे जाने लगेगा।

चार्ट पर कौन सी कैंडल कहां पर बनती है इसके बारे में हम ‘candlestick के प्रकार’ वाली पोस्ट में पहले ही विस्तार से बात कर चुके हैं।

आइए अब जानते हैं कि–

कैंडलस्टिक पेटर्न कितने प्रकार के होते हैं?

कैंडलस्टिक पेटर्न दो प्रकार के होते हैं–

  1. बुलिश कैंडलस्टिक पेटर्न
  2. बियरिश कैंडलस्टिक पेटर्न

बुलिश कैंडलस्टिक के द्वारा बनने वाले पैटर्न price को ऊपर ले जाते हैं जबकि बियरिश कैंडलस्टिक के द्वारा बनने वाले पैटर्न price को नीचे ले जाते हैं।

जितने भी candlestick patterns के बारे में नीचे बताया गया है उन में प्रयोग होने वाली सभी candles के बारे में हम उदाहरण सहित पहले ही पिछली पोस्ट में बात कर चुके हैं।

कैंडल्स की संख्या के अनुसार कैंडलेस्टिक पेटर्न तीन प्रकार के होते हैं;

  1. Single candlestick pattern: ये वह कैंडलस्टिक पेटर्न है जिनके बनने के लिए कम से कम एक कैंडल की जरूरत पड़ती है।
  2. Two candlestick pattern: ये वह कैंडलस्टिक पेटर्न है जिनके बनने के लिए कम से कम 2 कैंडल की जरूरत पड़ती है।
  3. Three candlestick pattern: ये वह कैंडलस्टिक पेटर्न है जिनके बनने के लिए कम से कम 3 कैंडल की जरूरत पड़ती है।

अब आप जानेंगे कि इन कैंडलस्टिक पेटर्न के बनने पर आप किस प्रकार trade कर सकते हैं मतलब स्टॉक में entry कब पर लेना है, कहां पर लेना है और स्टॉप लॉस किस candle पर लगाना चाहिए आदि के बारे में जानने वाले हैं।

कैंडलस्टिक पेटर्न के प्रकार (Types of candlestick pattern in hindi)

Bullish candlestick pattern in hindiBearish candlestick pattern in hindi
हैमरहैंगिंग मैन
इनवर्टेड हैमरशूटिंग स्टार
ड्रैगनफ्लाई डोजीग्रेवस्टोन डोजी
बुलिश स्पिनिंग टॉपबियरिश स्पिनिंग टॉप
बुलिश मारुबोजूबियरिश मारुबोजू
बुलिश इंगल्फिंगबियरिश इंगल्फिंग
बुलिश हरामीबियरिश हरामी
मॉर्निंग स्टारइवनिंग स्टार
पियरसिंग लाइनडार्क क्लाउड कवर

आइए अब एक-एक करके सभी कैंडलस्टिक पेटर्न के बारे में जान लेते हैं सबसे पहला है–

1. Hammer candlestick pattern in hindi

Hammer candlestick pattern in hindi
Hammer candlestick pattern in hindi
  • इस पैटर्न के बनते ही शेयर प्राइस ऊपर जाना शुरू हो जाता है मतलब यह एक bullish candlestick pattern है।
  • हैमर का मतलब होता है ‘हथोड़ा’ यानी यह कैंडल बिल्कुल हथौडे के आकार की होती है।
  • इस कैंडल की lower shadow बहुत लंबी होती हैं जबकि upper shadow बहुत छोटी होती है।

Hammer candlestick pattern को पहचानने के लिए आपको 4 चीजें देखना होगा–

  1. इस पैटर्न के बनने के लिए शेयर downtrend में होना चाहिए यानी शेयर प्राइस गिर रही होनी चाहिए मतलब अगर शेयर की प्राइस बढ़ रही है तो वह हैमर कैंडल नहीं होगी।
  2. Hammer candle की upper shadow या तो बहुत छोटी होनी चाहिए या फिर नहीं होनी चाहिए और lower shadow की लंबाई body से कम से कम 2 गुना बड़ी होनी चाहिए।
  3. Hammer candle लाल या हरी किसी भी रंग की हो सकती है मतलब color मायने नहीं रखता लेकिन अगर Green है तो ज्यादा valid signal माना जाता है क्योंकि यह bullish signal देता है।
  4. Hammer candle बनने के बाद जो अगली कैंडल बनती है वह हैमर कैंडल से ऊपर close होनी चाहिए लेकिन अगर वह हैमर कैंडल के नीचे close होती है तो हम इसे हैमर कैंडलस्टिक पेटर्न नहीं मानेंगे।

तो अगर ऊपर बताई गई चारों चीजें पूरी होती है तो इसका मतलब है कि वह एक valid ‘हैमर कैंडलस्टिक पेटर्न‘ है और इसके बनते ही trend रिवर्स हो सकता है मतलब अब तक शेयर प्राइस लगातार गिर रही थी और अब इस पैटर्न के बनते ही शेयर प्राइस बढ़ना शुरू हो जाएगी।

हैमर कैंडलस्टिक पेटर्न एक Reversal candlestick pattern है क्योंकि इस कैंडल के बनते ही प्राइस reverse होना शुरू हो जाता है।

अब सवाल आता है कि हैमर पेटर्न बनने पर आपको ट्रेड कैसे और कहां पर करना है?

  • तो Downtrend में हैमर कैंडल बनने के बाद अगर अगली कैंडल इससे ऊपर close होती है तभी आपको ट्रेड करना है। आपका entry point अगली कैंडल का high होगा और stop loss हैमर कैंडल का low होगा।

तो इस प्रकार आप Hammer candlestick pattern को ट्रेड कर सकते हैं।

अब बढ़ते हैं दूसरे कैंडलेस्टिक पेटर्न की ओर जिसका नाम है–

2. Hanging man candlestick pattern in hindi

Hanging Man candlestick pattern in hindi
Hanging Man candlestick pattern in hindi

Hanging man कैंडलेस्टिक पेटर्न देखने में तो बिल्कुल hammer की तरह लगता है लेकिन यह bearish सिग्नल देता है मतलब इस पैटर्न के बनने के बाद शेयर प्राइस नीचे गिर सकती है। अतः यह एक bearish candlestick pattern है।

Hanging man candlestick pattern को पहचानने के लिए भी आपको 4 चीजें देखना होगा–

  1. शेयर प्राइस uptrend में होना चाहिए मतलब शेयर की प्राइस बढ़ रही होनी चाहिए जबकि हैमर पैटर्न में शेयर प्राइस गिर नहीं होनी चाहिए थी और शेयर downtrend में होना चाहिए था।
  2. इसमें भी हैमर की तरह candle की upper shadow छोटी होनी चाहिए और lower shadow की लंबाई body के 2 गुने से बड़ी होनी चाहिए।
  3. Hanging man कैंडल भी लाल या हरी किसी भी color की हो सकती है लेकिन अगर red है तो ज्यादा valid signal माना जाता है क्योंकि यह bearish signal देता है।
  4. Hammer candle बनने के बाद जो अगली कैंडल बनती है वह हैंगिंग मैन कैंडल के नीचे बनना चाहिए।

तो अगर ऊपर बताई गई चारों conditions पूरी होती है तो इसका मतलब है कि वह एक valid ‘हैंगिंग मैन कैंडलस्टिक पेटर्न‘ है और इसके बनते ही trend रिवर्स हो सकता है मतलब अब तक जो शेयर प्राइस लगातार बढ़ रही थी और अब इस पैटर्न के बनते ही शेयर प्राइस गिरना शुरू हो जाएगी।

  • Hanging man कैंडलस्टिक पेटर्न भी एक Reversal candlestick pattern है क्योंकि इस कैंडल के बनते ही प्राइस reverse होना शुरू हो जाता है।

अब बात आती है कि हैंगिंग मैन कैंडलस्टिक पेटर्न बनने पर आपको ट्रेड कैसे और कहां पर करना है?

  • तो uptrend में hanging man कैंडल बनने के बाद अगर अगली कैंडल इससे नीचे close होती है तभी आपको ट्रेड करना है। आपका entry point अगली कैंडल का low होगा और stop loss हैंगिंग मैन कैंडल का high होगा।

तो इस प्रकार आप Hanging man candlestick pattern को ट्रेड कर सकते हैं।

3. Inverted hammer candlestick pattern in hindi

Inverted Hammer candlestick pattern in hindi
Inverted Hammer candlestick pattern in hindi
  • इनवर्टेड हैमर का मतलब होता है ‘उल्टा हथोड़ा’ इसका काम बिल्कुल हैमर पैटर्न जैसा ही है।
  • फर्क सिर्फ इतना है कि hammer pattern में lower shower लंबी होती है
  • और Inverted hammer में upper shadow बॉडी से 2 गुना लंबी होती है तभी वह एक उल्टे हथौडे जैसा दिखता है।

Inverted hammer candlestick pattern को पहचानने के लिए आपको ये चीजें देखना होगा–

  1. शेयर downtrend में होना चाहिए मतलब शेयर प्राइस गिर रही होनी चाहिए। यही same condition हैमर पैटर्न में भी थी।
  2. Inverted Hammer candle भी लाल या हरी किसी भी रंग की हो सकती है मतलब color मायने नहीं रखता
  3. लेकिन अगर Green है तो ज्यादा valid signal माना जाता है क्योंकि यह bullish candlestick pattern है।
  4. Inverted hammer candle बनने के बाद जो अगली कैंडल बनती है वह इस कैंडल से ऊपर बननी चाहिए।

अगर ऊपर दी गई conditions पूरी होती हैं तो इसका मतलब है कि वह एक valid ‘inverted hammer’ है जो bullish signal देता है मतलब इसके बनने के बाद शेयर प्राइस बढ़ सकती है।

इस कैंडलस्टिक पैटर्न के बनने पर भी downtrend, uptrend में बदल जाता है मतलब trend रिवर्स हो जाता है इसीलिए यह एक reversal candlestick pattern है।

अगर entry की बात करें तो इनवर्टेड हैमर कैंडल के बाद जो अगली कैंडल बनती है उसके high पर आप buy कर सकते हैं और stop loss इनवर्टेड हैमर कैंडल के low पर लगा सकते हैं।

4. Shooting star candlestick pattern in hindi

Shooting star candlestick pattern in hindi
Shooting star candlestick pattern in hindi
  • Shooting star कैंडलेस्टिक पेटर्न एक बियरिश पैटर्न है क्योंकि इसके बनते ही शेयर प्राइस गिरने लगती है।
  • यह दिखने में inverted hammer जैसी ही दिखाई देती है।
  • लेकिन फर्क सिर्फ इतना है कि यह uptrend में बनती है और bearish signal देती है
  • जबकि इनवर्टेड हैमर downtrend में बनती है और बुलिश सिग्नल देती है।

शूटिंग स्टार कैंडलस्टिक पेटर्न बनने के लिए आपको इन चीजों को देखना होगा–

  1. स्टॉक uptrend में होना चाहिए मतलब शेयर की प्राइस बढ़ रही होनी चाहिए।
  2. Shooting star में upper shadow लंबी होनी चाहिए और lower shadow ना के बराबर होनी चाहिए बिल्कुल इनवर्टेड हैमर की तरह।
  3. शूटिंग स्टार कैंडल red भी हो सकती है और green भी लेकिन अगर red है तो ज्यादा valid सिग्नल माना जाता है क्योंकि Shooting star एक bearish candlestick pattern है।
  4. इस कैंडल के बनने के बाद जो अगली कैंडल बनेगी वह शूटिंग स्टार कैंडल से नीचे बननी चाहिए।

अगर ऊपर दी गई चारों कंडीशन पूरी होती है तो आप शेयर को बेच सकते हैं या short sell कर सकते हैं।

इसमें आपको जो शूटिंग स्टार कैंडल बनेगी उसकी अगली candle में एंट्री लेना होगा और स्टॉपलॉस शूटिंग स्टार कैंडल का high होगा।

5. Morning star candlestick pattern in hindi

Morning star candlestick pattern in hindi
Morning star candlestick pattern in hindi
  • Morning star एक Three candlestick pattern है यानी कि यह तीन कैंडल को मिलाकर बनता है।
  • यह कैंडलस्टिक पेटर्न bullish सिग्नल देता है मतलब इस पैटर्न के बनने के बाद शेयर प्राइस बढ़ने के चांसेस होते हैं।

जब भी stock downtrend में होता है और downtrend में ही एक बड़ी red candle बनती है और इस रेड कैंडल के बाद एक छोटी body वाली candle बनती है जिसका color कोई भी हो सकता है। और इनके बाद एक बड़ी green candle बनती है जो पहली रेड कैंडल के बराबर या उससे बड़ी होनी चाहिए तो जब ऐसा पैटर्न बनता है तो उसे हम Morning star candlestick pattern कहते हैं।

  • इस पैटर्न के बनने के बाद शेयर प्राइस बढ़ना शुरू हो सकती है इसलिए आप चाहे तो buy कर सकते हैं। अगर इस पैटर्न में जो तीसरी green candle बने अगर वह अधिक वॉल्यूम के साथ बनती है तो यह कैंडल स्टिक पेटर्न ज्यादा effective होता है

मतलब इसके बाद बहुत ज्यादा चांसेस हो जाते हैं कि शेयर प्राइस बढ़ने वाली है तो आप यहां पर शेयर खरीदकर प्रॉफिट कमा सकते हैं।

Morning star candlestick pattern बनने के लिए नीचे दी गई कंडीशन पूरी होना जरूरी है–

  1. Stock downtrend में होना चाहिए
    downtrend में ही एक बड़ी लाल कैंडल बननी चाहिए
  2. और उसके बाद दूसरी कैंडल एक small body और बराबर upper और lower shadow वाली कैंडल बननी चाहिए
  3. फिर तीसरी कैंडल पहले वाली कैंडल के बराबर साइज की या उससे बड़ी बननी चाहिए और तीसरी कैंडल का रंग हरा होना चाहिए।

अगर ऊपर बताए गए तीनों कंडीशन पूरी होती हैं तो आप कंफर्म हो सकते हैं कि यह एक Morning star candlestick pattern है और यहां पर आप entry ले सकते हैं।

तीसरी बड़ी green कैंडल बनने के बाद उसके ऊपर जो कैंडल बनेगी उसमें आप एंट्री ले सकते हैं और आपका स्टॉप लॉस बीच वाली छोटी कैंडल का lowest point होना चाहिए।

6. Evening star candlestick pattern in hindi

Evening star candlestick pattern in hindi
Evening star candlestick pattern in hindi
  • Evening star कैंडलेस्टिक पेटर्न मॉर्निंग स्टार का बिल्कुल उल्टा है।
  • यह बियरिश सिग्नल देता है मतलब इस पैटर्न के बनने के बाद शेयर प्राइस गिरना शुरू हो सकती है।

इस पैटर्न में आप देखेंगे कि जब भी शेयर uptrend में होता है और एक बड़ी green candle बनती है फिर एक छोटी candle बनती है फिर एक बड़ी red candle बनती है जो पहली वाली green candle के बराबर या उससे बड़ी होती है तो उसे Evening star candlestick pattern कहा जाता है।

इस पैटर्न के बनने के बाद बहुत चांसेस होते हैं कि शेयर प्राइस गिर सकती है इसीलिए आप शॉर्ट सेल करके पैसा कमा सकते हैं।

Evening star candlestick pattern बनने के लिए नीचे दी गई कंडीशन पूरी होनी चाहिए–

  1. स्टॉक uptrend में होना चाहिए।
    Uptrend में एक बड़ी green candle बननी चाहिए और उसके बाद एक छोटी कैंडल बनना चाहिए फिर एक बड़ी red candle बननी चाहिए।
  2. ध्यान रखिए– दूसरी छोटी कैंडल की दोनों shadow बराबर होनी चाहिए और यह कैंडल (लाल या हरी) किसी भी color की हो सकती है मतलब color मायने नहीं रखता और तीसरी कैंडल का साइज पहली कैंडल के बराबर या उससे बड़ा होना चाहिए।

अगर यह तीनों कंडीशन पूरी होती है तो आप कंफर्म हो सकते हैं कि वह एक Evening star कैंडलस्टिक पेटर्न है जिसके बनते ही आप शार्ट सेल करके प्रॉफिट कमा सकते हैं।

Evening star कैंडलस्टिक पेटर्न को trade करने के लिए आपको तीसरी कैंडल के बाद वाली कैंडल में entry करना है और आपका stop loss छोटी कैंडल के highest point पर होगा।

Doji candlestick pattern in hindi

Doji candlestick तब बनती है जब किसी टाइम फ्रेम में शेयर का प्राइस जहां से open होता है वहीं पर जाकर close हो जाता है भले ही बीच में प्राइस कितना भी ऊपर नीचे क्यों ना हुआ हो।

Doji candlestick pattern बुलिश और बियरिश दोनों प्रकार का होता है. Bullish Pattern को हम Dragonfly doji candlestick pattern कहते हैं और Bearish pattern को हम Gravestone Doji candlestick pattern कहते हैं।

Standard Doji candle आपको (+) के आकार की दिखती है इसमें upper shadow और lower shadow की लंबाई बराबर होती है। Standard Doji uptrend या downtrend दोनों में काम करता है।

  • अगर Standard Doji कैंडल uptrend में बनता है तो यह bearish reversal का संकेत है मतलब प्राइस नीचे जा सकता है और अगर Standard Doji कैंडल downtrend में बनता है तो यह bullish reversal का संकेत है मतलब प्राइस ऊपर जा सकता है।

7. Dragonfly doji candlestick pattern in hindi

Dragonfly doji candlestick pattern in hindi
Dragonfly doji candlestick pattern in hindi

ड्रैगनफ्लाई डोजी को हम long legged doji भी कहते है क्योंकि इसका lower shadow काफी लंबा होता है। इसमें बहुत छोटा सा body ऊपर की साइड होता है।

इस कैंडल के open होते ही sellers प्राइस को नीचे ले जाते हैं लेकिन कैंडल close होने से पहले ही buyers प्राइस को ऊपर उसी लेवल के आसपास ले जाते हैं जहां यह कैंडल ओपन हुआ था।

Dragonfly doji candlestick pattern बनने की पोजीशन के अनुसार इसे अलग अलग तरीके से ट्रेड किया जाता है।

  • अगर Dragonfly doji कैंडल uptrend में बनती है तो इसे hanging man pattern की तरह ट्रेड किया जाएगा।
  • और अगर यह कैंडल downtrend में बनती है तो इसे hammer pattern की तरह ट्रेड किया जाएगा।

8. Gravestone doji candlestick pattern in hindi

Gravestone doji candlestick pattern in hindi
Gravestone doji candlestick pattern in hindi

Gravestone doji का upper shadow लंबा होता है और बॉडी नीचे की ओर बहुत छोटी होती है। इसमें हल्का से lower shadow भी हो सकता है।

इस कैंडल के बनने के हिसाब से इसका ट्रेडिंग साइकोलॉजी और ट्रेडिंग स्टाइल डिसाइड किया जाता है।

  • अगर यह कैंडल uptrend में बनती है तो इसे shooting star pattern की तरह ट्रेड किया जाएगा।
  • और अगर Gravestone doji कैंडल downtrend में बनती है तो इसे inverted hammer pattern की तरह ट्रेड किया जाएगा।

अब आपको पता चल रहा होगा कि कौन-कौन से कैंडलस्टिक पैटर्न को एक ही तरह से ट्रेड किया जाता है।

Engulfing candlestick pattern in hindi

Engulfing कैंडलस्टिक पेटर्न के बनने के लिए कम से कम 2 कैंडल की जरूरत पड़ती है अतः यह एक Two candlestick pattern है। इसमें एक बड़ी कैंडल दूसरी छोटी कैंडल को engulf यानी कवर कर लेती है। यह बुलिश और बियरिश दोनों प्रकार का होता है।

9. Bullish engulfing candlestick pattern in hindi

Bullish engulfing candlestick pattern in hindi
Bullish engulfing candlestick pattern in hindi

जैसा कि इसके नाम से ही पता चल रहा है कि यह बुलिश सिग्नल देता है अतः यह एक bullish candlestick pattern है।

तो जब भी मार्केट downtrend में होता है और एक red candle बनती है फिर इसके बाद एक बड़ी green कैंडल बनती है जो रेड कैंडल को पूरा कवर (engulf) कर लेती है तो इसे हम Bullish engulfing candlestick pattern कहते हैं।

  • इस पैटर्न में जो बाद वाली green कैंडल बनती है वह पिछली लाल कैंडल से नीचे ओपन होती है और इसी लाल कैंडल से ऊपर क्लोज होती है और इस प्रकार यह उस लाल कैंडल को पूरा कवर कर लेती है।

जब भी चार्ट पर Bullish engulfing कैंडलस्टिक पेटर्न दिखे तो समझ जाइए कि अब शेयर प्राइस बढ़ने वाली है मतलब आप चाहे इस पैटर्न के बनते ही उस शेयर को खरीद सकते हैं।

अगर एंट्री की बात करें तो आपको ग्रीन कैंडल के बाद जो अगली कैंडल बनती है उस पर buy करना है लेकिन ध्यान रहे अगले कैंडल ग्रीन कैंडल से ऊपर बननी चाहिए।और आपका स्टॉपलॉस ग्रीन कैंडल का lowest price होगा।

10. Bearish engulfing candlestick pattern in hindi

Bearish engulfing candlestick pattern in hindi
Bearish engulfing candlestick pattern in hindi
  • यह पैटर्न bullish engulfing का बिल्कुल विपरीत है।
  • Bearish engulfing candlestick pattern बियरिश सिग्नल देता है मतलब इस पैटर्न के बनने के बाद शेयर प्राइस गिर सकती है।

तो जब भी शेयर uptrend में चल रहा होता है मतलब शेयर प्राइस बढ़ रही होती है और कोई green कैंडल बन जाती है और इसके बाद एक red कैंडल बनती है जो ग्रीन कैंडल को पूरा कवर कर लेती है तो इस पैटर्न को Bearish engulfing कहते हैं।

  • इस कैंडलस्टिक पेटर्न में red candle की ओपनिंग प्राइस ग्रीन कैंडल से ऊपर होगी और क्लोजिंग प्राइस ग्रीन कैंडल से नीचे होगी तभी वह ग्रीन कैंडल को पूरा कवर करेगी।

Bearish engulfing candlestick pattern को ट्रेड करने की बात करें तो आपको red candle के बाद इसके नीचे जो अगली कैंडल बनेगी उस पर buy करना है और stop loss ग्रीन कैंडल का high होगा।

11. Bullish harami candlestick pattern in hindi

Bullish harami candlestick pattern in hindi
Bullish harami candlestick pattern in hindi
  • यह कैंडलस्टिक पेटर्न आपको चार्ट पर बार-बार बनते हुए दिखाई देता होगा। Bullish harami एक Two candlestick pattern है मतलब यह दो कैंडल को मिलाकर बनता है।
  • जैसा कि इसके नाम से ही पता चल रहा है कि यह एक bullish candlestick pattern है इसलिए इसके बनने के बाद शेयर प्राइस ऊपर जा सकती है।

Bullish harami candlestick pattern को पहचानने के लिए आपको देखना होगा कि–

  1. स्टॉक downtrend में होना चाहिए यानी कि शेयर प्राइस गिर रही होनी चाहिए।
  2. Downtrend में एक बड़ी red candle बननी चाहिए और उस बड़ी रेड सैंडल के बाद एक छोटी green candle बनना चाहिए।
  3. जो रेड कैंडल के बाद अगली ग्रीन कैंडल बनती है वह रेड कैंडल की बॉडी के अंदर बननी चाहिए मतलब रेड कैंडल के द्वारा ग्रीन कैंडल को पूरा कवर कर लेना चाहिए।
  4. Green candle की जो open price है वह रेड कैंडल की क्लोज प्राइस से ऊपर होनी चाहिए और Green candle की जो closing price है वह रेड कैंडल की ओपन प्राइस से नीचे होनी चाहिए। क्योंकि तभी ग्रीन कैंडल रेड कैंडल की बॉडी के अंदर बनेगी।

अगर ऊपर दी गई चारों कंडीशन पूरी होती हैं तो आप confirm हो सकते हैं कि यह एक Bullish harami candlestick pattern है।

इस पैटर्न के बनने से ट्रेंड reverse हो सकता है मतलब अब तक जो शेयर की प्राइस गिर रही थी अब वह बढ़ना शुरू हो सकती है।

अगर entry point की बात करें तो ग्रीन कैंडल के बाद जो अगर अगली कैंडल ग्रीन कैंडल से ऊपर बनेगी तो आप उसमें entry ले सकते हैं। और stop loss रेड कैंडल का lowest price होगा।

12. Bearish harami candlestick pattern in hindi

Bearish harami candlestick pattern in hindi
Bearish harami candlestick pattern in hindi
  • यह कैंडलस्टिक पेटर्न बुलिश हरामि का बिल्कुल उल्टा है।
  • जैसा कि इसके नाम से ही पता चल रहा है कि यह पैटर्न बियरिश सिग्नल देता है इसीलिए इस पैटर्न के बनने के बाद शेयर प्राइस नीचे जा सकती है।
  • मतलब एक बात तो confirm है कि इस पैटर्न के बनने के बाद आपको put खरीदना है या short sell करना है
  • तभी आप Bearish harami candlestick pattern को trade करके प्रॉफिट कमा सकते हैं।

तो दोस्तों जब भी शेयर uptrend में होता है और uptrend में ही एक बड़ी green candle बनती है और इस ग्रीन कैंडल के बाद एक छोटी red candle बनती है जो ग्रीन कैंडल की body के अंदर बनती है तो वह Bearish harami pattern होता है और बहुत चांसेस होते हैं कि इसके बाद शेयर की प्राइस गिर सकती है।

Bearish harami candlestick pattern को पहचानने के लिए आपको देखना होगा कि–

  1. स्टॉक uptrend में होना चाहिए मतलब शेयर की प्राइस बढ़ रही होनी चाहिए।
  2. Uptrend में एक बड़ी green candle बननी चाहिए और उसके बाद एक छोटी red candle बननी चाहिए।
  3. ग्रीन कैंडल के बाद जो छोटी रेट कैंडल बनी है वह ग्रीन कैंडल की बॉडी के अंदर बननी चाहिए।

अगर यह तीनों कंडीशन पूरी होती हैं तो आप कंफर्म हो सकते हैं कि वह एक Bearish harami candlestick pattern है।

और इस पैटर्न के बनते ही ट्रेंड reverse हो सकता है मतलब अब तक शेयर की प्राइस बढ़ रही थी लेकिन अब गिरना शुरू हो सकती है तो आप यहां पर शेयर बेचकर पैसा कमा सकते हैं।

छोटी red candle के बाद जो अगली कैंडल बनती है अगर वह इससे नीचे बनती है तो आप उसमें एंट्री ले सकते हैं और स्टॉप लॉस बड़ी green candle का highest point होना चाहिए।

Marubozu candlestick pattern in hindi

Marubozu candlestick में एक बड़ी strong red या green body होती है इसमें upper और lower दोनों shadow नहीं होती है। यह दो प्रकार की होती है; पहली Bullish Marubozu candlestick जो हरे रंग की होती है और दूसरी Bearish Marubozu candlestick जो लाल रंग की होती है।

अगर Marubozu candle के ऊपर नीचे आपको बहुत छोटी शैडो दिखती है तो भी इसे Marubozu candle ही माना जाएगा।

आइए अब दोनों प्रकार के Marubozu candlestick pattern के बारे में जान लेते हैं–

13. Bullish Marubozu candlestick pattern in hindi

Bullish marubozu candlestick pattern in hindi
Bullish marubozu candlestick pattern in hindi

यह हरे रंग की स्ट्रांग body वाली bullish candle होती है मतलब इसके बनते ही प्राइस ऊपर जाने लगता है। इस कैंडल के बनने का मतलब यह है कि मार्केट में buyers हावी हैं इसीलिए आज खरीदारी या स्टॉक buy करने से प्रॉफिट हो सकता है।

  • इस candle का opening price ही lowest price होता है और closing price ही highest price होता है।
  • मतलब एक बार खुलने के बाद यह कैंडल उस पॉइंट से नीचे नहीं जाती है और जहां पर बंद होती हैं वहां से ऊपर नहीं जाती है।

अगर Bullish Marubozu candle चार्ट पर downtrend में बनती है तो आप अगली कैंडल पर upside के लिए trade कर सकते हैं।

14. Bearish Marubozu candlestick pattern in hindi

Bearish marubozu candlestick pattern in hindi
Bearish marubozu candlestick pattern in hindi
  • यह लाल रंग की स्ट्रांग body वाली bearish candle होती है मतलब इसके बनते ही प्राइस नीचे जाने लगता है।
  • इस कैंडल के बनने का मतलब यह है कि मार्केट में sellers हावी हैं इसीलिए आज put खरीदने या स्टॉक short sell करने से प्रॉफिट हो सकता है।
  • इस candle का opening price ही highest price होता है और closing price ही lowest price होता है।
  • मतलब एक बार खुलने के बाद यह कैंडल उस पॉइंट से ऊपर नहीं जाती है और जहां पर बंद होती हैं वहां से नीचे नहीं गई होती है।

अगर Bearish Marubozu candle चार्ट पर uptrend में बनती है तो आप अगली कैंडल पर downside के लिए trade कर सकते हैं।

Spinning Top candlestick pattern in hindi

Spinning Top candlestick दो प्रकार की होती है: Bullish Spinning Top और Bearish Spinning Top एक कैंडलस्टिक पेटर्न में बीच में छोटी सी लाल्या फ्री बॉडी होती है और ऊपर नीचे बराबर साइज की upper और lower shadow होती हैं।

यह दोनों प्रकार के Spinning Top candlestick pattern के बारे में जान लेते हैं–

15. Bullish Spinning Top candlestick pattern in hindi

Bullish spinning top candlestick pattern in hindi
Bullish spinning top candlestick pattern in hindi

जब Spinning Top पैटर्न चार्ट के बॉटम पर बनता है तो इसे Bullish Spinning Top कहते हैं। इस कैंडलस्टिक पेटर्न के बनते ही शेयर प्राइस ऊपर जा सकती है मतलब आप इस pattern के बनते ही शेयर खरीदकर प्रॉफिट कमा सकते हैं।

लेकिन ध्यान रहे- इसमें upper और lower shadow की लंबाई बॉडी के दोगुने से ज्यादा होनी चाहिए।

16. Bearish Spinning Top candlestick pattern in hindi

Bearish spinning top candlestick pattern in hindi
Bearish spinning top candlestick pattern in hindi

जब Spinning Top पैटर्न चार्ट के top पर बनता है तो इसे Bearish Spinning Top कहते हैं। इस कैंडलस्टिक पेटर्न के बनते ही शेयर प्राइस नीचे जा सकती है। मतलब इस pattern के बनते ही आप शेयर बेचकर या put खरीदकर प्रॉफिट कमा सकते हैं।

लेकिन ध्यान रहे– इसमें भी upper और lower shadow की लंबाई बॉडी के दोगुने से ज्यादा होनी चाहिए।

17. Double Top candlestick pattern in hindi

Double Top candlestick pattern in hindi
Double Top candlestick pattern in hindi

जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि इस कैंडलस्टिक पेटर्न में दो बार टॉप या resistance बनते हैं।

इस पैटर्न में आप देखेंगे कि पहले स्टॉक प्राइस ऊपर की ओर बढ़ता है फिर किसी रेजिस्टेंस लेवल से टकराकर नीचे की ओर जाता है और फिर किसी सपोर्ट लेवल से टकराकर वापस ऊपर की ओर जाता है। इसके बाद प्राइस दोबारा उसी रेजिस्टेंस लेवल पर टकराकर वापस नीचे की ओर लौट जाता है।

तो इस प्रकार की प्राइस मूवमेंट के कारण चार्ट पर जो पैटर्न बनता है उसे हम ‘डबल टॉप कैंडलस्टिक पेटर्न‘ कहते हैं।

इस पैटर्न में 2 रेसिस्टेंस या टॉप क्रिएट हो जाते हैं इसीलिए इसे डबल टॉप बोला जाता है। यह पैटर्न चार्ट पर अंग्रेजी के अक्षर ‘M‘ के आकार का दिखता है।

Double Top candlestick pattern बताता है कि प्राइस ने दो बार ऊपर जाने की कोशिश की लेकिन बाजार में sellers हावी है जो प्राइस को नीचे ले जाना चाहते हैं। मतलब उस रेजिस्टेंस लेवल पर बहुत सारे sellers बैठे हुए हैं जो प्राइस को बार-बार गिरा देते हैं।

अब समझते हैं कि डबल टॉप कैंडलस्टिक पेटर्न बनने पर आपको एंट्री कब लेनी है–

  • जब प्राइस अपने सपोर्ट लेवल को तोड़ देता है तो यह आपके लिए ट्रेड करने का बहुत अच्छा मौका होता है ऐसे में आपको सपोर्ट लेवल के टूटते ही अगली कैंडल के low पर एंट्री लेनी चाहिए।
  • और आपका टारगेट वही होना चाहिए जो इस सपोर्ट और ऊपर रेजिस्टेंस के बीच का अंतर है।

18. Double Bottom candlestick pattern in hindi

Double bottom candlestick pattern in hindi
Double bottom candlestick pattern in hindi

यह कैंडलस्टिक पेटर्न double top का बिल्कुल उल्टा होता है। इसमें नीचे की ओर दो support बनते हैं जहां से प्राइस reverse होता है मतलब इसमें जब प्राइस 2 बार उसी रेजिस्टेंस लेवल पर टकराकर ऊपर की ओर लौट जाता है ।

इस पैटर्न में 2 सपोर्ट या बॉटम क्रिएट हो जाते हैं इसीलिए इसे डबल बॉटम बोला जाता है। यह पैटर्न चार्ट पर अंग्रेजी के अक्षर ‘W‘ के आकार का दिखता है।

ठीक इसी प्रकार जब प्राइस तीन बार same सपोर्ट लेवल से टकराकर वापस ऊपर की ओर लौट जाए तो चार्ट पर ‘ट्रिपल बॉटम कैंडलस्टिक पेटर्न‘ बनेगा।

जिस प्रकार डबल टॉप कैंडलस्टिक पेटर्न में आपने trade किया था इसमें same उसका उल्टा ट्रेड करना है।

19. Head and shoulders candlestick pattern in hindi

Head and shoulder candlestick pattern in hindi
Head and shoulder candlestick pattern in hindi

Head and shoulders candlestick pattern में आपको तीन टॉप देखने को मिलेंगे लेकिन बीच वाला टॉप ऊपर को होगा और अगल बगल वाले दोनों टॉप उससे थोड़ा नीचे होंगे. जो बीच वाला टॉप होता है वह सिर की तरह लगता है और जो अगल बगल वाले टॉप होते हैं वह कंधे की तरह लगते हैं इसीलिए इस पेटर्न को ‘हेड एंड शोल्डर कैंडलस्टिक पैटर्न‘ कहा गया है।

इसमें सबसे पहले प्राइस ऊपर की ओर जाना शुरू होता है फिर किसी रेजिस्टेंस एरिया से टकराकर नीचे चला जाता है फिर दोबारा नीचे सपोर्ट से ऊपर की ओर जाना शुरू होता है।

लेकिन इस बार पहले वाले रेजिस्टेंस एरिया से भी थोड़ा और ऊपर जाता है और फिर दोबारा गिरना शुरू होता है वह करते-करते सबसे पहले वाले सपोर्ट लेवल तक आ जाता है और फिर दोबारा ऊपर की ओर जाना शुरू होता है और अब तीसरी बार प्राइस पहले वाली रेसिस्टेंट लेवल जितना ही ऊपर जा पाता है और वापस नीचे आ जाता है।

तो इस प्रकार की प्राइस मूवमेंट की वजह से चार्ट पर हेड एंड शोल्डर पेटर्न बनते हुए दिखता है।

इस कैंडल चार्ट पैटर्न में पहले और तीसरे रेसिस्टेंट समान लेवल पर होते हैं और बीच वाला रेजिस्टेंस थोड़ा ऊपर की ओर होता है।

अब बात आती है कि हमें एंट्री कहां पर लेनी है–

  • जब नीचे सपोर्ट लेवल टूटेगा तो आप एंट्री ले सकते हैं और आपका टारगेट वही होगा जो सपोर्ट लेवल से ऊपर बीच वाले बड़े रेजिस्टेंस का अंतर है।
  • और stop loss आप 1:3 का लगा सकते हैं।

20. Piercing Line candlestick pattern in hindi

Piercing line candlestick pattern in hindi
Piercing line candlestick pattern in hindi

यह एक Two candlestick pattern है और यह bullish signal देता है मतलब इस कैंडलस्टिक पेटर्न के बनने के बाद शेयर प्राइस बढ़ना शुरू हो सकती है।

दोस्तों जब भी कोई शेयर downtrend में चल रहा होता है और कोई बड़ी red candle बन जाती है और इस red candle के बाद एक green candle बनती है जो red कैंडल से नीचे ओपन होती है लेकिन रेड कैंडल की half body के ऊपर close होती है तो यह पैटर्न Piercing Line candlestick pattern कहलाता है।

इस पैटर्न के बनने के बाद बहुत चांसेस होते हैं कि trend यहां से reverse हो सकता है मतलब अब तक जो शेयर प्राइस गिर रही थी अब वह बढ़ सकती हैं।

Piercing Line candlestick pattern बनने के लिए ये conditions पूरी होना चाहिए–

  1. शेयर downtrend में होना चाहिए।
    Downtrend में एक बड़ी red candle बननी चाहिए और इसके बाद एक green candle बननी चाहिए।
  2. green candle पहली रेड कैंडल के नीचे ओपन होना चाहिए और red candle की half body (50% body) के ऊपर close होनी चाहिए।

जब ये तीनों कंडीशन प्रॉब्लम होती है तो आप कंफर्म हो सकते हैं कि यह एक Piercing Line candlestick pattern है और आप अब buy कर सकते हैं।

Two candle के बाद के अगली कैंडल बनेगी उसमें आपको एंट्री लेना है और स्टॉप लॉस green candle के lowest प्राइस पर लगाना चाहिए।

21. Dark cloud cover candlestick pattern in hindi

Dark cloud cover candlestick pattern in hindi
Dark cloud cover candlestick pattern in hindi
  • यह Piercing Line कैंडलस्टिक पेटर्न का बिल्कुल उल्टा है।
  • यह भी two candlestick pattern है
  • लेकिन यह bearish signal देता है यानी कि इस पैटर्न के बनने के बाद शेयर प्राइस गिर सकती है।

तो दोस्तों जब भी शेयर uptrend में होता है और एक बड़ी green कैंडल बनती है और इस ग्रीन कैंडल के बाद एक red candle बनती है जो ग्रीन कैंडल के ऊपर open होती है लेकिन green candle की half body (50% body) के नीचे close होती है तो यह पैटर्न Dark cloud cover candlestick pattern कहलाता है।

डार्क क्लाउड कवर कैंडलस्टिक पेटर्न के बनने के बाद बहुत चांसेस होते हैं कि trend रिवर्स हो सकता है मतलब अभी तक शेयर की प्राइस बढ़ रही थी और अब गिर सकती है तो आप इस मौके को देखते हुए शार्ट सेल कर सकते हैं।

Dark cloud cover candlestick pattern बनने के लिए नीचे दिए कंडीशन पूरी होनी चाहिए–

  1. स्टॉक uptrend में होना चाहिए मतलब शेयर प्राइस बढ़ रही होनी चाहिए।
  2. Uptrend में एक green candle बनने के बाद एक red candle बनना चाहिए।
  3. Red candle ग्रीन कलर के ऊपर open होना चाहिए लेकिन green candle की half body के नीचे close होना चाहिए।

ये तीनों कंडीशन पूरी होने पर आप कंफर्म कर सकते हैं कि यह एक Dark cloud cover candlestick pattern है और यहां पर आप शॉर्ट सेल कर सकते हैं।

अगर entry की बात करें तो रेड कैंडल के नीचे जो अगली कैंडल बनेगी उसमें आपको एंट्री लेना है और स्टॉप लॉस रेड कैंडल का highest point होगा।

22. Flag candlestick pattern in hindi

Flag candlestick pattern in hindi
Flag candlestick pattern in hindi

यह एक continuation candlestick pattern है। continuation का मतलब होता है लगातार एक ही दिशा में चलते रहना यह पैटर्न भी कुछ इसी तरह काम करता है।

मतलब अगर शेयर प्राइस uptrend में जा रहा है तो वह ऊपर ही ज्यादा रहेगा और अगर वह downtrend में जा रहा है तो वह नीचे ही जाता रहेगा।

Flag candlestick pattern में आप देखेंगे कि एक बार शेयर प्राइस में उछाल आने के बाद वह एक range में trade करने लगता है। या तो शेयर प्राइस नीचे की ओर जाने लगता है या फिर ऊपर की ओर लेकिन यह परिवर्तन धीरे-धीरे होता है।

मतलब स्टॉक अपना पिछले low हर बार तोड़ता जाता है और एक नया low बनाता है जिससे एक flag या झंडे की आकृति का पैटर्न बनता है।

  • इस कैंडलस्टिक पेटर्न को ट्रेड करने के लिए आपको सपोर्ट और रेजिस्टेंस पर ब्रेकआउट का इंतजार करना होगा जिस तरफ ब्रेकआउट होता है उसी तरफ आपको ट्रेड करना है।

ये भी पढ़ें,

  • Technical Analysis in hindi (टेक्निकल एनालिसिस क्या होती है और टेक्निकल एनालिसिस कैसे करते हैं उदाहरण सहित पूरी जानकारी)
  • Trading Meaning in hindi (ट्रेडिंग क्या है ट्रेडिंग कैसे सीखें और शेयर मार्केट में ट्रेडिंग कैसे करें पूरी जानकारी)
  • Option Trading in hindi (ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है, कैसे करते हैं और शेयर मार्केट में ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं विस्तार से जानकारी)

कैंडलस्टिक पेटर्न कैसे स्टडी करें?

How to study candlestick pattern in hindi: कैंडलस्टिक पेटर्न को स्टडी करने के लिए आपको अलग-अलग प्रकार की बुलिश और बियरिश स्कैंडल के बारे में जानना होगा। साथ ही टेक्निकल एनालिसिस और शेयर मार्केट चार्ट पेटर्न को study करना होगा। इसके अलावा ऊपर बताए गए सभी types के कैंडलस्टिक पेटर्न को बारीकी से समझना होगा।

मेरा सुझाव यह है कि अगर आप ट्रेडिंग में एक beginner हैं तो पहले आपको यह जानना होगा कि candles कितने प्रकार की होती हैं और कौन सी कैंडल क्या बताती है।

हालांकि आप इतना तो जान ही चुके होंगे कि अगर bullish candle बनती है तो प्राइस ऊपर जाएगा और bearish candle बनती है तो प्राइस नीचे जाएगा। लेकिन कैंडलस्टिक पेटर्न को अच्छे से स्टडी करने के लिए आपको candlestick के प्रकार को बारीकी से समझना होगा।

कैंडलस्टिक चार्ट पैटर्न कैसे पढ़ें

How to read candlestick pattern in hindi: कैंडलस्टिक चार्ट पैटर्न पढ़ने के लिए आपको सभी single, double और triple कैंडल स्टिक पैटर्न का अभ्यास करना होगा। शुरुआत में आप टेक्निकल एनालिसिस के द्वारा प्राइस मूवमेंट को बारीकी से समझें। साथ ही ब्रेकआउट और ब्रेकडाउन के समय एंट्री किस प्रकार लेते हैं इसके बारे में भी पढ़ें।

कैंडलस्टिक पेटर्न कैसे सीखें?

जैसा कि मैंने बताया कैंडलेस्टिक पेटर्न को सीखने के लिए आपको कैंडलस्टिक के प्रकार सीखना होगा केवल तभी आपके बेसिक्स क्लियर होंगे। जब आप निरंतर अलग-अलग कैंडलस्टिक के बारे में सीखते जाएंगे तो आपको अलग-अलग समयावधि पर प्राइस मूवमेंट किस प्रकार होता है इसमें आपकी अच्छी पकड़ हो जाएगी।

कैंडलस्टिक पेटर्न को कैसे समझें?

कैंडलस्टिक पेटर्न को समझने के लिए आपको बाजार के ट्रेंड का एनालिसिस करना होगा। यह समझना होगा कि अगर कोई कैंडल downtrend में चार्ट के बॉटम पर बनती है तो वह शेयर प्राइस बढ़ने का संकेत है। और अगर कोई कैंडल uptrend में चार्ट के टॉप पर बनती है तो वह स्टॉक प्राइस गिरने का संकेत है।

Candlestick Pattern video in hindi

इस वीडियो में सबसे बेसिक कैंडलस्टिक पेटर्न के बारे में बताया है जो आपको चार्ट पर बार-बार बनते हुए दिखाई देते हैं. इसके अलावा इस वीडियो में इन सभी patterns को ट्रेड करने के बारे में भी जानकारी दी गई है।

Candlestick chart pattern in hindi ‘FAQ’

ट्रेडिंग में बेस्ट कैंडलस्टिक पेटर्न कौन सा है?

ट्रेडिंग करते समय अगर मार्केट ऊपर जाता है तो कैंडलस्टिक पेटर्न बेस्ट है और अगर मार्केट नीचे जाता है तो चार्ट पर बियरिश कैंडलेस्टिक पेटर्न बनना बेस्ट होता है।

सबसे अच्छा बुलिश कैंडलस्टिक पेटर्न कौन सा है?

वैसे तो बड़े कैंडलस्टिक पेटर्न बहुत सारे हैं जैसे; हैमर, इनवर्टेड हैमर, ड्रैगनफ्लाई डोजी, बुलिश स्पिनिंग टॉप, बुलिश मारुबोजू आदि लेकिन bullish marubozu कैंडलस्टिक पेटर्न सबसे ज्यादा अच्छा और strong pattern होता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छा कैंडलस्टिक पेटर्न कौन सा है?

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए शूटिंग स्टार कैंडलेस्टिक पेटर्न सबसे अच्छा माना जाता है।

स्विंग ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छा कैंडलस्टिक पेटर्न कौन सा है?

स्विंग ट्रेडिंग के लिए Spinning Top और Engulfing कैंडलेस्टिक पेटर्न बेस्ट होते हैं।

इस लेख में मैंने आपको candlestick pattern in hindi समझाने की कोशिश की है जिसमें आपने जाना कि कैंडलस्टिक पैटर्न कितने प्रकार के होते हैं, बुलिश और बियरिश कैंडलस्टिक पेटर्न कौन-कौन से हैं और किस पैटर्न को कब ट्रेड करना चाहिए।

मेरा हमेशा से प्रयास रहता है कि अपने रीडर्स को प्रत्येक टॉपिक से संबंधित पूरी जानकारी विस्तार से दी जाए. मैं उम्मीद करता हूं आपको कैंडलस्टिक पैटर्न (Share Market candlestick pattern in hindi) के बारे में यह पोस्ट उपयोगी लगी होगी.

ये भी पढ़ें,

अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

5/5 - (11 votes)
Deepak SenAbout Author
मेरा नाम दीपक सेन है और मैं इस ब्लॉग का Founder हूं। यहां पर मैं अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से शेयर मार्केट, निवेश और फाइनेंस से संबंधित उपयोगी जानकारी शेयर करता हूं। ❤️

Leave a Comment