पैनी स्टॉक्स क्या हैं? | What is Penny Stocks in hindi?

Penny stocks kya hai | What is Penny stocks in hindi | Best Penny stocks kaise dhunde | पैनी शेयर क्या होते हैं | सबसे अच्छे पेनी स्टॉक्स कौन से हैं | पेनी स्टॉक्स में निवेश करने के फायदे और नुकसान

Penny stocks kya hai, पैनी स्टॉक्स क्या हैं

Penny stocks kya hai in hindi― शेयर बाजार में निवेश करते समय अक्सर आप न्यूज़ में पेनी स्टॉक्स के बारे में सुनते हैं जिसमें बोला जाता है कि कुछ ही महीनों, हफ्तों या दिनों में किसी पैनी स्टॉक ने दिए हजारों फीसदी रिटर्न और निवेशकों को कर दिया मालामाल…

या फिर,

  • सिर्फ 1 रुपये का पेनी शेयर 10 दिनों में बना मल्टीबैगर
  • केवल 1 महीने में इस XYZ कंपनी के पेनी स्टॉक की कीमत हुई दुगनी, 1 लाख के हो गए 3 लाख रुपये.

इस प्रकार की खबरें सुनकर आपका भी पेनी स्टॉक खरीदने का मन करता होगा. लेकिन क्या सच में आप Multibagger Penny Stocks खरीद कर केवल कुछ महीनों में ही अपने पैसों को 2 गुना, 3 गुना या 10 गुना कर सकते हैं

क्या यह संभव है?

जवाब है ‘हां’

लेकिन पेनी स्टॉक में जोखिम (Risk) का कितना है? क्या कोई ऐसा तरीका है जिसके द्वारा आप पेनी स्टॉक्स में निवेश करके कम से कम पैसों पर ज्यादा से ज्यादा शानदार रिटर्न कमा सकें?

मैं आपको गारंटी दे सकता हूं अगर आपने अच्छा पेनी स्टॉक ढूंढना सीख लिया तो भले ही आपके पास कम पैसा हो आप उस पैसे को केवल कुछ ही हफ्तों या महीनों में कई गुना सकते हैं.

लेकिन सबसे अच्छे पेनी स्टॉक्स चुनना इतना आसान नहीं है. इसके लिए आपको पेनी स्टॉक्स के बारे में गहरी समझ होना आवश्यक है ज्यादातर नए निवेशकों को नहीं होती,

इसलिए ज्यादातर निवेशक पेनी स्टॉक्स खरीद कर सिर्फ और सिर्फ अपने पैसों का नुकसान करते हैं.

आपको पता होना चाहिए कि अगर कोई शेयर पेनी स्टॉक बन चुका है मतलब कि उस शेयर की कीमत बहुत कम हो चुकी है तो ऐसा क्यों है?

सच तो यह है कि ज्यादातर निवेशक यह सब सवाल करते ही नहीं हैं और ना ही उन्हें वास्तव में पता होता है कि आखिर पेनी स्टॉक्स क्या होते हैं? पेनी स्टॉक्स खरीदना चाहिए या नहीं?

और सबसे जरूरी एक अच्छा penny stock kaise dhunde?

आज मैं इस पोस्ट में आपकी इन सभी सवालों के जवाब उदाहरण के साथ देने वाला हूं और मैं वादा करता हूं कि इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपके मन में Penny stocks से संबंधित जितने भी डाउट हैं वह सब क्लियर हो चुके होंगे.

मैं वादा करता हूं अगर आपने इस पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक पढ़ लिया तो आपको कभी भी पेनी स्टॉक्स से संबंधित कोई भी पोस्ट इंटरनेट पर पढ़ने की जरूरत नहीं होगी।

तो आइए शुरू करते हैं―

Contents

पैनी स्टॉक्स क्या होते हैं? What is Penny Stocks in Hindi?

Penny stocks kya hote hai, What is penny stocks in hindi

Penny Stock Meaning in Hindi― पेनी स्टॉक्स वह शेयर होते हैं जो शेयर बाजार में बहुत ही कम कीमत पर ट्रेड होते हैं और जिनका शेयर प्राइस बहुत ही कम होता है. 10 रुपये या 20 रुपये से कम कीमत वाले शेयर्स को पैनी स्टॉक्स (Penny Stocks) कहते हैं।

पेनी स्टॉक का मतलब क्या होता है?

  • पेनी स्टॉक का अर्थ― इन्हें सस्ते शेयर, भंगार शेयर, छोटे शेयर, Low Price share, Cheap stocks भी कहा जाता है।

पेनी स्टॉक्स की परिभाषा (Definition of Penny Stocks in Hindi)

पेनी स्टॉक क्या है― स्मॉल कैप या माइक्रो कैप कंपनियों के वे शेयर जो स्टॉक मार्केट में कम प्राइस पर खरीदने के लिए उपलब्ध होते हैं, पेनी स्टॉक्स कहलाते हैं. ऐसे कम प्राइस वाले शेयर में रिस्क और रिटर्न दोनों ही बहुत ज्यादा होते हैं.

ज्यादातर नए निवेशक ही ऐसे शेयरों की तरफ आकर्षित होते हैं क्योंकि वह जल्दी पैसा कमाना चाहते हैं।

लेकिन सच तो यह है कि पेनी स्टॉक्स वाली कंपनियां यह तो बर्बाद हो चुकी होती हैं या फिर उनका बिजनेस खत्म हो चुका होता है.

  • लेकिन अब सवाल यह आता है कि फिर क्यों लोग अपना पैसा पेनी स्टॉक्स में निवेश करते हैं क्या इसका कारण सिर्फ शेयर का कम कीमत पर मिलना है या फिर कुछ और?

और वह लोग ऐसा क्या अलग करते हैं जो पेनी स्टॉक्स खरीद कर बहुत ही कम समय में अमीर बन जाते हैं? क्या वह सिर्फ उनकी किस्मत होती है या फिर उन्हें कुछ ऐसी चीजें पता होती हैं आपको नहीं पता होती…

ये भी पढ़ें―

निवेशक पेनी स्टॉक्स क्यों खरीदते हैं? Why investors like Penny Stocks?

Penny stocks meaning in hindi

पेनी स्टॉक्स में निवेश करने के कारण: पेनी स्टॉक में निवेश करने के बहुत सारे कारण हैं जो हर एक इन्वेस्टर को लुभाते हैं.

पेनी शेयर खरीदने के कुछ महत्वपूर्ण कारणों के बारे में नीचे बताया है―

  • कम प्राइस में ज्यादा शेयर मिलने के कारण: अधिकतर छोटे निवेशक पेनी स्टॉक्स के प्राइस की तरफ ही आकर्षित होते हैं। आपको पता है कि पेनी स्टॉक को आप सिर्फ 1 रुपए में भी खरीद सकते हैं तो अगर आपके पास 100 रुपये भी हैं तो आपको उस कंपनी के 100 share मिल जाएंगे. जबकि वहीं अगर आप एक मजबूत कंपनी जैसे कि टीसीएस (TCS) का शेयर खरीदेंगे तो आपको 3000 रुपये से भी ज्यादा में केवल एक शेयर मिलेगा। इतनी कम कीमत में ज्यादा शेयर खरीद कर लोग खुद को एक समझदार निवेशक समझते हैं जबकि होता इसका उल्टा है.
  • ज्यादा रिटर्न के चक्कर में: लोगों को लगता है कि अगर कोई शेयर सिर्फ 2 रुपये जैसे कम मूल्य पर मिल रहा है तो उसका प्राइस 4 रुपये होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा बजाय एक 2000 रुपये के शेयर के 4000 रुपये होने में. अगर देखा जाए तो लोग इन पेनी स्टॉक्स और लार्ज कंपनियों के शेयर की तुलना करते हैं।
    लेकिन अगर आप इतिहास उठा कर के देखे तो पेनी स्टॉक्स की सभी कंपनियों के रिटर्न को भी मिला दे तो फिर भी वे Nifty 50 इंडेक्स की आधी कंपनियों के रिटर्न्स को भी beat नहीं कर पाएंगे।
  • ग्रोथ के कारण: कम कीमत वाले शेयरों में चांसेस के चांसेस ज्यादा होते हैं क्योंकि वह कंपनियां बिल्कुल छोटी होती हैं या उनका बिजनेस छोटे स्केल पर हो रहा होता है जिसको भविष्य में बड़े स्तर पर किया जा सकता है। इसीलिए लोग अगला टाइटन या फिर अगला एचडीएफसी बैंक का शेयर खरीदने के चक्कर में पड़े रहते हैं और इसीलिए वह अच्छे पेनी स्टॉक्स की तलाश करते रहते हैं। क्योंकि अगर आपने एचडीएफसी बैंक या फिर किसी बड़ी कंपनी के शेयर में उस समय निवेश किया होता जब वह कंपनी एक पेनी स्टॉक्स थी या फिर कंपनी का साइज और मार्केट कैपिटलाइजेशन बहुत कम थी तो आपका पैसा मल्टिप्लाई होकर आपको मल्टीबैगर रिटर्न दे चुका होता।

यह तीनों ही कारण सिर्फ छोटे रिटेल निवेशकों को ही नहीं बल्कि बड़े इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स को भी आकर्षित करते हैं जो कि अच्छा खासा पैसा पेनी स्टॉक्स में लगाकर मल्टीबैगर रिटर्न मिलने की आशा करते हैं।

पैनी स्टॉक इतने रिस्की क्यों होते हैं? Why Penny Stocks are Risky?

पेनी स्टॉक शेयर कौन-कौन से हैं

अक्सर कम भाव में मिलने वाले शेयर ब्लू चिप कंपनियों की तुलना में बहुत रिस्की होते हैं. आपके मन में एक सवाल जरूर आना चाहिए कि अगर कोई शेयर पेनी स्टॉक है तो ऐसा क्यों है?

  • क्या कंपनी का बिजनेस चौपट हो चुका है?
  • ऐसा तो नहीं है कि कंपनी सेल्स या प्रॉफिट जनरेट नहीं कर पा रही है?
  • क्या किसी बड़ी कंपनी ने उसके बिजनेस मॉडल को कॉपी कर लिया है?
  • या फिर कंपनी ने बहुत ज्यादा कर्ज ले लिया है जिसका वह भुगतान नहीं कर पा रही है…

इन सभी बातों के बारे में आपको पता करने की कोशिश करना चाहिए.

हर एक शेयर के पीछे कोई ना कोई कंपनी होती है और हर एक कंपनी का कोई ना कोई बिजनेस होता है. इसलिए याद रखिये आप सिर्फ शेयर में इन्वेस्ट नहीं कर रहे हैं बल्कि शेयर के माध्यम से उस कंपनी के बिजनेस में कैसा लगा रहे हैं

इसीलिए आपको सवाल करना चाहिए कि क्या कंपनी में कोई दिक्कत है जिसके कारण शेयर इतनी कम कीमत में मिल रहा है?

पेनी स्टॉक्स के रिस्की होने के ये 5 कारण हर एक निवेशक को पता होना चाहिए

1. जानकारी का अभाव होना

अगर आप किसी भी पेनी शेयर के बारे में इंटरनेट पर जानकारी ढूंढेगे तो आपको उसके बिजनेस और मैनेजमेंट के बारे में बहुत कम इंफॉर्मेशन मिलेगी.

ऐसे शेयर न्यूज़ में केवल तब आते हैं जब कंपनी ने कोई बड़ी प्रोजेक्ट का अनाउंसमेंट किया होता है शेयर में अचानक से तेजी आना चालू होती है.

आप ऐसा हर एक छोटे शेयर में देखेगे कि उसके बारे में रिसर्च करते समय आपको बहुत कम जानकारी मिलेगी. और यही कारण है कि पेनी स्टॉक्स पर भरोसा करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है.

2. कम लिक्विडिटी―

लिक्विडिटी का मतलब है किसी शेयर को कितनी आसानी से खरीदा और बेचा जा सकता है। अगर लिक्विडिटी ज्यादा होती है तो आप किसी भी शेयर को आसानी से खरीद और बेच सकते हैं.

सबसे ज्यादा लिक्विडिटी ब्लूचिप कंपनियों (निफ्टी50 की कंपनियां की होती है क्योंकि उनमें बहुत सारे निवेशक कौन हैं अपना पैसा लगाया होता है.

जबकि इसके विपरीत पेनी स्टॉक्स की लिक्विडिटी बहुत ही कम होती है क्योंकि इनके बारे में ज्यादातर लोगों को पता नहीं होता है इसीलिए वह किसी सस्ते शेयर को खरीद तो लेते हैं लेकिन उसे बेच नहीं पाते क्योंकि उसमें अपर सर्किट या लोअर सर्किट लगते रहते हैं और इस प्रकार एक आम निवेशक का पैसा फंस जाता है।

3. ज्यादा वोलैटिलिटी―

वोलैटिलिटी का मतलब है किसी शेयर का दाम कितना ज्यादा ऊपर नीचे होता है.

अगर किसी शेयर का चार्ट बिल्कुल स्मूथ तरीके से चलता है तो वह बहुत कम वोलेटाइल है (उदाहरण के लिए: Pidilite या Wipro) और वहीं अगर कोई स्टॉक बहुत ज्यादा ऊपर नीचे हो रहा है

तो इसका मतलब है कि वह काफी वोलेटाइल है जोकि ज्यादातर penny stocks होते हैं क्योंकि उन्हें खरीदने बेचने वालों की संख्या बहुत कम होती है।

4. ऑपरेटर के द्वारा दाम बढ़ाना या घटाना―

किसी से छोटी कंपनी के शेयर को ऑपरेट करना बहुत आसान होता है.

शेयर को ऑपरेट करने का मतलब है कि कोई भी बड़ा इन्वेस्टर एक साथ बहुत सारे पैसे अगर किसी पेनी स्टॉक में लगा देगा तो हो सके स्टॉक का प्राइस अचानक से बढ़ने लगेगा और ऐसे में लोग भी उसकी तरफ आकर्षित होने लगेंगे.

कई बार तो ऐसे stocks का बेवजह बहुत सारा प्रमोशन किया जाता है जैसे यूट्यूब पर एडवर्टाइजमेंट चलाकर या फिर न्यूज़ आर्टिकल लिखने वाली वेबसाइट को पैसे देकर.

लेकिन अगर आप एक समझदार निवेशक है तो आपको इनके जाल में नहीं फंसना चाहिए और ऐसा आप केवल तभी कर सकते हैं जब आप कंपनी पर अच्छे से रिसर्च करते हैं।

5. तेजी या गिरावट में सबसे ज्यादा प्रभावित होना―

आप हमेशा देखेंगे कि जब भी शेयर बाजार में तेजी या bull run आती है तो सबसे ज्यादा penny stocks ही भागते हैं और एक समय के बाद उनमें अपर सर्किट लगने लगते हैं जिससे कि उन्हें खरीदना मुश्किल हो जाता है।

ठीक इसके विपरीत जब मार्केट में मंदी या फिर गिरावट (bear run) आती है तो सबसे ज्यादा पेनी स्टॉक्स ही गिरते हैं या फिर कुछ छोटी कंपनियां तो पूरी तरह से बर्बाद हो चुकी होती हैं जिनके बिजनेस में कोई दम नहीं होता है।

याद रखिए किसी भी शेयर को सिर्फ उसका प्राइस या फिर चार्ट बताएं देखकर ना खरीदें बल्कि कंपनी का बिजनेस देखें और उसके फाइनेंशियल्स चेक करें. ऐसा करने से आपको कंपनी की असली हालत का पता चलेगा।

ये भी पढ़ें―

पेनी स्टॉक्स पॉपुलर क्यों होते हैं? Why Penny Stocks are so Popular?

वैसे सच तो यह है कि पेनी स्टॉक्स पॉपुलर होते नहीं है बल्कि उन्हें जबरदस्ती पॉपुलर किया जाता है.

अगर किसी शेयर का प्रमोशन बहुत ज्यादा किया जा रहा है तो आपको तुरंत समझ जाना चाहिए कि या तो उस शेयर को ऑपरेटर प्रमोट कर रहे हैं या फिर कोई इंडिविजुअल हाई नेटवर्थ वाला इंसान.

यह लोग शेयर को जबरदस्ती लोगों को सलाह देकर खरीदने को बोलते हैं और एक समय ऐसा आता है जब शेयर का प्राइस उसकी वास्तविक कीमत से बहुत ज्यादा हो चुका होता है और तब ऑपरेटर अपने खरीदे गए सभी शेयरों को बेच देते हैं.

और तब अचानक से उस शेयर में बहुत बड़ी गिरावट देखी जाती है और उसमें डाउन सर्किट लगने चालू हो जाते हैं जिससे कि आप उसे अपनी ब्रोकर एप्प के द्वारा ट्रेड नहीं कर पाते हैं मतलब खरीद बेच नहीं पाते हैं

इस प्रकार आपने जितना पैसा लगाया होता है वह सब डूब जाता है…

और तब आप सोचते हैं कि अगर वही पैसा आपने किसी अच्छे मजबूत कंपनी के शेयर में लगाया होता तो आपका पैसा सुरक्षित तो होता ही साथ ही साथ आपको उस पर अच्छे रिटर्न भी मिल गए होते।

पेनी स्टॉक्स में निवेश करने से पहले क्या ध्यान रखें? Remember while investing in Penny Stocks

पेनी स्टॉक्स में निवेश करते समय क्या ध्यान रखना चाहिए
पेनी स्टॉक्स में निवेश करते समय कौन-कौन सी बातों का ध्यान रखना चाहिए?

पेनी स्टॉक्स में निवेश करते समय लोग बहुत सारी गलतियां करते हैं जो उन्हें कंगाल कर देती हैं.

हालांकि अगर आप समझदारी से निवेश करते हैं तो शेयर बाजार से करोड़पति बनने से आपको कोई नहीं रोक सकता।

और वहीं अगर आपने सिर्फ दूसरों से टिप्स लेकर या फिर बिना खुद से रिसर्च किए किसी के स्टॉक में पैसा डालने की कोशिश की तो आपको 90% समय नुकसान ही होगा।

और फिर आप भी सभी की तरह बोलोगे कि शेयर बाजार जुआ है, लेकिन ऐसा कुछ नहीं है क्योंकि आप ऐसे हजारों एग्जांपल देख सकते हैं जिन्होंने सिर्फ शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करके अपना अपना इतना बड़ा साम्राज्य क्रिएट किया है जैसे; राकेश झुनझुनवाला, राधाकृष्ण दमानी, रामदेव अग्रवाल.

यह सभी लोग ऐसे उदाहरण हैं जो यह बताते हैं कि शेयर बाजार आपको एक मौका देता है अमीर बनने का क्योंकि आप यहां पर स्टॉक मार्केट में लिस्टेड कंपनियों के बिजनेस के जरिए देश की इकोनॉमी में योगदान देते हैं।

लेकिन क्या आपको लगता है कि यह लोग पेनी स्टॉक्स खरीदते होंगे? क्या आपको लगता है कि एक सफल निवेशक सिर्फ इसीलिए शेयर खरीदना है क्योंकि उसका दाम कम है?

बिल्कुल नहीं

एक सफल निवेशक कभी भी किसी भी पेनी स्टॉक को सिर्फ इसलिए नहीं खरीदता है क्योंकि उसका दाम कम है बल्कि वह इसलिए खरीदता है

क्योंकि उसे उस कंपनी के भविष्य में बड़ा होने का पोटेंशियल दिखता है और यह पोटेंशियल देखने के लिए आपको किसी और को खरीदने से पहले उसकी फंडामेंटल एनालिसिस करना पड़ता है.

अब आइए अपने टॉपिक पर आते हैं कि किसी भी पेनी शेयर में इन्वेस्ट करने से पहले आपको कौन-कौन सी बातों का ध्यान रखना चाहिए? आइए जानते हैं―

1. कभी भी ज्यादा पैसा निवेश ना करें

यह पॉइंट सबसे महत्वपूर्ण है जो आपको पेनी स्टॉक्स खरीदते समय ध्यान रखना चाहिए. बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो सस्ते शेयर की तलाश करते रहते हैं वह चाहते हैं कि उन्हें 1 रुपये, 2 रुपये या 5 रुपये में कोई अच्छा शेयर मिल जाए तो वह 10 हजार या 50 हजार निवेश कर देंगे और जब वह 1 का शेयर 2 रुपये का हो जाएगा तो आपका पैसा भी डबल हो जाए।

दोस्तों ऐसी सोच बहुत सारे नए निवेशकों की होती है जो उन्हें बरबाद कर देती है। मैं आपसे फिर कहता हूं कभी भी एक ही शेयर में पूरा पैसा ना लगाएं। आपको पता होना चाहिए पेनी स्टॉक्स वाली कंपनियों के शेयर कभी भी मजबूत नहीं होते हैं।

  • मजबूत शेयर से मेरा मतलब है ऐसी कंपनियां जिनके सेल्स और नेट प्रॉफिट लगातार ग्रो करते हैं। जबकि पेनी स्टॉक्स कंपनियां ज्यादातर नुकसान रही नहीं होती हैं मतलब अपने प्रॉफिट की बजाए नुकसान हो रहा होता है।
  • या फिर उन कंपनियों में इतनी क्षमता नहीं होती है कि वह अपने कर्ज को भी चुका सकें।

लेकिन ऐसी बात नहीं है कि सभी पेनी स्टॉक्स घटिया होते हैं, कुछ छोटी कंपनियां आपको पेनी स्टॉक्स के रूप में जरूर मिलेंगे लेकिन उनका ग्रोथ पीरियड चल रहा होता है जिसे ढूंढना आपको आना चाहिए।

और ऐसी ग्रोथ वाली कंपनियों को आप केवल तभी ढूंढ पाएंगे जब आपको उन कंपनियों की फंडामेंटल रिसर्च करना आती होगी जिसमें आपको कंपनी के बिजनेस मॉडल और उसके फाइनेंसियल नंबर्स को चेक करना होता है।

कंपनी पर रिसर्च करने से आपको उसकी आर्थिक स्थिति कैसी है यह पता चलता है अब बढ़ते हैं दूसरे पॉइंट पर जो आपको पेनी स्टॉक खरीदते समय ध्यान रखना चाहिए―

2. सिर्फ दूसरों के कहने पर पेनी स्टॉक ना खरीदें

जैसा कि मैंने आपको बताया कि पेनी स्टॉक्स को बहुत सारे ऑपरेटर लोग ऑपरेट करते हैं मतलब शेयर का दाम कम ज्यादा करते रहते हैं जिसमें बहुत सारे आम निवेशक फस जाते हैं।

आपने ऐसे बहुत सारे लोग देखे होंगे जो व्हाट्सएप पर कॉल के द्वारा, मैसेज के द्वारा, यूट्यूब वीडियोस के द्वारा या फिर आर्टिकल्स के द्वारा आप तक पहुंच ही जाते हैं अपना शेयर प्रमोट करने के लिए

अगर आपके पास भी ऐसा कोई भी व्यक्ति किसी भी शेयर को खरीदने के लिए कहता है तो आपको तुरंत उस से बचना चाहिए।

ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो इस प्रकार के इस्केमिया फ्रॉड का हिस्सा बन जाते हैं क्योंकि कुछ समय तक तो आपको प्रॉफिट कराया जाता है लेकिन एक समय बाद जब वह आपका भरोसा जीत लेते हैं तो आपसे बहुत बड़ा अमाउंट इन्वेस्ट करवा कर सारा पैसा लेकर भाग जाते हैं।

मतलब वो लोग अपने खरीदे गए सभी शेयर बेच देते हैं और क्योंकि सबसे ज्यादा क्वांटिटी में शेयर उन लोगों ने ही खरीदे थे जो फ़्रॉड कर रहे थे इसीलिए शेयर से नीचे गिर जाता है.

और जिन लोगों ने अपना पैसा लगाया होता है वह बर्बाद हो चुके होते हैं इसीलिए कभी भी पेनी स्टॉक्स में निवेश करते वक्त खुद से रिसर्च करें नाकि दूसरों की सलाह लें।

3. कंपनी पर अच्छे से रिसर्च करें

यह वही बात है जो मैंने ऊपर बताई है कि किसी भी कम राशि के शेयर में निवेश करने से पहले आपको उसकी कंपनी पर थोड़ा बहुत एनालिसिस करना चाहिए जैसे कि

  • वह कंपनी क्या करती है?
  • कौन सी प्रोडक्ट या सर्विस बेचती है?
  • पिछले कुछ सालों में कंपनी ने कैसा प्रदर्शन किया है?
  • क्या कंपनी प्रॉफिट कमा पा रही है?
  • क्या कंपनी अपने प्रोडक्ट या सर्विस अच्छे से बेच पा रही है?
  • कंपनी की ग्रोथ होने से कौन-कौन सी चीजें उसे रोक रहे हैं?
  • कंपनी की बैलेंस शीट, इनकम स्टेटमेंट और कैश फ्लो स्टेटमेंट जरूर चेक करें क्योंकि इससे आप एक अच्छा और मजबूत पेनी स्टॉक खरीद पाएंगे।

4. पता करें कि कंपनी का बिजनेस मॉडल क्या है

बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो कंपनी के बिजनेस मॉडल को इग्नोर करते हैं क्योंकि वह सोचते हैं कि हम तो इन्वेस्टर है ना कि बिजनेसमैन.

ऐसी मेंटालिटी बहुत से लोगों की होती है लेकिन मैं आपको बता दूं कि दुनिया के सबसे अमीर इन्वेस्टर वारेन बफेट भी कहते हैं कि―

I am a good investor because I am a good businessman
And I am a good businessman because I am a good investor

मतलब वह बिजनेस को और इन्वेस्टिंग को अलग नहीं समझते हैं. इसका मतलब है कि आज वह सफल निवेशक इसलिए हैं क्योंकि वह एक सफल बिजनेसमैन है और वह एक सफल बिजनेसमैन इसीलिए है क्योंकि वह एक सफल निवेशक है.

एक और अच्छा उदाहरण आप इंडिया के राधाकृष्ण दमानी का ले सकते हैं जो पहले शेयर मार्केट में एक ब्रोकर थे और फिर बाद में उन्होंने खुद का बिजनेस (Dmart) स्टार्ट किया और देखते ही देखते आज क्या कंपनी किस लेवल पर है आप सब जानते हैं.

5. Financials चेक करें

Financials का मतलब है कि कंपनी कितनी अच्छी तरह से सेल्स और प्रॉफिट जनरेट कर पा रही है उसी के नंबर को फाइनेंशियल्स (Financials) कहते हैं.

आपको पता होगा स्टॉक मार्केट में लिस्टेड हर एक कंपनी अपने क्वार्टर ली रिजल्ट हर 3 महीनों में पेश करती हैं जिसमें उसने कितनी सेल्स और प्रॉफिट की है और पिछले क्वार्टर और पिछले साल के मुकाबले कितनी ग्रोथ करी है यह सब उसमें लिखा रहता है.

इसीलिए आपको किसी भी पेनी स्टॉक में निवेश करने से पहले उसके फाइनेंसियल जरूर चेक करना चाहिए।

फाइनेंसियल को चेक करने के लिए आप शेयर बाजार के कुछ बहुत ही पॉपुलर वेबसाइट जैसे कि मनीकंट्रोल, investing.com, NSE या BSE पर जाकर आसानी से किसी भी कंपनी के फाइनेंसियल नंबर चेक कर सकते हैं।

इसके अलावा भी बहुत सारी चीजें हैं जो आपको पेनी स्टॉक्स खरीदते समय ध्यान रखना चाहिए जैसे कि―

  • मैनेजमेंट पर थोड़ी बहुत रिसर्च जरूर करें― कंपनी का मैनेजमेंट कैसा है कहीं ऐसा तो नहीं है कि मैनेजमेंट में सिर्फ सेल्स डिपार्टमेंट वाले लोग ही ज्यादा है या फिर मार्केटिंग वाले लोग ही बहुत ज्यादा है और टेक्नोलॉजी वाले ऑफिसर की कमी है मतलब आपको मैनेजमेंट एनालिसिस करना भी आना चाहिए।

आगरा चाहते हैं कि कंपनी का मैनेजमेंट एनालिसिस कैसे करते हैं इस टॉपिक पर हम विस्तार से एक पोस्ट लिखें तो आप कमेंट बॉक्स में मुझे बता सकते हैं।

  • स्टॉप लॉस जरूर लगाएं― पेनी स्टॉक्स खरीदते समय आप स्टॉपलॉस जरूर लगाएं। स्टॉप लॉस का मतलब होता है एक सियार में आप अधिक से अधिक कितना नुकसान झेल सकते हैं। मान लीजिए अगर कोई शेयर 10 का है तो आप 8 रुपये का स्टॉप लॉस लगा सकते हैं ऐसा करने से आकाश यार जब 8 रुपये के प्राइस से नीचे जाएगा तो वह अपने आप लिख जाएगा और आप नुकसान करने से बच जाएंगे।
  • फ्यूचर प्लान देखें― आज तक अगर कोई पेनी स्टॉक मल्टीबैगर बना है तो उसमें कभी ना कभी फ्यूचर के लिए ऐसे प्लान तैयार किए होंगे जो उसके बिजनेस को पढ़ा करने में मदद करें। इसीलिए आपको कंपनी के फ्यूचर की क्या योजनाएं हैं उन्हें पता करने की कोशिश करना चाहिए।
  • कंपनी पर कर्ज ज्यादा नहीं होना चाहिए― देखिए बिजनेस के लिए कर्ज (debt) लेना कोई बुरी बात नहीं है क्योंकि शुरुआत में छोटी कंपनियों के पास पूंजी बहुत कम होती है। लेकिन आप को ध्यान रखना चाहिए कि कंपनियों ने जो कर्ज लिया है उसका वह सही से इस्तेमाल कर पा रहे हैं या नहीं मतलब उससे प्रॉफिट जनरेट कर पा रही हैं या नहीं। आपको यह भी देखना चाहिए कि कहीं ऐसा तो नहीं है कि कंपनी पर कर्ज उसके प्रॉफिट की अपेक्षा 100 गुना ज्यादा हो। अगर ऐसा है तो आपको कभी भी उस कंपनी में नहीं फंसना चाहिए।
  • बैलेंस शीट जरूर देखें― कंपनी के पास कितनी परिसंपत्तियों और देनदारियों हैं आपको इसके बारे में विस्तार से बैलेंस शीट बताती है। अगर कंपनी के पास बहुत सारी ऐसी चीजें हैं जो यह दर्शाती हैं कि कंपनी क्यों ग्रोथ नहीं कर पा रही है तो आपको ऐसी कंपनी के पेनी स्टॉक नहीं खरीदना चाहिए। लेकिन अगर कंपनी बैलेंस शीट मजबूत है तो आपको ऊपर दिए गए अन्य फैक्टर्स को भी ध्यान रखना चाहिए और फिर अपना निर्णय लेना चाहिए।

ये भी पढ़ें―

पेनी स्टॉक्स के फायदे और नुकसान क्या-क्या हैं?

पेनी स्टॉक्स क्या होते हैं हिंदी में अर्थ समझाइए

ADVANTAGES And DISADVANTAGES OF PENNY STOCKS

पैनी स्टॉक्स के फायदे―

  • पेनी स्टॉक्स में निवेश करके कम राशि लगाकर ज्यादा प्रॉफिट या मुनाफा कमाया जा सकता है।
  • कम कीमत में ज्यादा शेयर खरीदने को मिल जाते हैं।
  • छोटी कंपनी होने के कारण उसमें ग्रोथ की संभावना ज्यादा होती है।
  • इनकी वोलेटाइल प्रकृति होने के कारण बहुत ही कम समय में बहुत ज्यादा रिटर्न दे जाते हैं इसलिए यह इन्वेस्टर्स की पहली पसंद होते हैं।

पेनी स्टॉक्स के नुकसान―

  • ज्यादातर पेनी स्टॉक्स स्मॉल कैप, माइक्रो कैप या नैनो कैप कंपनियों के होते हैं जिसके कारण इन वायरस को बहुत ज्यादा होता है क्योंकि कंपनी कितनी छोटी होती है उसमें रिस्क भी उतना ही ज्यादा रहता है।
  • इन स्टॉक्स में लगातार 5 फ़ीसदी, 10 फीसदी या 20 फीसदी के अपर सर्किट या लोअर सर्किट लगते रहते हैं जिससे शेयर की ट्रेडिंग करना मुश्किल हो जाता है जिससे आप शेयर को खरीद नहीं पाते हैं या फिर अपने खरीदे हुए शेयर को बेच नहीं पाते हैं।
  • इनमें लिक्विडिटी बहुत कम होती है इसीलिए कोई भी ऑपरेटर इन्हें बड़ी आसानी से ऑपरेट कर सकता है और शेयर का प्राइस ऊपर नीचे करके आपको लालच देकर फंसा सकता है।
  • इन स्टॉक्स के प्राइस बिना किसी कारण के ऊपर नीचे होते रहते हैं. जिस इंडस्ट्री में वह स्टॉक काम करता है अगर उस इंडस्ट्री के बारे में कोई नेगेटिव न्यूज़ आ गई तो अचानक से उसका प्राइस गिर जाता है या कुछ तो ऐसी कंपनियां होती हैं जो पूरी तरह से खत्म हो जाती हैं।
  • पेनी स्टॉक्स ही सबसे ज्यादा पंप और डंप स्कीम का हिस्सा बनते हैं मतलब पहले जानबूझकर किसी शेयर को पंप किया जाता है मतलब उसका प्राइस बढ़ाया जाता है और जब छोटे रिटेल निवेशक उस पेनी शेयर में लालच के चक्कर में फस जाते हैं तो ऑपरेटर उसे बेचकर मुनाफे के साथ अपना पैसा निकाल देते हैं, जिससे बात ही बचे हुए सब लोगों का नुकसान हो जाता है।

पेनी स्टॉक्स में निवेश करना चाहिए या नहीं? Should we invest in Penny Stocks or Not?

अगर आप इस पोस्ट को अभी तक पढ़ रहे हैं तो अब तक आप पेनी स्टॉक्स के बारे में बहुत कुछ जान चुके होंगे.

मैं आपसे कहना चाहता हूं कि पेनी स्टॉक्स में निवेश करना बुरा नहीं है लेकिन आपको किसी भी एक पेनी स्टॉक में अपना पूरा पैसा निवेश नहीं करना चाहिए।

और ध्यान रखिए कभी भी अपना ज्यादा पैसा पेनी स्टॉक्स में ना लगाएं। पेनी स्टॉक्स को आप एक्सपेरिमेंट करने के लिए खरीद सकते हैं

  • मतलब अगर आपके पास 1000 रुपये है तो आप 100-100 रुपये 10 अलग-अलग पेनी स्टॉक्स में लगा सकते हैं इस प्रकार अगर 8 कंपनियां लंबे समय में डूब भी गई और केवल दो कंपनियों ने ही अच्छे रिटर्न्स दिए तो वह आपके पूरे लॉस को रीकवर कर लेंगे

क्योंकि पेनी स्टॉक्स में रिटर्न बहुत ज्यादा मिलते हैं अगर वह चल जाए तो.

इसीलिए इस प्रकार के शेयर खरीदते समय अपने पोर्टफोलियो को अलग-अलग स्टॉक्स में डायवर्सिफाई करें ऐसा करने से आप का रिस्क काफी हद तक कम हो जाता है।

तो अब आप जान चुके होंगे कि आपको पेनी स्टॉक्स खरीदना चाहिए या नहीं और इसमें क्या क्या रिस्क शामिल होते हैं? अब आइए जानते हैं कि―

कोई शेयर पैनी स्टॉक है या नहीं कैसे पता करें? How to find if A share is Penny Stocks?

पेनी स्टॉक का मतलब केवल कम कीमत वाला शेयर ही नहीं होता है बल्कि आपको कोई शेयर पेनी स्टॉक है या नहीं इसका अंदाजा मार्केट कैप देखने से लगता है.

उदाहरण के लिए― अगर किसी share की कीमत 100 या 200 रुपये है और मार्केट कैप 1000 करोड़ से भी कम है तो वह पेनी स्टॉक ही होगा।

और वहीं दूसरी ओर अगर किसी स्टॉक का प्राइस 5 रुपये या 10 रुपये है और उसकी मार्केट कैप 50 हजार करोड़ से भी ज्यादा है तो आपको से पेनी स्टॉक नहीं बोल सकते हैं।

इस प्रकार आप किसी कंपनी की मार्केट कैप देखकर पता लगा सकते हैं कि कोई शेयर पेनी स्टॉक है या नहीं।

अगर आप मार्केट कैप के बारे में नहीं जानते हैं तो आपको बता दूं कि किसी कंपनी के टोटल शेयर को उसके करंट शेयर प्राइस से मल्टिप्लाई करने पर जो अमाउंट आता है उसे मार्केट कैप या मार्केट कैपिटलाइजेशन कहते हैं।

मार्केट कैपिटलाइजेशन = कुल शेयर की संख्या × शेयर की कीमत

अच्छे पेनी स्टॉक्स कैसे ढूंढे? Penny stocks kaise dhunde?

Penny stocks kaise dhunde, बेस्ट सबसे अच्छे पेनी स्टॉक्स की लिस्ट

वैसे तो अच्छे पेनी स्टॉक्स को ढूंढना बहुत मुश्किल होता है क्योंकि ऐसी कंपनियों के बारे में जानकारियां बहुत कम उपलब्ध होती हैं और इसीलिए इनमें जोखिम भी बहुत ज्यादा होता है।

लेकिन यहां पर मैं आपको जो तरीका बताने वाला हूं उसके द्वारा आप एक सर्वश्रेष्ठ बेस्ट पेनी स्टॉक ढूंढ सकते हैं―

सबसे पहले आप जिस पेनी स्टॉक को खरीदना चाहते हैं उसका नाम गूगल पर सर्च कीजिए और उसका मैक्सिमम चार्ट ओपन कीजिए अगर वह हरा है तो आप उसे शेयर में थोड़ा बहुत पैसा लगा सकते हैं लेकिन अगर मैक्सिमम चार्ट का कलर लाल है तो आप उसमें निवेश मत कीजिए ।

यहां पर मैं आपको कुछ पैनी स्टॉक्स के उदाहरण दे रहा हूं जिसकी मदद से आप एक अच्छा मल्टीबैगर पेनी स्टॉक ढूंढ सकते हैं.

पेनी स्टॉक का उदाहरण (Example of Penny stock in Hindi)

अगर आपको वोडाफोन आईडिया का शेयर खरीदना है जो कि अब पेनी स्टॉक बन चुका है तो सबसे पहले गूगल पर ‘Vodafone idea share’ लिखकर सर्च कीजिए।

अब आपको इसका मैक्सिमम चार्ट ओपन करना है जिसके लिए ‘More’ ऑप्शन पर क्लिक करके ‘Max‘ सिलेक्ट कीजिए.

Penny stock Example in hindi

पूरे चार्ट को ध्यान से देखिए. जैसा कि आपको पता है कि किसी भी शेयर के चार्ट की शुरुआत बाएं से दाएं ओर होती है. तो यह सुनिश्चित कीजिए कि शेयर बाएं तरफ से दाएं तरफ जाते हुए ऊपर की ओर होना चाहिए ना की नीचे की ओर.

जैसा कि आप देख सकते हैं कि वोडाफोन आइडिया का चार्ट नीचे की ओर जा रहा है और लाल रंग का है इसीलिए आपको इसमें निवेश नहीं करना चाहिए.

एक दूसरा उदाहरण देखते हैं― Urja global कंपनी का चार्ट देखिए।

पेनी स्टॉक का उदाहरण

इसका रंग हरा है और थोड़ा बहुत ऊपर तो गया ही है इसीलिए आप इसमें थोड़ा बहुत पैसा इन्वेस्ट करके देख सकते हैं।

अगला उदाहरण आप Trident share का देख सकते हैं यह भी सिर्फ 4 Rs का पेनी स्टॉक था और अब तक कमाल के रिटर्न्स दे चुका है।

पैनी स्टॉक्स का उदाहरण

तो आशा करता हूं कि आप इस तरीके का इस्तेमाल करके अच्छे पेनी स्टॉक्स ढूंढ सकते हैं।

लेकिन मैं आपसे फिर कहता हूं कि पेनी स्टॉक्स को ढूंढते समय हमेशा कंपनी के फाइनेंशियल और बिजनेस को समझने की कोशिश कीजिए तभी आप लंबे समय में पेनी स्टॉक्स से मल्टीबैगर रिटर्न कमा पाएंगे।

अगर आप इस पोस्ट में बताए गए सभी बिंदुओं पर विचार करते हैं तो मुझे पूरी उम्मीद है कि आप एक अच्छा पहने स्टॉक जरूर ढूंढ पाएंगे।

पेनी स्टॉक शेयर कौन कौन से हैं?

सबसे अच्छे पेनी स्टॉक्स कौन-कौन से हैं― यहां पर मैं आपको कुछ पेनी स्टॉक्स के नाम बता रहा हूं जो लंबे समय में लार्ज कैप कंपनी में तब्दील हो सकते हैं।

शेयर बाजार में ऐसी बहुत सारी कंपनियां हैं जो पहले स्मॉल कैप थी और फिर मिडकैप बनी और अब लार्ज कैप बन चुकी है।

  • इसका सबसे अच्छा उदाहरण है; एचडीएफसी बैंक का शेयर. क्या आपको पता है एक समय ऐसा था जब एचडीएफसी बैंक का शेयर सिर्फ 11 रुपये का और अब यह बैंकिंग सेक्टर का बादशाह है।

और इसीलिए लोग पेनी स्टॉक्स के पीछे पागल होते हैं क्योंकि वह उस समय कंपनी में इन्वेस्ट करना चाहते हैं जब वह बहुत ही छोटी होती है लेकिन ऐसा करने के लिए आपको बहुत रिसर्च करनी पड़ती है तब जाकर आप किसी मल्टी बर्गर पेनी स्टॉक को ढूंढ पाते हैं।

क्योंकि अगर इतना ही आसान होता तो सभी लोग पेनी स्टॉक खरीद कर अमीर बन गए होते।

  • आपको बता दें कि पेनी स्टॉक्स में सक्सेस रेट 1% होता है और इसीलिए अधिकतर पेनी स्टॉक्स वाली कंपनियां बर्बाद हो जाती है या पहले से ही दिवालिया होने के कगार पर खड़ी होती हैं।

और जो लोग ऐसी कंपनियों को नहीं पहचान पाते हैं और बिना सोचे समझे उनमें निवेश कर देते हैं वही बाद में यह कहते हैं कि शेयर मार्केट जुआ है।

सबसे अच्छे बेस्ट पेनी स्टॉक्स की लिस्ट―

  1. Trident
  2. Urja Global
  3. RVNL
  4. IRFC
  5. IRCON International
  6. IDFC First Bank
  7. Sawaca Business Machines Ltd
  8. FCS Software Solutions Ltd

इस सबसे अच्छे पेनी शेयर की लिस्ट में जो स्टॉक्स बताए गए हैं उन सभी में आप थोड़ा-थोड़ा करके अपना पैसा निवेश कर सकते हैं लेकिन उससे पहले आप एक बार खुद से इन स्टॉक्स पर रिसर्च जरूर करें।

FAQs (पेनी स्टॉक क्या होते हैं? Penny Stocks Meaning in Hindi)

पेनी स्टॉक में निवेश करने में कितना जोखिम है?

अगर आप पेनी स्टॉक में निवेश करना चाहते हैं तो आपको जोखिम तो लेना होगा क्योंकि स्टॉक मार्केट में कोई भी पेनी स्टॉक ऐसा नहीं है जिसमें जोखिम ना हो ऐसा इसलिए है क्योंकि पेनी स्टॉक वाली अधिकतर कंपनियां बहुत छोटी होती हैं और इसीलिए उन्हें रिस्क बहुत ज्यादा होता है।

क्या पेनी स्टॉक्स भरोसेमंद होते हैं?

छोटी कंपनियों के शेयर पर भरोसा करना मुश्किल होता है क्योंकि कंपनी जितनी छोटी होगी उसमें जिसके भी उतना ही ज्यादा होगा ऐसा इसलिए होता है क्योंकि नई कंपनी को बिजनेस करने का इतना ज्यादा एक्सपीरियंस नहीं होता है और इसलिए आपको इन्वेंट कभी भी ज्यादा पैसा निवेश नहीं करना चाहिए।

एक अच्छे पेनी स्टॉक का चुनाव कैसे करें?

सबसे अच्छे पेनी स्टॉक का चुनाव करने के लिए इस पोस्ट में मैंने बहुत सारे जरूरी पॉइंट्स बताए हैं जिन को फॉलो करके आप एक अच्छा बेहतरीन पेनी स्टॉक ढूंढ सकते हैं।

पैनी स्टॉक्स खरीदते समय कौन-कौन सी बातों का ध्यान रखना चाहिए?

किसी भी पेनी स्टॉक को खरीदते वक्त उस कंपनी के फंडामेंटल जरूर चेक करें जिसमें आप कंपनी की बैलेंस शीट, इनकम स्टेटमेंट और कैश फ्लो स्टेटमेंट देख सकते हैं। इसके अलावा आप कंपनी के कर्ज और उसकी भविष्य की योजनाओं पर भी नजर रख सकते हैं।

Conclusion of ‘What is Penny Stocks in Hindi’

इस पोस्ट में मैंने आपको प्रस्ताव से बताया है कि पैनी स्टॉक्स क्या हैं? (What is Penny Stocks in Hindi) इसके अलावा पेनी स्टॉक्स के फायदे और नुकसान, उसमें कितना रिस्क है, किस तरह के शेयर में आपको निवेश करना चाहिए और पेनी स्टॉक में निवेश करने से पहले कौन-कौन सी चीजें आपको देखनी चाहिए? इन सब के बारे में मैंने इस पोस्ट में विस्तार से समझाने की कोशिश की है।

मुझे कमेंट करके बताइए आपने किस पेनी स्टॉक में निवेश किया हुआ है और इस पोस्ट से आपने क्या सीखा?

वैसे तो इस पोस्ट में मैंने पेनी स्टॉक के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से देने की कोशिश की है लेकिन अभी भी बहुत सारी ऐसी चीजें हैं जो आपको पेनी स्टॉक्स के बारे में सीखनी चाहिए और आप पेनी स्टॉक्स का पार्ट 2 वाला पोस्ट भी चाहते हैं तो आप नीचे कमेंट में बता सकते हैं।

आप शेयर बाजार के बारे में अपना ज्ञान बढ़ाने के लिए इस ब्लॉग के अन्य पोस्ट भी पढ़ सकते हैं.

Rate this post
Deepak SenAbout Author
मेरा नाम दीपक सेन है और मैं इस ब्लॉग का Founder हूं। यहां पर मैं अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से शेयर मार्केट, निवेश और फाइनेंस से संबंधित उपयोगी जानकारी शेयर करता हूं। ❤️

4 thoughts on “पैनी स्टॉक्स क्या हैं? | What is Penny Stocks in hindi?”

  1. सर पेनी स्टॉक के बारे में भी विस्तृत जानकारी दें ।आपकी दी हुई जानकारी बहुत ही सरल भाषा मे है हर कोई आसानी से समझ सकते हैं।

    Reply
    • Amar भाई आप इस पोस्ट को ध्यान से पढ़िए इस पोस्ट में मैंने पैनी स्टॉक्स के बारे में ही विस्तार से बताया है।

      Reply
  2. Penny stocks are a type of security that are often considered to be high-risk investments. They are also known as penny stocks because they trade at a low price per share.

    Reply

Leave a Comment