इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे सीखें? How to Learn Intraday Trading in Hindi

जानिए इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे सीखे, इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने में कितने दिन का समय लगता है और इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने के लिए क्या करना पड़ता है?

क्या इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने के लिए कोई कोर्स करना पड़ता है या फिर ऑनलाइन वीडियोस देखकर या बुक्स पढ़कर भी इंट्राडे ट्रेडिंग सीखी जा सकती है.

अगर आप एक शुरुआती beginner हैं और जानना चाहते हैं कि इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने की शुरुआत कैसे करें तो यह पोस्ट आपके लिए है.

क्योंकि आज मैं आपको बताऊंगा कि- Intraday Trading kaise sikhe in hindi (How to learn intraday trading in hindi), इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने के लिए क्या करना होगा, इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

तो चलिए जानते हैं–

इस पोस्ट में आप जानेंगे-

इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे सीखें?

इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे सीखें, Intraday trading kaise sikhe in hindi
Intraday trading kaise sikhe in hindi

इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने के लिए आपको टेक्निकल एनालिसिस, मूविंग एवरेज, प्राइस एक्शन, तकनीकी इंडिकेटर्स, चार्ट एनालिसिस और कैंडलस्टिक पेटर्न का ज्ञान होना चाहिए। इसके अलावा आप इंट्राडे ट्रेडिंग की किताबें पढ़कर और ऑनलाइन वीडियोस देख कर भी इंट्राडे ट्रेडिंग सीख सकते हैं।

लेकिन आज मैं आपको इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने के लिए जो तरीके बताने वाला हूं उनके लिए आपको पिछले किसी भी अनुभव की जरूरत नहीं है। मतलब अगर आप ट्रेडिंग में बिल्कुल नए हैं तो भी आपको यह पता चल जाएगा कि इंट्राडे ट्रेडिंग के सभी कांसेप्ट को एक-एक करके कैसे सीखा जा सकता है।

नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करके आप इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने की शुरुआत कर सकते हैं. आइए अब इनके बारे में एक-एक करके जान लेते हैं–

1. इंट्राडे ट्रेडिंग के बेसिक फंडामेंटल सीखें

इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने का सबसे पहला स्टेप है बेसिक चीजों को सीखना. क्योंकि जब तक आपको basics क्लियर नहीं होंगे तब तक आप इंट्राडे ट्रेडिंग से प्रॉफिट नहीं कमा सकते.

🔥 Whatsapp Group👉 अभी जुड़ें
🔥 Telegram Group👉 अभी जुड़ें

आपको बता दें कि इंट्राडे ट्रेडिंग में 90% लोग पहले 90 दिन में अपना 90% पैसा गवा देते हैं.

इसका कारण यह है कि लोग सीखना नहीं चाहते बल्कि सीधा बिना कुछ सीखें इंट्राडे ट्रेडिंग करने कूद जाते हैं। जबकि आपको पता होना चाहिए कि ट्रेडिंग एक zero-sum गेम है जिसमें एक व्यक्ति को नुकसान होता है तो इसका मतलब है कि दूसरे का फायदा हुआ है.

अगर basics of Intraday trading की बात करें तो आपको नीचे दी गई चीजें पता होना चाहिए–

  1. इंट्राडे ट्रेडिंग में कभी भी अपना पूरा कैपिटल मत लगाएं।
  2. लोग इसीलिए इंट्राडे ट्रेडिंग करते हैं क्योंकि उन्हें इसमें कम समय में अधिक प्रॉफिट कमाने का मौका मिलता है लेकिन आपको इसके रिस्क को ध्यान में रखना चाहिए.
  3. इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय कभी भी इलिक्विड स्टॉक में ट्रेड मत करें मतलब ऐसे शेयर जिनमें daily सर्किट लग रहे हों, या जिनमें buyers और sellers बहुत कम है और उनको ऑपरेटर के द्वारा ही ऊपर नीचे किया जा रहा है ऐसे स्टॉक से दूर रहें।
  4. Intraday में आपको कम पैसों में अधिक शेयर खरीदने का मौका मिलता है क्योंकि आपका ब्रोकर आपको कुछ मार्जिन यानी लिवरेज देता है. इसे आप डिस्काउंट समझ सकते हैं। लेकिन ध्यान रखिए- इसमें जोखिम भी उतना ही ज्यादा है इसलिए जब तक आप कन्फर्म ना हो तब तक अधिक मार्जिन लेकर ट्रेड मत करें।
  5. इंट्राडे ट्रेडिंग में अधिक रिस्क इसलिए है क्योंकि इसमें आपको उसी दिन शेयर खरीदकर बेचना पड़ता है। ऐसे में अगर शेयर प्राइस नहीं बढ़ता है तो आपको loss हो सकता है।
  6. इंट्राडे ट्रेडिंग में आप ना सिर्फ शेयर प्राइस बढ़ने पर प्रॉफिट कमा सकते हैं बल्कि शेयर प्राइस गिरने पर भी प्रॉफिट कमा सकते हैं. इसके लिए आपको पहले उस शेयर को बेचना होगा, मतलब short sell करना होगा फिर जब शेयर प्राइस गिरेगा तो आपको मुनाफा होगा।
  7. इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय 15 मिनट टाइम फ्रेम चार्ट पर ही एनालिसिस करना चाहिए जोकि इंट्राडे के लिए बेस्ट टाइमफ्रेम है।
  8. शेयर बाजार बंद होने से पहले अपनी सभी पोजीशन square off कर दें. वरना आपको square off चार्जेस देने पड़ सकते हैं।

अगर आप intraday trading में एक beginner है तो आपको ऊपर दिए गए पॉइंट्स को ध्यान में रखना चाहिए। जब आप इन सभी बातों के बारे में अच्छे से विचार कर लें तब आपको इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने के अगले स्टेप पर बढ़ना चाहिए जोकि है–

2. इंट्राडे चार्ट पेटर्न और टेक्निकल एनालिसिस करना सीखें

इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने का दूसरा कदम है टेक्निकल एनालिसिस और चार्ट पेटर्न का अध्ययन करना. हर प्रकार की ट्रेडिंग में टेक्निकल रिसर्च की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है।

जब आप इंट्राडे में ट्रेड करते हैं तो आपको फंडामेंटल एनालिसिस की कोई जरूरत नहीं होती मतलब जो स्टॉक आपने खरीदा है–

  • वह कंपनी क्या करती है,
  • कितना पैसा कमाती है,
  • उसका बिजनेस मॉडल क्या है,
  • कंपनी का शेयर होल्डिंग पेटर्न क्या है,
  • या फिर कंपनी के फ्यूचर प्लान क्या हैं इन सब से आपको कुछ लेना देना नहीं होता.

क्योंकि फंडामेंटल रिसर्च एक long term गेम है जबकि इंट्राडे ट्रेडिंग एक शॉर्ट टर्म में पैसे कमाने का जरिया है, इसलिए इंट्राडे में फंडामेंटल एनालिसिस का कोई रोल नहीं है अगर आप इसमें प्रॉफिट कमाना चाहते हैं तो आपको टेक्निकल एनालिसिस की जानकारी होनी चाहिए।

टेक्निकल एनालिसिस के अंतर्गत आपको स्टॉक का चार्ट पेटर्न देखना आना चाहिए।

आपको यह समझ आना चाहिए कि चार्ट पर किस प्रकार के पैटर्न बन रहे हैं और उनको देखकर हमें किस दिशा में ट्रेड करना है. मतलब शेयर प्राइस किस दिशा में जा सकता है इसका पता लगाने के लिए आपको चार्ट एनालिसिस करना होगा।

इसके लिए आपको अलग-अलग प्रकार के चार्ट पेटर्न के बारे में पढ़ना होगा और उनमें कहां पर सपोर्ट और रेसिस्टेंट होते हैं, कहां पर टारगेट और stop-loss लगाना चाहिए और स्टॉक के प्राइस में ब्रेकआउट होने पर कैसे प्रॉफिट कमाते हैं, इन सब के बारे में सीखना चाहिए।

3. टेक्निकल इंडिकेटर्स के बारे में जाने

हर एक इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने वाले व्यक्ति को टेक्निकल इंडिकेटर की जानकारी होनी चाहिए. क्योंकि आजकल बहुत सारे प्रोफेशनल ट्रेडर्स सिर्फ टेक्निकल इंडिकेटर्स की मदद से इंट्राडे ट्रेडिंग करके हर दिन लाभ कमा रहे हैं।

  • इन्हें हिंदी में ‘तकनीकी संकेतक’ बोला जाता है। संकेतक का मतलब है यह आपको शेयर प्राइस बढ़ने या घटने का संकेत देता है।
  • कुछ टेक्निकल इंडिकेटर्स इस प्रकार हैं– RSI, MACD, बॉलिंगर बैंड, मूविंग एवरेज, VWAP आदि।
  • ये सभी इंडिकेटर्स शेयर प्राइस के पास्ट परफॉर्मेंस के आधार पर फ्यूचर प्रिडिक्शन करते हैं और आपको बताते हैं कि आने वाले समय में शेयर प्राइस कितना ऊपर या नीचे जा सकता है।

देखा जाए तो इंडिकेटर्स का अनुमान काफी हद तक सही होता है और यही कारण है कि शेयर बाजार में सालों से लोग इन इंडिकेटर्स के बेस पर ही ट्रेडिंग कर रहे हैं।

तो अगर आप भी इन सभी टेक्निकल इंडिकेटर्स में महारथ हासिल कर लें तो आप इंट्राडे ट्रेडिंग करके daily profit कमा सकते हैं।

4. इंट्राडे में सही स्टॉक सिलेक्ट करना सीखें

इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे सीखें, इसका अगला कदम है सही स्टॉक सिलेक्ट करना. अगर आपने गलत शेयर चुन लिया तो आपको इंट्राडे में बहुत बड़ा loss हो सकता है।

कुछ शेयर ऐसे होते हैं जिनमें लिक्विडिटी बहुत कम होती है मतलब उनमें ट्रेडिंग वॉल्यूम काफी कम होता है.

जिसकी वजह से अगर कोई इन्वेस्टर उस शेयर बड़ी क्वांटिटी खरीदता है तो अचानक से उसका शेयर प्राइस बढ़ जाता है और अगर कोई बड़ी क्वांटिटी में एक साथ शेयर बेचता है तो शेयर प्राइस बहुत तेजी से गिरने लगता है।

और अगर आपने किसी ऐसे स्टॉक तो खरीद रखा है तो आप उस में फंस सकते हैं। आपको समझ भी नहीं आएगा कि आपके साथ ऐसा क्यों हुआ है जिससे आप को भारी नुकसान झेलना पड़ सकता है।

इसलिए मैं आपको सलाह दूंगा कि एक ऐसा स्टॉक सेलेक्ट करें जिसमें buying और selling पर्याप्त मात्रा में हो रही हो.

अब सवाल आता है कि आपको कैसे पता चलेगा कि कौन सा शेयर कितना लिक्विड है और इंट्राडे में हमें किस प्रकार के शेयर ट्रेडिंग करना चाहिए जिससे हम अधिक से अधिक पैसा कमा सकें।

तो आपको बता दें अगर आप beginner हैं तो आपको Nifty Next 100 या Nifty Next 200 शेयरों में intraday trading करना चाहिए। इन स्टॉक्स में लिक्विडिटी और मोमेंटम दोनों अच्छे खासे होते हैं इसीलिए आपको daily basis पर profitable trades देखने को मिल जाते हैं।

5. इंट्राडे ट्रेडिंग की किताबें पढ़ें

इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने का अगला चरण है intraday trading की books पढ़ना. अगर आपको बिल्कुल शुरू से अंत तक इंट्राडे ट्रेडिंग के बारे में सब कुछ सीखना है तो आपको सफल ट्रेडर्स के द्वारा लिखी गई किताबें पढ़ना चाहिए।

ऑनलाइन कोर्स और वीडियोस के माध्यम से आप उतना नहीं सीख सकते जितना आप को किताबों में सीखने को मिलता है। इंट्राडे ट्रेडिंग पर भी आज तक ऐसी काफी किताबें लिखी जा चुकी हैं इनको पढ़कर आप काफी सारी इंट्राडे ट्रेडिंग स्ट्रैटेजिस सीख सकते हैं और रोजाना पैसे कमा सकते हैं।

कुछ बेहतरीन इंट्राडे ट्रेडिंग की किताबों के नाम नीचे दिए गए हैं जिन को पढ़कर आप इंट्राडे ट्रेडिंग सीख सकते हैं–

  • इंट्राडे ट्रेडिंग की पहचान
  • ट्रेडनीति
  • टेक्निकल एनालिसिस और कैंडलस्टिक की पहचान

इन किताबों में आपको सफल इंट्राडे ट्रेडर्स के सीक्रेट और बहुत सारी टिप्स मिलेंगी जिनको अप्लाई करके आप खुद इंट्राडे ट्रेडिंग करके अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते हैं।

6. सफल इंट्राडे ट्रेडर्स को फॉलो करें

इंट्राडे ट्रेडिंग को सीखने का सबसे अच्छा तरीका है उन लोगों से सीखना जो इस फील्ड में एक्सपर्ट है और जो वास्तव में intraday trading पैसा कमा रहे हैं।

आपको सोशल मीडिया पर ऐसे बहुत सारे इंट्राडे ट्रेडर्स मिल जाएंगे जो दिन का लाखों रुपए कमाते हैं और इसके बहुत सारे प्रूफ मौजूद हैं। यह लोग इतना पैसा इसलिए कमा पाते हैं क्योंकि उन्हें ट्रेडिंग में सालों का अनुभव होता है।

अगर आप भी इन लोगों के अनुभव से सीखेंगे तो धीरे-धीरे आप भी इंट्राडे ट्रेडिंग में प्रॉफिट कमाना शुरू कर देंगे।

सफल ट्रेडर्स अपने ट्विटर हैंडल पर रोजाना कुछ ना कुछ स्ट्रैटेजिस और कारगर टिप्स शेयर करते रहते हैं जिनको अपनी ट्रेडिंग जर्नी में अप्लाई करके आप भी रोज प्रॉफिट कमा सकते हैं।

इसके अलावा यूट्यूब पर भी आपको बहुत सारे ऐसे चैनल्स मिल जाएंगे जो इंट्राडे ट्रेडिंग को काफी अच्छे से सिखाते हैं और आप चाहे तो उन चैनल्स के माध्यम से भी इंट्राडे ट्रेडिंग को सीख सकते हैं।

लेकिन ध्यान रहे– जिस भी व्यक्ति से आप सीख रहे हैं उसके बैकग्राउंड के बारे में थोड़ा बहुत पता कर ले कहने का मतलब है कि किसी भी फ्रॉड व्यक्ति से कभी मत सीखें जो सिर्फ टिप्स देने के नाम पर आपसे पैसे वसूलने की कोशिश करता है।

7. पेपर ट्रेडिंग की प्रैक्टिस करें

इंट्राडे ट्रेडिंग को बिना किसी के सीखने का सबसे अच्छा तरीका है पेपर ट्रेडिंग से शुरुआत करना. पेपर ट्रेडिंग या वर्चुअल ट्रेडिंग में आप लाइव मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग करते हैं और अपने profit और loss को एनालाइज करते हैं।

जब आपको पेपर ट्रेडिंग में नुकसान से ज्यादा प्रॉफिट होने लगे मतलब आपके अधिकतर ट्रेड में loss से ज्यादा profit काउंट होने लगे तब आप लाइव मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग की शुरुआत कर सकते हैं।

वर्चुअल ट्रेडिंग करने के लिए आप moneybhai वेबसाइट का इस्तेमाल कर सकते हैं जो शेयर बाजार की काफी ट्रस्टेड साइट ‘मनीकंट्रोल’ के द्वारा लांच की गई है। वहां पर रोजाना हजारों नए ट्रेडर्स वर्चुअल ट्रेडिंग की प्रैक्टिस करते हैं और अपने एक्सपीरियंस एक दूसरे के साथ शेयर करते हैं।

तो अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग में कोई रिस्क नहीं लेना चाहते तो मेरा सुझाव आपको यही रहेगा की शुरुआत हमेशा पेपर ट्रेडिंग से ही करें कय्यक़ी इससे आपको मार्केट मूवमेंट के बारे में बिना किसी जोखिम के बहुत कुछ सीखने का मौका मिलेगा।

8. इंट्राडे ट्रेडिंग की रणनीतियों के बारे में जाने

जो लोग इंट्राडे ट्रेडिंग से रोज पैसा कमाते हैं वह बहुत सारी intraday strategies का उपयोग करते हैं। ये strategies आप 1 दिन में नहीं सीख सकते बल्कि इसके लिए आपको लगातार प्रैक्टिस करना होगा।

इसके अलावा आपको ट्रेडिंग साइकोलॉजी के बारे में भी सीखना चाहिए मतलब–

  • मार्केट में buy और sell करते समय ट्रेडर्स की साइकोलॉजी किस प्रकार काम करती है,
  • जब ट्रेडिंग में आपको नुकसान होता है तो आप कैसा behave करते हैं,
  • क्या आप इमोशनल ट्रेडिंग के शिकार हैं यानी सिर्फ इमोशंस के आधार पर ट्रेड करते हैं,
  • या फिर आप किसी एक फिक्स सिस्टम को फॉलो करते हैं.

आपको ऊपर दी गई बातों पर जरूर गौर करना चाहिए क्योंकि कुछ लोग इंट्राडे ट्रेडिंग को जल्दी पैसा कमाने का तरीका समझते हैं और ऐसे ही लोग 90% लोगों की कैटेगरी में आते हैं जो पहले 90 दिनों में intraday trading में अपना 90% पैसे का loss कर देते हैं।

इससे बचने का एक तरीका है सबसे पहले इंट्राडे ट्रेडिंग की सभी रणनीतियों को बारीकी से सीखें और समझे, इसके बाद उन्हें लाइव मार्केट में अप्लाई करें और बहुत छोटे अमाउंट से शुरुआत करें।

शुरुआत में आप देखेंगे कि आपको प्रॉफिट बहुत कम और लॉस बहुत ज्यादा हो रहे हैं। लेकिन कुछ समय बाद आपके नुकसान कम होना शुरू हो जाएंगे और प्रॉफिट बढ़ने लगेंगे।

9. Intraday में रिस्क मैनेजमेंट को समझें

इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे सीखे, इसका अगला तरीका है रिस्क मैनेजमेंट का ध्यान रखना. अगर आपने इंट्राडे ट्रेडिंग में Risk और Reward को मैनेज करना नहीं सीखा तो आपका नुकसान बहुत ज्यादा हो सकता है।

कुछ लोग शुरुआत में इंट्राडे ट्रेडिंग करके थोड़ा बहुत पैसा कमा लेते हैं जिससे उन्हें लगता है कि वह आगे भी कमा सकते हैं। यह स्थिति बहुत खतरनाक होती है क्योंकि फिर लोगों को अपने ऊपर अधिक कॉन्फिडेंस हो जाता है जिससे वह अधिक पैसा इन्वेस्ट करने लगते हैं और कुछ लोग तो उधार लेकर भी ट्रेडिंग करने लगते हैं।

जो लोग ऐसा करते हैं उन्हें इंट्राडे ट्रेडिंग में बर्बाद होने से कोई नहीं रोक सकता। इसीलिए मैं हमेशा कहता हूं कि अगर आपको किसी भी स्किल में मास्टरी हासिल करना है तो पहले उसे सीखना होगा चाहे वह ट्रेडिंग हो या कोई और।

  • रिस्क मैनेजमेंट का मतलब है कि आपको पता होना चाहिए कि आप को मैक्सिमम कितना नुकसान हो सकता है और उसको देखते हुए आपको अपना ट्रेड एग्जीक्यूट करना चाहिए।

मान लीजिये आप दिन में 10 बार ट्रेड करते हैं तो आपका मकसद होना चाहिए कि 7 बार प्रॉफिट हो और 3 बार loss. मुझे पता है ऐसा बहुत जल्दी नहीं होता है इसके लिए आपको बहुत सारा अनुभव और लगातार प्रेक्टिस करना होगा.

लेकिन इस लेवल तक पहुंचने के लिए आपको अपनी गलतियों से सीखना होगा और इसको को मैनेज करके चलना होगा।

10. इंट्राडे ट्रेडिंग के नियम फॉलो करें

इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने के लिए आपको कुछ नियमों को फॉलो करना जरूरी है वरना इस गेम से आप बहुत जल्दी आउट हो सकते हैं।

हम सबको पता है कि इन्वेस्टिंग से ज्यादा ट्रेडिंग रिस्की होती है लेकिन फिर भी हम इसीलिए ट्रेडिंग करते हैं क्योंकि इससे आप कम समय में यानी जल्दी पैसा कमा सकते हैं।

यह सच है कि शेयर मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग करने वाले ज्यादातर लोगों को प्रॉफिट की बजाय नुकसान होता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हमें इंट्राडे ट्रेडिंग नहीं करना चाहिए।

क्योंकि वहीं दूसरी ओर जो सफल इंट्राडे ट्रेडर्स हैं वह आज दिन का लाखों रुपए कमा रहे हैं तो इन लोगों में ऐसा क्या खास है. ऐसा इसलिए है क्योंकि के लोग इंट्राडे ट्रेडिंग के कुछ ऐसे नियमों को फॉलो करते हैं जिनके बारे में आपको भी पता होना चाहिए।

नीचे दी गई इस पोस्ट को पढ़कर आप इंट्राडे ट्रेडिंग से पैसे कमाने के नियमों के बारे में सीख सकते हैं–

ये भी पढ़ें– 10 BEST Intraday Trading Rules in Hindi

Learn Intraday Trading in Hindi – FAQ’s

इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने का सबसे आसान तरीका क्या है?

इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने का सबसे आसान तरीका है पेपर ट्रेडिंग से शुरुआत करना. इस प्रकार की ट्रेडिंग में आपका जोखिम भी कुछ नहीं होता और आप बिना किसी रिस्क के लाइव मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग करना सीख जाते हैं.

इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने में कितने दिन लगेंगे?

इंट्राडे ट्रेडिंग करने में आपको कम से कम 1 साल यानी 365 दिन का समय लगता है. कुछ लोग 3 महीने या 6 महीने में भी इंट्राडे ट्रेडिंग करना सीख जाते हैं लेकिन मेरा मानना है कि आपको इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने के लिए कम से कम 1 साल का समय देना चाहिए.

क्या इंट्राडे ट्रेडिंग सीखना आसान है?

इंट्राडे ट्रेडिंग सीखना उन लोगों के लिए आसान है जो मेहनत करने के लिए तैयार है. Intraday के बेसिक कांसेप्ट को सीखने के लिए आपको टेक्निकल एनालिसिस और चार्ट एनालिसिस के बारे में सीखना होगा.

इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने की शुरुआत कैसे कर सकते हैं?

इंटरनेट पर ऑनलाइन blogs पढ़कर या वीडियोस देखकर आप इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने की शुरुआत कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारे इस ब्लॉग को पढ़कर भी शेयर मार्केट और ट्रेडिंग के बारे में बहुत सारे basic to advance कांसेप्ट को सीख सकते हैं।

Intraday Trading kaise sikhe in hindi – Conclusion

मुझे उम्मीद है आपको यह पोस्ट इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे सीखें (How to Learn Intraday Trading in Hindi) जरूर उपयोगी लगी होगी। इस आर्टिकल में मैंने आपको बताया है कि एक शुरुआती या beginner इंट्राडे ट्रेडर होते हुए भी आप किस प्रकार से इंट्राडे ट्रेडिंग सीख सकते हैं।

अगर आप ऊपर दिए गए पॉइंट्स को फॉलो करते हैं तो मुझे पूरा विश्वास है कि इंट्राडे ट्रेडिंग को सीखना आपके लिए बहुत आसान हो जाएगा।

ये भी पढ़ें,

अगर आपके मन में इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने से संबंधित कोई भी सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर पूछें।

4.9/5 - (10 votes)

मेरा नाम दीपक सेन है और मैं इस वेबसाइट का Founder हूं। यहां पर मैं अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से शेयर मार्केट, निवेश और फाइनेंस से संबंधित उपयोगी जानकारी शेयर करता हूं। ❤️