टर्म इंश्योरेंस कौन ले सकता है? | टर्म इंश्योरेंस के लिए कौन पात्र है?

आज आप जानेगें कि टर्म इंश्योरेंस कौन ले सकता है, टर्म इंश्योरेंस के लिए कौन पात्र है, टर्म इंश्योरेंस लेने के लिए क्या योग्यता का होनी चाहिए और Term insurance लेने के लिए क्या नियम है?

इसके अलावा टर्म इंश्योरेंस लेने के लिए कितना पढ़ा लिखा होना चाहिए, उम्र कितनी होनी चाहिए, क्या स्टूडेंट टर्म इंश्योरेंस ले सकता है और नौकरी या बेरोजगार में से किसे टर्म इंश्योरेंस जल्दी मिल सकता है, आज आप इन सभी सवालों के जवाब जानने वाले हैं.

मैं वादा करता हूं इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपके मन में जितने भी डाउट है जैसे;

  • टर्म इंश्योरेंस किसे लेना चाहिए और किसे नहीं,
  • किसको जल्दी मिल जाता है और किसे बहुत कोशिशों के बाद भी नहीं मिलता है,
  • किन सिचुएशन में टर्म प्लान नहीं मिलता है
  • कौन व्यक्ति टर्म इंश्योरेंस के लिए पात्र है और कौन नहीं…

इन सब के बारे में आज आपको डिटेल में जानकारी मिलने वाली है तो प्लीज इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढियेगा. चलिए शुरू करते हैं–

इस पोस्ट में आप जानेंगे-

टर्म इंश्योरेंस कौन ले सकता है?

टर्म इंश्योरेंस कौन ले सकता है, टर्म इंश्योरेंस के लिए कौन पात्र है

टर्म इंश्योरेंस के लिए कौन पात्र है इसका जवाब है कि 18 से 65 साल की उम्र का कोई भी व्यक्ति टर्म इंश्योरेंस ले सकता है. इससे फर्क नहीं पड़ता चाहे वह ग्रामीण इलाके का हो या शहरी इलाके का, स्टूडेंट हो या नौकरी पेशा, हाउसवाइफ हो या प्रोफेशनल, कम पढ़ा लिखा हो या ज्यादा वह टर्म इंश्योरेंस के लिए दावा कर सकता है।

इसके अलावा Term insurance लेने के लिए आपकी income और हेल्थ कंडीशन भी इंपॉर्टेंट फैक्टर होते हैं इसीलिए टर्म प्लान लेने से पहले insurance company की policies और रिक्वायरमेंट को अच्छे से चेक कर लेना चाहिए।

टर्म इंश्योरेंस कौन नहीं ले सकता है?

Who cannot take term insurance: टर्म इंश्योरेंस लेने के लिए कुछ केस होते हैं जहां कुछ लोगों को इंश्योरेंस कंपनी से अप्रूवल मिलना मुश्किल हो सकता है, जैसे:

  • उच्च जोखिम वाले व्यवसाय: अगर आपकी नौकरी उच्च जोखिम वाले व्यवसाय में आती है जैसे कि पायलेट, construction worker या firefighter, तो आपको टर्म इंश्योरेंस लेने के लिए हाई प्रीमियम pay करना पड़ सकता है।
  • मेडिकल हिस्ट्री: अगर आपके मेडिकल रिपोर्ट्स में गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं जैसे कि हृदय रोग, कैंसर, या डायबिटीज जैसी बिमारियां हैं, तो आपको इंश्योरेंस कंपनी से अप्रूवल लेने में मुश्किल हो सकती है।
  • लाइफस्टाइल चॉइस: अगर आपकी लाइफस्टाइल चॉइस जैसे की स्मोकिंग या ड्रिंकिंग जैसी habits है, तो आपको टर्म इंश्योरेंस के लिए हाई प्रीमियम पे करना पड़ सकता है।

इसलिए, टर्म इंश्योरेंस लेने से पहले आपको अपनी पात्रता (eligibility) को चेक करना चाहिए और अपनी इंश्योरेंस कंपनी की पॉलिसी को एक बार समझ लेना चाहिए।

🔥 Whatsapp Group👉 अभी जुड़ें
🔥 Telegram Group👉 अभी जुड़ें

हमें टर्म इंश्योरेंस कब नहीं मिलता है?

When we do not get term insurance: कुछ और स्थितियां होती हैं जहां टर्म इंश्योरेंस लेना संभव नहीं होता है, जैसे:

  • आर्थिक तंगी: टर्म इंश्योरेंस का प्रीमियम राशि नियमित अंतराल में देना होता है। अगर आपकी वित्तीय स्थिति इतनी मजबूत नहीं है कि आप नियमित अंतराल में प्रीमियम का भुगतान कर सकें, तो टर्म इंश्योरेंस लेना संभव नहीं होगा।
  • शॉर्ट-टर्म रिक्वायरमेंट्स: अगर आपको शॉर्ट-टर्म रिक्वायरमेंट है, जैसे कि loan के लिए collateral security प्रोवाइड करना है, तो आपको टर्म इंश्योरेंस की जगह short-term insurance policy को प्रेफर करना चाहिए।
  • मौजूदा बीमा पॉलिसी: अगर आप पहले से ही किसी दूसरी बीमा पॉलिसी लिए हुए है, तो आपको टर्म इंश्योरेंस लेना संभव नहीं होगा क्योंकि आपको पहले से ही कवरेज मिल रही होगी।

ऐसी स्थितियों में, आपको अपनी फाइनेंशियल जरूरतों और insurance needs को ध्यान में रखते हुए बीमा पॉलिसियों पर विचार करना चाहिए।

टर्म इंश्योरेंस के लिए कौन पात्र है और कौन नहीं?

टर्म इंश्योरेंस का लाभ सभी लोग ले सकते हैं, लेकिन कुछ लोगों के लिए ये पॉलिसी ज्यादा फायदेमंद हो सकती है।

  • Young professionals: यंग प्रोफेशनल्स जो अभी अपनी करियर की शुरुआत कर रहे हैं, उनके लिए टर्म इंश्योरेंस एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है क्योंकि इस पॉलिसी के प्रीमियम अमाउंट लो होता है और coverage हाई होती है।
  • Married couples: विवाहित जोड़े जो परिवार के लिए financial stability चाहते हैं, उनके लिए टर्म इंश्योरेंस एक अच्छा विकल्प हो सकता है क्योंकि उनके आश्रितों की वित्तीय स्थिरता को कवर किया जाता है।
  • Business owners: व्यवसाय के मालिक जो अपने business की liabilities से वित्तीय स्थिरता की गारंटी लेते हैं, उनके लिए टर्म इंश्योरेंस एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

कुछ लोगों को Term insurance लेने में थोड़ी परेशानी हो सकती है जैसे कि:

  • High-Risk Individuals: जिनको मेडिकल हिस्ट्री या उच्च जोखिम वाले व्यवसायों से संबंधित मुद्दे हैं, उनको टर्म इंश्योरेंस लेना थोड़ा मुश्किल हो सकता है और उन्हें high premium भुगतान करना पड सकता है।
  • Senior citizens: वरिष्ठ नागरिक जो 60 साल के ऊपर हो जाते हैं, उनके लिए टर्म इंश्योरेंस लेना थोड़ा मुश्किल हो सकता है क्योंकि उनकी जीवन प्रत्याशा कम हो जाती है और इसीलिए उनको हाई प्रीमियम पे करना पड़ सकता है।

वैसे देखा जाए तो टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी काफी जल्दी मिल जाती है क्योंकि इसमें मेडिकल एक्जामिनेशन की जरूरत नहीं होती है इसलिए, पॉलिसी जारी करने की प्रक्रिया कम टाइम लेती है।

इसके अलावा, एक और उदाहरण के तौर पर,

अगर किसी का टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत कवरेज राशि 50 लाख है और उसकी पॉलिसी अवधि 20 साल की है, तो अगर उसकी डेथ पॉलिसी टर्म के तहत हो जाती है तो उसके नॉमिनी को 50 लाख का भुगतान मिलेगा। ये भुगतान उनकी वित्तीय स्थिरता को बनाए रखने में मदद करेगा।

चलिए एक और उदाहरण देखते हैं

मान लो अगर किसी बिजनेस ओनर को बिजनेस की देनदारियों यानी liabilities से संबंधित वित्तीय स्थिरता की गारंटी लेनी है, तो वो अपने बिजनेस के तहत प्रमुख कर्मचारियों के लिए टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी ले सकते हैं। इसके अंतर्गत प्रमुख कर्मचारियों की आकस्मिक मृत्यु के मामले में व्यवसाय के मालिक को मुआवजा मिलता है।

क्या होम लोन या कार लोन होने पर टर्म इंश्योरेंस मिल सकता है?

अगर किसी व्यक्ति के पास home loan या car loan जैसी देनदारियां हैं, तो भी वो टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी लेकर अपने परिवार को आर्थिक रूप से सुरक्षित रख सकता है।

इसके तहत, अगर पॉलिसी होल्डर की मृत्यु पॉलिसी टर्म के दौरन हो जाती है, तो पॉलिसी के अंडर कवरेज अमाउंट से लायबिलिटीज को pay कर दिया जाता है ताकि पॉलिसीधारक की फैमिली फाइनेंशियली स्टेबल रह सके।

क्या खिलाड़ियों को टर्म इंश्योरेंस मिल सकता है?

जी हां, किसी प्रोफेशनल एथलीट के लिए भी टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी लेना फायदेमंद हो सकता है।

एथलीट के पास उनके फ्यूचर अर्निंग से रिलेटेड लायबिलिटी होते हैं, जिसमें injury या रिटायरमेंट से रिलेटेड फाइनेंशियल लॉस शामिल हो सकता है।

इसलिए, टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत एथलीट अपने फ्यूचर अर्निंग्स की फाइनेंशियल स्टेबिलिटी को सुनिश्चित कर सकता है।

क्या शादीशुदा व्यक्ति को टर्म इंश्योरेंस मिल सकता है?

जी हां, अगर किसी ने शादी की है तो परिवार के पास आश्रित सदस्य हैं, जैसे बच्चे या बुजुर्ग माता-पिता, तो वो टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी लेकर अपने परिवार की वित्तीय जरूरतों को कवर कर सकते हैं।

अगर पॉलिसी टर्म के अंडर अगर इंश्योर्ड की डेथ हो जाती है तो उसकी फैमिली को पॉलिसी के तहत कवरेज अमाउंट मिलता है, जो उसकी फाइनेंशियल स्टेबिलिटी को मेंटेन करने में हेल्प करता है।

टर्म इंश्योरेंस का दावा कौन कर सकता है?

टर्म इंश्योरेंस का दावा, किसी भी रजिस्टर्ड इंश्योरेंस कंपनी द्वारा किया जा सकता है। भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) के द्वारा अधिकृत बीमा कंपनियां ही भारत में बीमा पॉलिसियां ऑफर कर सकती हैं।

किसी भी व्यक्ति को टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी के लिए अप्लाई करने के लिए अपने इंश्योरेंस कंपनी से संपर्क करना होगा और उनकी पॉलिसी और आवश्यकताओ के बारे में जानकरी लेनी होगी।

आम तौर पर, टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी के लिए मेडिकल चेकअप की जरूरत होती है और इसके अलावा आवेदक की उम्र, जीवनशैली, स्वास्थ्य की स्थिति, व्यवसाय, और आय के बारे में भी जानकारी दी जानी होती है।

जब आवेदक की पात्रता और दस्तावेजीकरण प्रक्रिया पूरी हो जाती है, तब बीमा कंपनी पॉलिसी के लिए प्रीमियम चार्ज करती है। प्रीमियम राशि, बीमित व्यक्ति की आयु, पॉलिसी अवधि, कवरेज राशि और आवेदक की स्वास्थ्य स्थिति पर निर्भर करता है।

टर्म इंश्योरेंस लेने के लिए किसके लिए क्या नियम बनाए गए हैं?

Rules of buying term insurance: टर्म इंश्योरेंस लेने के लिए कुछ नियम होते हैं, जिनको बीमा कंपनियों के द्वारा सेट किया जाता है। ये नियम कंपनी टू कंपनी अलग-अलग हो सकते हैं, लेकिन कुछ सामान्य नियम हैं जो सामान्य रूप से हर कंपनी के लिए लागू होते हैं। जो कुछ इस तरह हैं–

  • आयु सीमा: सभी बीमा कंपनियां अपनी नियम और शर्तों के हिसाब से न्यूनतम और अधिकतम आयु सीमा निर्धारित करती हैं, जिसके अनुसार ही आवेदक पॉलिसी के लिए पात्र होते हैं।
  • आय: बीमा कंपनियों की तरफ से पॉलिसी का ऑफर करने से पहले, आवेदक की आय (income) का प्रमाण दिया जाना होता है, क्योंकि प्रीमियम की राशि उसके आय पर निर्भर करती है।
  • मेडिकल हिस्ट्री: इंश्योरेंस कंपनियां पॉलिसी के लिए अप्लाई करने वाले की मेडिकल हिस्ट्री पर भी फोकस करती हैं। कुछ कंपनियां आपके मेडिकल रिपोर्ट्स को देख कर ही पॉलिसी ऑफर करती हैं।
  • आदतें: कुछ कंपनियां आपकी आदतें, जैसे कि स्मोकिंग या ड्रिंकिंग, पर भी फोकस करती हैं और इसी पर पॉलिसी का प्रीमियम अमाउंट निर्भर करता है।
  • व्यवसाय: कुछ कंपनियां आपके व्यवसाय को भी देखती हैं, जैसे जोखिम भरी नौकरियां, और पॉलिसी का ऑफर इस पर निर्भर करता है।

ये सभी नियम आम तौर पर टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी लागू करने के लिए फॉलो किए जाते हैं।

क्या किसी छात्र को टर्म इंश्योरेंस मिल सकता है?

हां, किसी छात्र को टर्म इंश्योरेंस मिल सकता है, लेकिन पात्रता का स्तर और प्रीमियम राशि छात्र की उम्र, आय, स्वास्थ्य की स्थिति, और आदतों पर निर्भर करती है।

जैसे कि, अगर कोई स्टूडेंट अच्छी इनकम वाला पार्ट-टाइम जॉब करता है तो उसकी पात्रता और प्रीमियम राशि ज्यादा हो सकती है, लेकिन अगर वो फुल-टाइम स्टूडेंट है और इनकम कम है तो उसकी पात्रता और प्रीमियम राशि कम हो सकती है।

स्टूडेंट की उम्र भी एक महत्वपूर्ण फैक्टर होती है, कुछ कंपनियां मिनिमम 18 साल की उम्र वाले एप्लिकेंट्स को ही पॉलिसी ऑफर करती हैं। इसके अलावा, छात्र के स्वास्थ्य की स्थिति और आदतें भी पॉलिसी का प्रीमियम राशि पर प्रभाव डालते हैं।

कुल मिलाकर, किसी स्टूडेंट को टर्म इंश्योरेंस लेने से पहले उसकी पात्रता और पॉलिसी की डिटेल्स को अच्छे से समझ लेना चाहिए और सही जानकारी के साथ ही पॉलिसी सेलेक्ट करनी चाहिए।

क्या 12वीं पास को टर्म इंश्योरेंस मिल सकता है?

हां, 12वीं पास व्यक्ति को टर्म इंश्योरेंस मिल सकता है, लेकिन eligibility और premium amount उसकी उम्र, आय, स्वास्थ्य स्थिति और आदतों पर निर्भर करता है।

12वीं पास होने से कोई व्यक्ति टर्म इंश्योरेंस के लिए पात्र हो सकता है, लेकिन उसकी पात्रता और प्रीमियम राशि उसके age और income पर निर्भर करेगी।

अगर 12वीं पास व्यक्ति एक जॉब करता है और उसकी इनकम अच्छी है तो उसकी एलिजिबिलिटी और प्रीमियम की रकम high हो सकती है। लेकिन अगर कोई 12वीं पास व्यक्ति अपना पारिवारिक व्यवसाय में काम करता है और उसकी आय कम है तो उसकी पात्रता और प्रीमियम राशि कम हो सकती है।

इसके अलावा, 12वीं पास व्यक्ति के स्वास्थ्य की स्थिति और आदतें भी पॉलिसी का प्रीमियम राशि पर प्रभाव डालते हैं। कुल मिलाकर, किसी 12वीं पास व्यक्ति को टर्म इंश्योरेंस लेने से पहले उसकी पात्रता और पॉलिसी की डिटेल्स को अच्छे से समझने के बाद सही जानकारी के साथ ही पॉलिसी सेलेक्ट करनी चाहिए।

क्या हाउसवाइफ टर्म इंश्योरेंस के लिए पात्र है?

जी हां, हाउसवाइफ टर्म इंश्योरेंस के लिए पात्र है। टर्म इंश्योरेंस का मुख्य उद्देश्य एक व्यक्ति के आश्रितों (परिवार के सदस्यों) को वित्तीय सुरक्षा प्रदान करना होता है, अगर उनकी अनुपस्थिति में कुछ अनहोनी हो जाती है।

इसलिए, हाउसवाइफ के भी फैमिली मेंबर्स उनकी फाइनेंशियल प्रोटेक्शन के लिए टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी लेना चाहते हैं।

लेकिन बाकी लोगों की तरह, गृहिणी की पात्रता और प्रीमियम राशि उसकी उम्र, स्वास्थ्य स्थिति और income पर निर्भर करती है। जितनी ज्यादा उम्र हो, उतना ही प्रीमियम राशि ज्यादा हो सकती है। स्वास्थ्य की स्थिति भी पॉलिसी के प्रीमियम राशि पर प्रभाव डालती है। अगर हाउसवाइफ का कोई पहले से बीमार है, तो प्रीमियम राशि ज्यादा हो सकती है।

हाउसवाइफ की इनकम नहीं होती है, इसलिए वो इनकम रिप्लेसमेंट के लिए पॉलिसी नहीं ले सकती, लेकिन उनके अनुपस्थिति में, उनके द्वारा हैंडल करने वाले घर के काम और बच्चों को देखने के लिए फैमिली मेंबर्स टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी ले सकते हैं।

क्या बेरोजगार व्यक्ति को टर्म इंश्योरेंस मिल सकता है?

बेरोजगारी व्यक्ति को टर्म इंश्योरेंस मिल सकता है, लेकिन इसके लिए कुछ शर्तें पूरी होनी चाहिए। बीमा कंपनी पॉलिसीधारकों की आय और रोजगार की स्थिति को देखती है, और बेरोजगार व्यक्ति के मामले में भी यही होता है। लेकिन, कुछ कंपनियां बेरोजगार व्यक्तियों को भी पॉलिसी ऑफर करते हैं।

इसके लिए, बेरोजगार व्यक्ति को सबसे पहले अपनी वित्तीय स्थिति और भविष्य की कमाई की संभावनाओं को ध्यान में रखकर पॉलिसी के लिए लागू करना चाहिए। पॉलिसी के लिए अप्लाई करते समय, कुछ डॉक्युमेंट्स भी सबमिट करने पड़ सकते हैं जैसे कि एड्रेस प्रूफ, आइडेंटिटी प्रूफ, इनकम प्रूफ आदि।

लेकिन याद रखिए, बेरोजगार व्यक्ति को पॉलिसी मिलने के लिए शायद ज्यादा प्रीमियम पे करना पड़ सकता है, क्योंकि उनके रोजगार की स्थिति में अनिश्चितता होती है।

तो अगर आप भी non-working है और टर्म इंश्योरेंस लेना चाहते हैं, तो पॉलिसी डिटेल्स और प्रीमियम राशि के बारे में अच्छी तरह से जानकारी प्राप्त करने के बाद ही पॉलिसी लेनी चाहिए।

FAQs (Term insurance kaun le sakta hai)

यहां पर टर्म इंश्योरेंस लेने से संबंधित कुछ कॉमन सवाल और उनके जवाब दिए गए हैं जो आप लोग अक्सर पूछते रहते हैं–

क्या टर्म इंश्योरेंस लेने के लिए इनकम प्रूफ की जरूरत होती है?

हां, टर्म इंश्योरेंस लेने के लिए इनकम प्रूफ की जरूरत होती है। आपको अपनी आय की प्रमाणिक पुष्टि जैसे की इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) या सैलरी स्लिप दिखाई देगी।

क्या स्मोकिंग या ड्रिंकिंग हैबिट्स वाले लोग टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं?

हां, smoking या drinking की आदत वाले लोग भी टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं, लेकिन उन्हें प्रीमियम की अधिक राशि देनी पड़ सकती है।

क्या वरिष्ठ नागरिक टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं?

हां, वरिष्ठ नागरिक टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं, लेकिन उन्हें ज्यादा प्रीमियम देना पड़ सकता है।

क्या धूम्रपान करने वाले टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं?

हां, धूम्रपान करने वालों को टर्म इंश्योरेंस मिल सकता है लेकिन उन्हें धूम्रपान करने वालों को उच्च प्रीमियम का भुगतान करना पड़ सकता है।

क्या मेडिकल कंडीशन वाले व्यक्ति टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं?

यदि मेडिकल कंडीशन जैसे की डायबिटीज या हाई ब्लड प्रेशर के कंट्रोल में है, तो वो व्यक्ति टर्म इंश्योरेंस ले सकता है, लेकिन higher प्रीमियम पे करना पड़ सकता है। लेकिन कुछ केस में, यदि मेडिकल कंडीशन सीरियस है, तो टर्म इंश्योरेंस का प्रस्ताव रिजेक्ट हो सकता है।

क्या कम आय वाले व्यक्ति टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं?

हां, कम आय वाले व्यक्ति टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं, लेकिन उन्हें अपनी आय से प्रीमियम का भुगतान करना पड़ेगा।

क्या एनआरआई टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं?

हां, एनआरआई (NRI) टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं, लेकिन उन्हें पॉलिसी लेने से पहले अपनी पात्रता की जांच कर लेनी चाहिए।

क्या टर्म इंश्योरेंस लेते समय मेडिकल टेस्ट की जरूरत है?

हां, ज्यादातर टर्म इंश्योरेंस कंपनियों में मेडिकल टेस्ट की जरूरत पड़ती है, जिससे उस व्यक्ति की स्वास्थ्य स्थिति का पता चल सके और उन्हें सही प्रीमियम राशि की गणना करने में मदद हो सके।

क्या टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी को सरेंडर किया जा सकता है?

हां, टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी को सरेंडर किया जा सकता है और पॉलिसी सरेंडर करने के बाद आपको कुछ हिस्सा प्रीमियम के रूप में वापस भी मिल सकता है।

क्या टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी को ट्रांसफर किया जा सकता है?

नहीं, टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी को ट्रांसफर नहीं किया जा सकता है लेकिन, आप अपनी पॉलिसी के नॉमिनी को बदल सकते हैं।

आखिरी शब्द (Who can have term insurance?)

तो ये था हमारा लेख “टर्म इंश्योरेंस कौन ले सकता है और टर्म इंश्योरेंस के लिए क्या पात्रता है” उम्मीद करता हूं आज आपने term insurance के बारे में बहुत कुछ जाना और सीखा होगा।

दोस्तों, टर्म इंश्योरेंस एक बहुत महत्वपूर्ण बीमा होता है जो हमारे प्रियजनों की भविष्य की वित्तीय सुरक्षा को सुनिश्चित करने में मदद करता है। इसलिए, अगर आप पात्र हैं तो टर्म इंश्योरेंस जरूर लें।

लेकिन, टर्म इंश्योरेंस लेने से पहले अपने इंश्योरेंस की जरूरत का आकलन करें और अपने बजट और परिवार की जरूरतों के हिसाब से प्लान चुनें। इसके अलावा, अपने बीमा कंपनी का सावधानी से चयन करें और उनके नियमों और शर्तों को अच्छे से समझने के बाद ही निर्णय लें।

ये भी पढ़ें,

अगर आपके मन में इस पोस्ट से संबंधित कोई भी सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर पूछिए और अगर आपको यह जानकारी उपयोगी लगी हो तो इसे सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें।

5/5 - (5 votes)

मेरा नाम दीपक सेन है और मैं इस वेबसाइट का Founder हूं। यहां पर मैं अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से शेयर मार्केट, निवेश और फाइनेंस से संबंधित उपयोगी जानकारी शेयर करता हूं। ❤️