म्यूचुअल फंड कब बेचना चाहिए? म्यूचुअल फंड से पैसा कब निकालना चाहिए?

म्यूचुअल फंड कब बेचना चाहिए, म्यूचुअल फंड से पैसा कब निकालना चाहिए, म्यूच्यूअल फंड से बाहर कब निकलें, कितना जल्दी म्युचुअल फंड बेचा जा सकता है, क्या कभी भी म्यूचुअल फंड बेच सकते हैं?

अगर आप भी म्यूच्यूअल फंड खरीदना चाहते हैं या आपने पहले से ही किसी म्यूचुअल फंड में पैसा इन्वेस्ट किया है तो आप यह जरूर जानना चाहते होंगे कि आखिर म्यूच्यूअल फंड कब बेचना चाहिए या म्यूच्यूअल फंड से पैसा कब बाहर निकालना चाहिए?

Mutual fund में निवेश करते समय निवेश करने के बाद लोगों के मन में काफी सवाल होते हैं जैसे–

  • क्या म्यूचुअल फंड कभी भी बेचे जा सकते हैं,
  • म्यूचुअल फंड को कितनी जल्दी बेच सकते हैं,
  • बेचने से पहले म्यूचुअल फंड कितने साल तक रखना चाहिए,
  • मुझे दिन के किस समय म्यूचुअल फंड बेचना चाहिए,
  • क्या मुझे नुकसान पर म्यूचुअल फंड बेचना चाहिए,
  • इसके अलावा म्यूचुअल फंड कब नहीं बेचना चाहिए.

अगर आप भी ऊपर दिए गए सभी सवालों के जवाब जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ना.

काफी सारे नए निवेशक है जिन्हें पता नहीं होता कि म्यूचुअल फंड कब खरीदना और बेचना चाहिए जिसके कारण वह जल्दबाजी में गलत निर्णय ले लेते हैं और गलत समय पर म्यूच्यूअल फंड बेच देते हैं जिसके कारण या तो उनके रिटर्न कम हो जाते हैं या फिर पूरा पैसा ही डूब जाता है।

इसलिए अच्छा यही होगा कि mutual fund को कब buy और sell करना चाहिए इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर लें।

इस पोस्ट में आप जानेंगे-

म्यूचुअल फंड कब बेचना चाहिए (Mutual Fund kab bechna chahiye)

म्यूचुअल फंड कब बेचना चाहिए, Mutual Fund kab bechna chahiye

म्यूचुअल फंड कब बेचे इसका जवाब है कि निवेशकों को म्यूचल फंड उस समय बेचना चाहिए जब उनका फाइनेंसियल गोल पूरा हो चुका हो या फिर अच्छे खासे रिटर्न मिल चुके हों। इसके अलावा फंड पोर्टफोलियो के खराब परफॉर्म करने या कोई इमरजेंसी होने पर आप म्यूचुअल फंड को sell कर सकते हैं।

अगर आप अपने म्यूच्यूअल फंड को गलत समय पर बेचने से बचना चाहते हैं तो आपको नीचे दिए गए जरूर पढ़ना चाहिए जिनमें हमने बताया है कि आप कब और किस समय अपना म्यूचुअल फंड बेच सकते हैं–

🔥 Whatsapp Group👉 अभी जुड़ें
🔥 Telegram Group👉 अभी जुड़ें

1. म्यूचुअल फंड अच्छा परफॉर्म ना करने पर

कई बार ऐसा होता है कि आपका म्यूच्यूअल फंड बहुत लंबे समय तक कोई रिटर्न नहीं देता है। इसके बहुत सारे कारण हो सकते हैं लेकिन ऐसी कंडीशन में उस फंड को बेच देना ही बेहतर होता है।

अगर आपने 1 साल पहले किसी म्यूच्यूअल फंड में इन्वेस्ट किया था और उसने 6 महीने तक अच्छे से 10 दिए लेकिन पिछले 6 महीने से वह लगातार डाउन जा रहा है या फिर उसके रेट और कम हो रहे हैं तो ऐसे में उस फंड से पैसा बाहर निकाल लेना चाहिए।

जब आप म्यूच्यूअल फंड बेच दे तो उसी पैसे को ऐसे लिक्विड फंड में इन्वेस्ट कर दें जिससे आपको बिना किसी जोखिम के कंसिस्टेंट रिटर्न मिलते रहेंगे।

2. जब म्यूचुअल फंड पोर्टफोलियो लगातार नीचे जा रहा हो

म्यूचुअल फंड को तब बेचना चाहिए जब आपका पोर्टफोलियो लगातार नीचे जा रहा हो। ऐसा तब होता है जब आपने किसी गलत mutual fund में पैसा लगा दिया हो मतलब उस फण्ड की ‘होल्डिंग’ चेक किए बिना ही उसे खरीद लिया हो तो ऐसी कंडीशन में आपको नुकसान हो सकता है इस प्रकार के फंड को बेच देना ही बेहतर होगा।

उदाहरण के लिए– अगर आपने किसी सेक्टर स्पेसिफिक फंड में पैसा निवेश कर दिया है और वह पूरा सेक्टर है आजकल डाउन चल रहा है तो आपका पोर्टफोलियो भी लाल निशान में दिखाई देगा।

  • मान लीजिए अगर आपने सिर्फ आईटी सेक्टर की कंपनियों में इन्वेस्ट करने वाला कोई म्युचुअल फंड खरीदा है और अचानक से आईटी सेक्टर में कोई डाउनफॉल आ जाता है तो ऐसे में आपका पूरा पोर्टफोलियो लंबे समय तक down रह सकता है।
  • आपने देखा होगा 2018 के बाद से ही ऑटो सेक्टर में गिरावट होने लगी थी जो कि 2020 तक चलती रहे मतलब 3 साल तक ऑटो सेक्टर ने कोई रिटर्न नहीं दिए।

कहने का मतलब है कि ऐसा किसी भी सेक्टर के साथ हो सकता है इसीलिए सेक्टर स्पेसिफिक फंड लेने की बजाए डायवर्सिफाइड म्युचुअल फंड में पैसा निवेश करें. और अगर आपने किसी सेक्टर स्पेसिफिक म्यूचुअल फंड में पैसा इन्वेस्ट किया है और वह लगातार गिर रहा है तो उसे switch करना या बेच देना चाहिए।

3. फंड मैनेजर गड़बड़ कर रहा हो

जब आप म्यूच्यूअल फंड खरीदते हैं तो आपको उसके फंड मैनेजर की डिटेल जरूर चेक करना चाहिए. मतलब जिस mutual fund में आप पैसा निवेश कर रहे हैं उसे कौन व्यक्ति मैनेज कर रहा है, उसकी क्वालिफिकेशन क्या है और उसे इन्वेस्टमेंट की फील्ड में कितना अनुभव है।

क्योंकि कई बार कोई भी ऐसा वैसा व्यक्ति म्यूच्यूअल फंड को संभालने लगता है और गलत कंपनियों में आपका पैसा इन्वेस्ट कर देता है जिसका नुकसान आपको भुगतना पड़ता है।

हालांकि अधिकतर फंड मैनेजर क्वालिफाइड होते हैं लेकिन फिर भी आपको यह जरूर चेक कर लेना चाहिए कि कहीं आपका फंड मैनेजर कोई गड़बड़ ना कर रहा हो। अगर आपको अपने फंड मैनेजर पर किसी भी प्रकार की आशंका हो तो तुरंत उस म्यूच्यूअल फंड को बेचकर पैसा निकाल लेना चाहिए।

4. रिस्क पैरामीटर हाई होने पर बेचना चाहिए

रिस्क पैरामीटर हाई होने का मतलब है आपके म्यूच्यूअल फंड पोर्टफोलियो में high risky इन्वेस्टमेंट का हिस्सा बढ़ जाना.

  • मान लीजिए आपने कोई हाइब्रिड फंड खरीदा है जिसने लार्ज कैप, मिडकैप और स्मॉलकैप तीनों प्रकार की कंपनियों में पैसा निवेश किया है।
  • मान लो 1-2 साल तक उस fund ने इन्वेस्टर्स को अच्छे रिटर्न दिए लेकिन अचानक से तीसरी साल उसके रिटर्न नेगेटिव में जाने लगे ऐसी कंडीशन में उस म्युचुअल फंड को बेचना चाहिए।
  • क्योंकि हो सकता है उसके फंड मैनेजर ने large cap कंपनियों का पोर्टफोलियो प्रतिशत कम कर दिया हो और small cap कंपनियों में निवेश बढ़ा दिया हो जो रिटर्न तो अच्छे देता है लेकिन साथ ही उसमें high risk भी शामिल होता है।

तो अगर आपको भी अपने खरीदे गए म्यूच्यूअल फंड में इस प्रकार का कोई रिस्क फैक्टर दिखाई दे तो उससे exit करना यानी उसे sell कर देना ही बेहतर होगा।

5. स्टॉक के खराब परफॉर्म करने पर बेच दें

जब आप म्यूच्यूअल फंड खरीदते हैं तो आपका पैसा शेयर मार्केट में लिस्टेड कंपनियों के स्टॉक में निवेश किया जाता है। जब उस स्टॉक का शेयर प्राइस बढ़ जाता है तो आपके पोर्टफोलियो के रिटर्न भी बढ़ने लगते हैं और जब शेयर प्राइस गिरने लगता है तो आपके रिटर्न भी नेगेटिव में चले जाते हैं।

इसलिए आपको अपने म्यूच्यूअल फंड पोर्टफोलियो को समय-समय पर चेक करते रहना चाहिए कि आपने fund में शामिल stocks कैसा परफॉर्म कर रहे हैं।

वैसे तो यह काम आप के फंड मैनेजर का है क्योंकि वही आपके fund को मैनेज कर रहा है और आपको अच्छे रिटर्न देना उसी की जिम्मेदारी है लेकिन फिर भी कई बार आपको manually रिव्यु जरूर करना चाहिए।

खासकर तब जब आपका म्यूच्यूअल फंड अच्छा परफॉर्म ना कर रहा हो उस समय आप चाहे तो अपना म्यूच्यूअल फंड बेच सकते हैं।

6. डेट टू इक्विटी रेश्यो में ज्यादा अंतर होने पर

अगर आपकी म्युचुअल फंड में डेट टू इक्विटी रेश्यो का अंतर ज्यादा है तो ऐसे mutual fund को sell कर देना चाहिए। Debt to equity ratio का मतलब है आपके म्यूच्यूअल फंड ने कितना debt लिया है और उसकी इक्विटी कितनी है।

अगर यह अनुपात बहुत ज्यादा है मतलब या तो उस fund ने डेट अधिक ले रखा है या फिर इक्विटी और debt दोनों के अनुपात में बहुत अधिक अंतर है तो ऐसा फंड लॉन्ग टर्म में कभी भी अच्छे रिटर्न नहीं देता है इसीलिए इस प्रकार के म्यूचुअल फंड को बेच देना चाहिए।

7. म्यूचुअल फंड विपरीत दिशा में जाने पर

आपको पता होगा जब शेयर बाजार ऊपर जाता है तो आपके म्यूच्यूअल फंड के रिटर्न भी बढ़ने लगते हैं और क्या पर शेयर मार्केट में गिरावट होती है तो आपका म्यूच्यूअल फंड पोर्टफोलियो भी डाउन होने लगता है।

मतलब देखा जाए तो म्यूच्यूअल फंड के रिटर्न सेंसेक्स और निफ्टी के रिटर्न के साथ साथ चलते हैं।

लेकिन अगर शेयर बाजार अच्छा परफॉर्म कर रहा है और फिर भी आपका म्युचुअल फंड नेगेटिव रिटर्न दे रहा है या बिल्कुल भी रिटर्न नहीं दे रहा है तो ऐसी कंडीशन में अपने म्युचुअल फंड को sell कर दें।

क्योंकि इसका सीधा सा मतलब है कि आपके फंड की holdings में कोई प्रॉब्लम है यानी कि आपने जिस सेक्टर में पैसा लगाया है उसमें कोई डाउनफॉल आ गया है

या फिर आपके फंड मैनेजर ने किसी गलत कंपनी में आपका पैसा लगा दिया है जिसकी वजह से पॉजिटिव मार्केट होने पर भी आपको रिटर्न नहीं मिल रहे हैं इसीलिए ऐसे समय पर म्यूच्यूअल फंड को बेच देना ही बेहतर होता है।

8. कोई रिटर्न ना मिलने पर sell कर दें

कई आपका म्यूच्यूअल फंड शुरुआत में तो अच्छे रिटर्न देता है लेकिन कुछ समय बाद उसके रिटर्न धीरे-धीरे कम होने लगते हैं और कई बार ठीक इसका उल्टा होता है।

अगर आप एक नए निवेशक हैं तो आपको इस प्रकार के रिटर्न देने वाले म्युचुअल फंड में पैसा निवेश करने से बचना चाहिए बल्कि आपको कंसिस्टेंट रिटर्न देने वाले mutual fund में इन्वेस्ट करना चाहिए।

तो अगर आपने कोई ऐसा म्यूच्यूअल फंड खरीद रखा है जिसमें आपको 6 महीने 1 साल से कोई भी रिटर्न नहीं मिला है तो उसे बेच कर तुरंत अपना पैसा बाहर निकाल लेना चाहिए।

9. वित्तीय लक्ष्य पूरा होने पर बेचना चाहिए

जब आप म्यूच्यूअल फंड खरीदते हैं तो उस समय आपका कोई ना कोई फाइनेंसियल लक्ष्य होता है। हो सकता है अगर आप आज किसी large cap म्यूचुअल फंड में 10 साल के लिए 1000 रुपये महीने की SIP करते हैं तो अपना टारगेट पूरा होने के बाद उस म्यूच्यूअल फंड को बेच देना चाहिए।

इसी प्रकार आपको शॉर्ट टर्म और लोंग टर्म वित्तीय लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए और उन्हीं के अनुसार अपने म्युचुअल फंड को खरीदना और बेचना चाहिए।

10. फाइनेंशियल क्राइसिस या इमरजेंसी होने पर

बहुत बार निवेशकों को किसी फाइनेंशियल क्राइसिस या इमरजेंसी के चलते पैसों की जरूरत होती है। अगर आपके साथ कभी ऐसा होता है तो उस समय आपको अपना म्यूच्यूअल फंड बेच देना चाहिए।

लेकिन ध्यान रहे अगर आपने एक से ज्यादा म्यूचुअल फंड में पैसा लगाया है तो उसी म्यूचुअल फंड को बेचना चाहिए जिसमें आपको अच्छे खासे रिटर्न पहले ही मिल चुके हों। मतलब कभी भी नेगेटिव रिटर्न वाले म्यूच्यूअल फंड को बेचने की गलती नहीं करना चाहिए।

म्यूचुअल फंड से पैसा कब निकालना चाहिए (Mutual fund se kab nikle)

म्यूचुअल फंड से पैसा कब निकालना चाहिए, Mutual fund se paisa kab nikale

म्यूच्यूअल फंड से पैसा कब बाहर निकाले (mutual fund kab bechna chahiye)

  1. अगर म्यूच्यूअल फंड लंबे समय तक नेगेटिव रिटर्न देता है तो उससे पैसा बाहर निकाल लेना चाहिए।
  2. लॉक इन पीरियड खत्म होने के बाद म्यूचुअल फंड बेच देना चाहिए।
  3. अगर शेयर बाजार के अच्छा परफॉर्म करने के बावजूद आपका पोर्टफोलियो डाउन है तो म्यूचुअल फंड sell कर दें।
  4. म्यूच्यूअल फंड से पैसा तब निकाले जब आपका वित्तीय लक्ष्य हासिल हो चुका हो।
  5. आपके म्यूच्यूअल फंड के द्वारा निवेश की गई किसी कंपनी में नेगेटिव खबर आने पर fund बेच देना चाहिए।
  6. अगर आपका म्यूच्यूअल फंड निफ्टी या सेंसेक्स से बिल्कुल विपरीत दिशा में जा रहा है तो उस समय भी आपको म्यूचुअल फंड से पैसा निकालना चाहिए।

कौन सा म्यूचुअल फंड पहले बेचना चाहिए?

अगर आप म्यूच्यूअल फंड बेचने की सोच रहे हैं तो आपको उसी फंड को सबसे पहले बेचना चाहिए जिसमें आपके रिटर्न पॉजिटिव में है यानी सबसे ज्यादा रिटर्न मिल चुके हों। इसके अलावा अगर आप अधिक जोखिम नहीं लेना चाहते तो high risk वाले म्यूच्यूअल फंड से भी पैसा निकालकर low risk म्यूचुअल फंड में स्विच कर देना चाहिए।

क्या म्यूचुअल फंड कभी भी बेचे जा सकते हैं?

जी नहीं, कुछ म्यूच्यूअल फंड में लॉक इन पीरियड होता है जो कि 1 साल, 2 साल या 5 साल भी हो सकता है और इतने समय तक आप म्यूचुअल फंड नहीं बेच सकते। लेकिन बहुत सारे म्यूच्यूअल फंड ऐसे भी हैं जिनमें कोई लॉक इन पीरियड नहीं होता इसलिए इनको आप कभी भी बेच सकते हैं।

आप म्यूचुअल फंड को कितनी जल्दी बेच सकते हैं?

अगर आप जल्दी बेचना चाहते हैं तो आप अपना म्यूचुअल फंड 3 महीने या 6 महीने में भी बेच सकते हैं। लेकिन ध्यान रखिए आप इतना जल्दी बेचेंगे उतना ही कम रिटर्न मिलेंगे और जितने लंबे समय तक म्यूचुअल फंड को होल्ड करेंगे उतना ही ज्यादा रिटर्न मिलने की संभावना होगी।

क्योंकि जब आप म्यूचुअल फंड में एसआईपी करते हैं तो आपका पैसा कंपनी के जरिए grow होता है इसलिए जितना हो सके लंबी अवधि तक म्यूच्यूअल फंड को होल्ड रखना चाहिए।

जानिए– म्यूचुअल फंड में कितना रिटर्न मिलता है?

म्यूचुअल फंड कब नहीं बेचना है?

यहां पर कुछ पॉइंट दिए गए हैं जो बताते हैं कि आपको म्यूचुअल फंड कब नहीं बेचना चाहिए–

  • कई बार मार्केट में शॉर्ट टर्म गिरावट होती है जो 1 महीने से लेकर 3 महीने तक चलती है. ऐसे में अगर आपने कोई बेस्ट म्यूच्यूअल फंड खरीदा है तो वह भी नीचे जा सकता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपको उस समय इसे बेच देना चाहिए।
  • इसीलिए शार्ट टर्म में मार्केट में वोलैटिलिटी होने पर म्यूचुअल फंड नहीं बेचना चाहिए।
  • दैनिक रोजमर्रा के खर्चे या फिर बिजली का बिल, रेंट या लग्जरी आइटम खरीदने के लिए म्यूचुअल फंड नहीं बेचना चाहिए।
  • म्यूच्यूअल फंड को कम से कम 1 साल तक होल्ड करना चाहिए, उससे पहले कभी मत बेचें।
  • अपना निवेश लक्ष्य पूरा होने से पहले म्यूच्यूअल फंड कभी मत बेचें।

उम्मीद करता हूं अब आप समझ गए होंगे कि म्यूचुअल फंड को कब बेचना चाहिए और कब नहीं बेचना चाहिए।

FAQ’s (Mutual fund kab bechna chahiye)

मुझे दिन के किस समय म्यूचुअल फंड बेचना चाहिए?

आप दिन के किसी भी समय म्यूचुअल फंड बेच सकते हैं लेकिन फिर भी आपको शेयर बाजार 3:30 बजे बंद होने के बाद म्यूचुअल फंड बेचना चाहिए क्योंकि तब तक उस दिन वोलैटिलिटी खत्म हो चुकी होती है। मतलब आपको शेयर मार्केट खुले होने (9:30 से 3:30 बजे) के दौरान म्यूच्यूअल फंड नहीं बेचना चाहिए।

क्या मुझे नुकसान पर म्यूचुअल फंड बेचना चाहिए?

अगर आपके द्वारा खरीदा गया म्यूचुअल फंड लगातार नीचे जा रहा है तो ऐसे में उसे बेच देना ही बेहतर होगा। कुछ लोग रिटर्न कम होने पर दोबारा बढ़ने की आशा करते हैं जिसके चक्कर में उन्हें बाद में और अधिक लॉस होने लगता है इसीलिए पहले ही थोड़ा नुकसान होने पर म्यूचुअल फंड बेच देना चाहिए।

अगर मैं अपने म्यूचुअल फंड को 1 साल से पहले बेच दूं तो क्या होगा?

म्यूचुअल फंड को 1 साल से पहले बेचने पर आपके पोर्टफोलियो के रिटर्न कम हो सकते हैं क्योंकि म्यूचुअल फंड निवेश को बढ़ने में कम से कम 1 साल का समय लगता है। इसीलिए आपको अपने खरीदे गए म्यूच्यूअल फंड को 1 साल तक जरूर रखना चाहिए।

बेचने से पहले आपको म्यूचुअल फंड कब तक रखना है?

म्यूच्यूअल फंड को बेचने से पहले कम से कम 1 साल तक रखना चाहिए ताकि आपको उसके परफॉर्मेंस और रिटर्न का सही डेटा मिल सके। 1 साल बाद का उसे होल्ड करने या बेचने का फैसला ले सकते हैं।

मैं अपना म्यूचुअल फंड क्यों नहीं बेच सकता?

अगर किसी म्यूचुअल फंड में लॉक इन अवधि गई है तो आप उसे नहीं बेच सकते। इसके कारण आपका म्यूच्यूअल फंड कुछ सालों के लिए lock हो जाता है मतलब तब तक आप उसे sell नहीं कर सकते।

जब आप म्यूचुअल फंड बेचते हैं तो वह कब सेटल होता है?

जब हम कोई म्यूचुअल फंड बेचते हैं तो उसे सेटल होने में कम से कम 1-2 दिन का समय लगता है। अगर आपने आज कोई म्यूचुअल फंड बेचा है तो उसका पैसा आपके बैंक अकाउंट में ट्रांसफर होने में कम से कम 2-3 दिन लगते हैं।

क्या आपको साल के अंत में म्यूचुअल फंड बेचना चाहिए?

अगर कोई म्यूच्यूअल फंड पूरे साल भर अच्छा परफॉर्म नहीं किया है तो उसे साल के अंत में बेच देना चाहिए। अगर वह फंड निवेशकों को लगातार कंसिस्टेंट रिटर्न दे रहा है तो उसे भविष्य के लिए होल्ड करना चाहिए।

कितने प्रतिशत रिटर्न मिलने के बाद म्यूचुअल फंड बेचना चाहिए?

ऐसा कोई नियम नहीं है लेकिन फिर भी बैंक अकाउंट एफडी से अधिक प्रतिशत रिटर्न मिलने पर ही आपको म्यूच्यूअल फंड बेचना चाहिए. मतलब कम से कम 10-12% प्रतिशत रिटर्न मिलने के बाद ही म्यूचुअल फंड बेचना चाहिए।

म्यूचुअल फंड कब खरीदना और बेचना चाहिए?

म्यूचुअल फंड तब खरीदना चाहिए जब शेयर बाजार में गिरावट हो रही हो क्योंकि उस समय फंड सस्ते दाम पर मिलते हैं। और म्यूचुअल फंड उस समय बेचना चाहिए जब आपका निवेश पोर्टफोलियो पॉजिटिव मार्केट होने के बावजूद भी नीचे जा रहा हो, ऐसे में आप अपने म्यूच्यूअल फंड sell कर सकते हैं।

म्यूचुअल फंड कितने साल तक रखना चाहिए?

अगर शॉर्ट टर्म निवेश की बात करें तो म्युचुअल फंड को कम से कम 1 साल तक रखना चाहिए। लेकिन अगर लॉन्ग टर्म निवेश की बात करें तो म्यूचुअल फंड को कम से कम 5 से 10 साल तक रखना चाहिए।

क्या मुझे अभी म्यूचुअल फंड बेचना चाहिए?

अगर आपको इमरजेंसी में पैसे की जरूरत है या फिर फंड जुटाने का आपके पास दूसरा कोई माध्यम नहीं बचा है तो ऐसे में आपको अभी म्यूचुअल फंड बेच देना चाहिए।

निष्कर्ष (म्यूचुअल फंड से पैसा कब निकालना चाहिए)

आज आपने जाना कि म्यूचुअल फंड कब बेचना चाहिए या म्यूच्यूअल फंड से पैसा कब निकालना चाहिए. इसके अलावा म्यूचुअल फंड कब नहीं बेचना चाहिए और कितने समय तक म्यूचुअल फंड अपने पास रखना चाहिए।

मुझे पूरी उम्मीद है कि अगर आप म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं या निवेश करना चाहते हैं तो यह जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होगी।

अगर आपके मन में इस आर्टिकल से संबंधित किसी भी प्रकार का कोई भी सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में अवश्य पूछिये।

5/5 - (6 votes)

मेरा नाम दीपक सेन है और मैं इस वेबसाइट का Founder हूं। यहां पर मैं अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से शेयर मार्केट, निवेश और फाइनेंस से संबंधित उपयोगी जानकारी शेयर करता हूं। ❤️