शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है? | शेयर का प्राइस कम या ज्यादा क्यों होता है?

शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है? शेयर प्राइस कम या ज्यादा क्यों होता है, दाम क्यों बदलते हैं | Why Stock price goes up and down | Why stock prices fluctuate | Why Stock Price Change | Why shares rise and fall | Who sets stock prices

हम जैसे छोटे रिटेल निवेशक रोजाना शेयर मार्केट में स्टॉक्स के प्राइस को कभी ऊपर तो कभी नीचे जाते हुए देखते हैं तो थोड़ा डर जरूर लगता है लेकिन यही चीज इंटरेस्टिंग भी लगती है।

क्योंकि जब शेयर की कीमत बढ़ती है तो शेयर को खरीदने का मन करता है और जब कीमत घटती है तो शेयर को बेचने का मन करता है,

लेकिन यह दोनों ही तरीके गलत है…

अगर आप भी केवल स्टॉक के ऊपर या नीचे जाने से, तेजी और मंदी से या फिर सेंसेक्स और निफ्टी में उछाल और गिरावट से प्रभावित होकर तुरंत निर्णय लेते हैं तो आप गलत रास्ते पर हैं,

क्योंकि पहले आपको कम से कम पता होना चाहिए कि अगर कोई शेयर लगातार ऊपर जा रहा है तो उसके पीछे कोई ना कोई कारण जरूर होता है

और इसी प्रकार अगर किसी शेयर का दाम लगातार गिर रहा है तो इसके पीछे भी कोई ना कोई वजह जरूर होती है।

आपका काम है उस वजह को ढूंढना और आज हम इसी विषय के बारे में विस्तार से चर्चा करने वाले हैं कि स्टॉक मार्केट में किसी कंपनी के शेयर का प्राइस ऊपर नीचे कम या ज्यादा क्यों होता है? मतलब शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है?

आइए जानते हैं―

Contents

शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है? Why stock prices up and down?

शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है?, Why share prices change
शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है??

हर एक निवेशक जानता है कि शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव तो होता ही रहता है और अगर बात करें कि शेयर की कीमत घटती या बढ़ती क्यों है तो इसका कोई निश्चित कारण नहीं होता है, यह बहुत सारे फैक्टर्स पर निर्भर करता है।

आज अगर किसी शेयर का दाम ऊपर है तो कल नीचे होगा, मार्केट में कभी तेजी तो कभी मंदी जरूर होगी और इसीलिए शेयर की कीमते घटती बढ़ती है और शेयर का प्राइस प्राइस ऊपर नीचे होता है।

लेकिन सबसे इंपोर्टेंट यह है कि हर एक इन्वेस्टर को यह पता होना चाहिए कि शेयर का मूल्य कैसे निर्धारित होता है, मतलब शेयर बाजार में सेंसेक्स और निफ्टी के प्राइस इतनी जल्दी क्यों बदलते रहते हैं (Why Sensex or Nifty moves up or down), शेयर का मूल्य आखिर बदलता कैसे है?

और इसके पीछे क्या कारण है।

नीचे मैंने आपको उदाहरण के साथ कुछ ऐसे पॉइंट्स बताएं हैं जो बताते हैं कि शेयर मार्केट में उतार-चढ़ाव क्यों होता है और शेयर का प्राइस ऊपर-नीचे और कम या ज्यादा क्यों होता है?

तो आइए जानते हैं―

शेयर का प्राइस ऊपर नीचे कैसे होता है?

How does stock price change― इन सभी पॉइंट्स के बारे में जानने से पहले आपको शेयर मार्केट की बेसिक जानकारी होनी चाहिए जैसे कि अगर आप किसी कंपनी का शेयर खरीद रहे हैं तो आपको पता होना चाहिए कि उसके पीछे कोई ना कोई बिज़नेस जरूर होता है और आप उस शेयर के माध्यम से कंपनी के बिजनेस में पैसा लगाते हैं।

मेरा मतलब है कि आपको सिर्फ शेयर का प्राइस या फिर चार्ट पेटर्न देखकर ही उसमें निवेश नहीं करना चाहिए बल्कि आपको कई अन्य फैक्टर भी देखने चाहिए जैसे कि कंपनी की ग्रोथ कैसी है और कहीं ऐसा तो नहीं है कि कंपनी ने बहुत ज्यादा कर्ज लिया हुआ हो जिसे चुकाने में वह सक्षम ना हो…

इस प्रकार की बेसिक जानकारियां आपको किसी भी शेयर को खरीदने से पहले होनी चाहिए केवल तभी आप अच्छे से समझ पाएंगे कि किसी भी शेयर का प्राइस कम या ज्यादा क्यों होता है? और इनकी कीमतें इतनी जल्दी घटती या बढ़ती कैसे हैं?

आजा शुरू करते हैं, जो सबसे पहला है―

1. कंपनी का परफॉर्मेंस (शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है)

आपको पता होगा कि शेयर बाजार में लिस्टेड हर कंपनी कोई ना कोई बिजनेस करती है जिसमें वह अपना कोई प्रोडक्ट या सर्विस बेचती है।

और हर कंपनी को अपने क्वार्टरली रिजल्ट हर 3 महीने में पेश करने पड़ते हैं जिसमें उनके सेल्स और प्रॉफिट के बारे में बताया जाता है।

क्वार्टरली रिजल्ट में कंपनी बताती है कि उसने पिछले क्वार्टर के मुकाबले इस बार कितना मनासा या नुकसान किया है इसकी जानकारी आप NSE या BSE स्टॉक एक्सचेंज की वेबसाइट पर जाकर पा सकते हैं।

कंपनी के क्वार्टरली रिजल्ट और फाइनेंशियल स्टेटमेंट्स को देखकर आपको पता चल जाता है कि कंपनी कैसा प्रदर्शन कर रही है मतलब कंपनी मुनाफा कर रही है या घाटे में है।

और इसी के चलते उस कंपनी के शेयर का प्राइस ऊपर या नीचे होता है मतलब अगर कंपनी के क्वार्टरली नंबर अच्छे आते हैं तो लोग उस कंपनी के शेयर खरीदने लगते हैं और अचानक से दूसरे दिन प्राइस बढ़ जाता है

ठीक इसी प्रकार जब कंपनी ने अपना रिवेन्यू या मुनाफा पिछली बार के मुकाबले कम किया होता है तो लोग अपने खरीदे हुए शेयर को बेचने लगते हैं जिससे उस शेयर की कीमतें घटने लगती हैं।

और इसीलिए कोई कंपनी कैसा प्रदर्शन करती है इसके आधार पर शेयर की कीमतें घटती या बढ़ती है।

2. न्यूज़ के चलते (शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है)

आपने अक्सर देखा होगा कि अगर किसी कंपनी में कोई फ्रॉड हो गया. उदाहरण के लिए, किसी कंपनी में उसके मैनेजमेंट पर इंसाइडर ट्रेडिंग जैसी कोई खबर आ गई तो कंपनी के शेयर का प्राइस में अचानक से गिरावट आनी शुरू हो जाती है।

मतलब किसी भी बुरी न्यूज़ के चलते शेयर का दाम अचानक से नीचे आ जाता है और अच्छी न्यूज़ के चलते शेयर का प्राइस ऊपर जाने लगता है।

इसके कई उदाहरण हम पास्ट में देख चुके हैं जिसमे एशियन पेंट जैसी दिग्गज कंपनी भी शामिल है जिस पर कुछ झूठे इल्जाम लगाए गए थे लेकिन बाद में सब नॉर्मल हो गया।

इसलिए कहा जाता है कि अगर आपको कंपनी के बिजनेस पर भरोसा है तो शेयर का प्राइस कितना भी ऊपर नीचे क्यों ना हो आपको डरना नहीं चाहिए।

3. कंपनी के कुछ नए अनाउंसमेंट के कारण (शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है)

कंपनी का एक सही फैसला उसके शेयर की कीमत बढ़ा सकता है और गलत फैसला आपके पैसे डूबा सकता है इसलिए जिस कंपनी का शेयर आप खरीदना चाहते हैं वह क्या अनाउंसमेंट करती है उस पर नजर रखिए।

जब भी कोई कंपनी कोई बड़ी अनाउंसमेंट करती है तो उसके जैसे इस बार शेयर के दाम बहुत तेजी से घटते या बढ़ते हैं।

उदाहरण के लिए आप इलेक्ट्रिक वाहनों और रिन्यूएबल एनर्जी सेक्टर को देख सकते हैं।

पिछले कुछ सालों तक टाटा पावर और टाटा मोटर कंपनी के शेयर की कोई डिमांड नहीं थी लेकिन जब से टाटा मोटर कंपनी ने इलेक्ट्रिक व्हीकल बाजार में उतारने का अनाउंसमेंट किया तभी से इसके शेयर में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है।

4. डिविडेंड के कारण (शेयर का प्राइस कम या ज्यादा क्यों होता है)

जब कोई कंपनी अच्छा खासा प्रॉफिट कमाती है तो उसका कुछ हिस्सा अपने शेयरहोल्डर को भी देती है जिसे हम डिविडेंड कहते हैं. लेकिन यह भी सच है कि स्टॉक मार्केट में लिस्टेड हर एक कंपनी डिविडेंड नहीं देती है बल्कि कमाए गए मुनाफे को दोबारा अपने व्यापार में निवेश करती है।

डिविडेंड को लेकर अधिकतम निवेशक उत्साहित रहते हैं इसलिए जब कोई कंपनी अपनी वार्षिक रिपोर्ट में या फिर क्वार्टरली रिजल्ट के समय डिविडेंड देने का फैसला करती है तो अगले दिन ही उस कंपनी के शेयर के प्राइस पर इसका असर दिखता है

और कंपनी का शेयर प्राइस तेजी से ऊपर जाता है क्योंकि लोग डिविडेंड के लालच में उस कंपनी के शेयर खरीदने लगते हैं जिससे डिमांड बढ़ने के कारण शेयर की कीमत बढ़ जाती है।

5. बोनस या फिर शेयर buyback के चलते (शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव क्यों होता है)

डिविडेंड की तरह ही जब कंपनी बोनस शेयर या share को split करने का अनाउंसमेंट करती है या फिर शेयर बायबैक (buyback) करना चाहती है तो शेयर के मूल्य में तेजी से उछाल देखी जाती है।

6. डिमांड और सप्लाई के कारण (शेयर की कीमतेें कैसे बढ़ती या घटती है)

How does demand and supply affect stock prices― आपको पता होगा कि केवल भारतीय शेयर बाजार ही नहीं बल्कि दुनिया का हर एक मार्केट डिमांड और सप्लाई यानी कि मांग और पूर्ति के नियम पर चलता है।

मतलब जब किसी चीज की सप्लाई कम होती है और डिमांड बढ़ जाती है तो उसकी कीमतें भी बढ़ जाती हैं और इसी प्रकार जब सप्लाई बहुत ज्यादा होती है और डिमांड कम होती है तो कीमतें घट जाती हैं।

यह डिमांड और सप्लाई का गेम आप शेयर बाजार में रोजाना देख सकते हैं।

जब ग्लोबल मार्केट में पावर या बिजली की डिमांड बढ़ती है तो पावर सेक्टर की कंपनियों के शेयर ऊपर जाने लगते हैं

इसी प्रकार जब दुनिया में कहीं कोई बड़ा क्राइसिस हो जाता है तो उसका असर वैश्विक बाजार के अलावा दुनिया के हर एक मार्केट पर पड़ता है। ऐसा होने से देश की इकोनॉमी कमजोर होती है और NIFTY50 इंडेक्स में लिस्टेड मजबूत कंपनियों के शेयर प्राइस में भी गिरावट होने लगती है।

कहने का मतलब यह है कि जिस सेक्टर के प्रोडक्ट या सर्विस की डिमांड बढ़ती है सेक्टर की कंपनियों के शेयर प्राइस भी बढ़ने लगते हैं और जब डिमांड घटती है तो शेयर प्राइस गिरने लगते हैं।

7. शेयर मार्केट में तेजी या मंदी के कारण (शेयर के दाम बढ़ते या घटते क्यों है)

इकोनामिक क्राइसिस के चलते कई बार देश को अलग-अलग खतरों से होकर गुजरना पड़ता है जिससे बाजार में मंदी (Bear run) की स्थिति आ जाती है।

महंगाई यानी Inflation इसका एक बहुत बड़ा कारण है क्योंकि जब बाजार में महंगाई हो जाती है तो कंपनियां अपने प्रोडक्ट या सर्विस के दाम बढ़ा देते हैं जिससे लोग उन्हें खरीदना कम कर देते हैं

और जब लोग बाजार से माल खरीदना कम कर देते हैं तो बिजनेसेस को नुकसान होता है और कंपनियां प्रॉफिट नहीं कमा पाती हैं।

और जब कंपनियां प्रॉफिट नहीं कमा पाती है तो लोग अपने खरीदे गए शेयर बेचने लगते हैं जिससे बाजार में मंदी (Bear Market) का असर देखने को मिलता है।

अगर गौर से देखा जाए तो यह पूरी साइकिल महंगाई से डायरेक्टली कनेक्टेड है।

देखिए अगर आप एक जागरूक शेयर बाजार निवेशक है तो आपको देश में चल रहे आर्थिक मुद्दों पर भी नजर रखनी चाहिए जैसे कि देश में हर साल जो बजट का अनाउंसमेंट होता है उसके अगले दिन ही शेयर बाजार में काफी मूवमेंट और हलचल देखी जाती है।

जिससे अगले दिन ही आपको शेयर सूचकांक इंडेक्स जैसे निफ्टी और सेंसेक्स में बुल रन या बियर रन देखने को ले जाती है।

8. प्रमोटर्स होल्डिंग कम या ज्यादा होने पर ( शेयर प्राइस क्यों बदलते रहते हैं)

प्रमोटर्स होल्डिंग का मतलब है कि कंपनी में उसके शुरुआती प्रमोटर्स मैनेजमेंट और फाउंडर्स की कितनी हिस्सेदारी है।

सामान्यता प्रमोटर होल्डिंग 50% या उससे ज्यादा होनी चाहिए।

अगर किसी कंपनी में प्रमोटर्स की होल्डिंग बहुत कम है तो आपको उस कंपनी के शेयर को नहीं खरीदना चाहिए क्योंकि ऐसा माना जाता है कि अगर प्रमोटर्स ही अपनी कंपनी के शेयर बेच रहे हैं तो इसका मतलब है कि उन्हें खुद की कंपनी पर ही भरोसा नहीं है

और इसीलिए जब किसी कंपनी के प्रमोटर होल्डिंग कम होने लगती है तो लोग शेयर बेचने लगते हैं जिससे शेयर का भाव टूट जाता है और बहुत बड़ी गिरावट देखी जाती है।

ठीक इसके विपरीत जब प्रमोटर्स अपने कंपनी में हिस्सेदारी बढ़ाते हैं तो शेयर प्राइस बढ़ने लगता है।

एक शेयर का प्राइस कितना ऊपर नीचे जा सकता है?

How high can a stock rise― शेयर बाजार में नए निवेशक सोचते हैं कि कोई भी शेयर कितना भी ऊपर या नीचे जा सकता है लेकिन यह सच नहीं है।

आपने सर्किट फिल्टर के बारे में सुना होगा।

जब कोई शेयर बहुत ज्यादा ऊपर जाता है तो उसमें अपर सर्किट लगना शुरू हो जाते हैं और इसी प्रकार जब बहुत ज्यादा गिरता है तो उसमें डाउन सर्किट लगना शुरू हो जाते हैं।

अपर सर्किट और डाउन सर्किट 5% से लेकर 20% कुछ भी तक हो सकते हैं।

सर्किट ज्यादातर पेनी स्टॉक्स में ही लगते हैं। या फिर कोई ऐसा स्टॉक जिसे केवल ऑपरेटर ही कंट्रोल करते हैं मतलब जबरदस्ती अगर किसी शेयर का प्राइस बढ़ाया या घटाया जाता है तो उसमें सर्किट लगने लगते हैं।

इसीलिए कोई भी शेयर 1 दिन में 1000% या 2000% ऊपर नीचे नहीं जा सकता है क्योंकि ऐसा तो सिर्फ ट्रेनिंग या फिर क्रिप्टोकरंसी में होता है ना कि और मार्केट में।

मैं आपको बता दूं कि अगर आप भी इतने ज्यादा रिटर्न पाना चाहते हैं तो आपके लिए ट्रेडिंग करना सही रहेगा ना कि इन्वेस्टिंग।

किसी शेयर में अचानक से तेजी होने का क्या कारण होता है? What causes a stock to spike?

Why Stock price fluctuate― कभी-कभी आप देखते हैं कि शेयर की कीमतें अचानक से बढ़ जाती हैं। ऐसे ना अधिकतर कारण न्यूज़ ही होता है.

जैसा कि मैंने ऊपर बताया कि कंपनियां आए दिन कुछ ना कुछ अनाउंसमेंट करती रहती हैं जैसे―

Factors affecting share prices in the stock market

  • कोई भविष्य में हिट प्रोजेक्ट बाजार में उतारना,
  • नया प्रोडक्ट लॉन्च करना,
  • बोनस शेयर आ डिविडेंड देने का ऐलान करना,
  • नई टेक्नोलॉजी पर काम करना
  • किसी नई कंपनी का अधिग्रहण करना

इन सभी अनाउंसमेंट के बारे में जब न्यूज़ में हमें पता चलता है तो स्टॉक्स की कीमतें बढ़ने लगती हैं।

FAQs Related Why stocks price goes up and down?

शेयर की कीमतें कौन घटाता या बढाता है?

शेयर बाजार में बहुत सारी ऐसी घटनाएं होती हैं जिनका डायरेक्ट असर कंपनी के शेयर प्राइस पर पड़ता है जैसे कि मार्केट में आर्थिक मंदी, कंपनी के रिजल्ट का अनाउंसमेंट, कंपनी में अच्छी या बुरी खबर के चलते आदि सभी कारणों के चलते शेयर की कीमतें बढ़ती या घटती हैं।

शेयर बाजार गिरने या उठने का क्या कारण होता है?

शेयर बाजार के नीचे गिरने या ऊपर उठने से मतलब है कि सेंसेक्स और निफ़्टी का ऊपर नीचे होना. पूरा शेयर मार्केट केवल तभी करता है जब ग्लोबल लेवल पर कोई आर्थिक संकट आ जाता है और जब वह स्थिति पहले जैसी हो जाती है तो बाजार उठना चालू होता है जिससे शेयर की कीमतें बढ़ने लगती हैं।

शेयर की कीमतें कौन तय करता है?

जब कोई कंपनी पहली बार शेयर बाजार में आईपीओ के द्वारा लिस्ट होती है तो वह अपने प्रत्येक शेयर की कीमत तय करती है कि अगले दिन वह स्टॉक एक्सचेंज करें कितने प्राइस में लिस्ट होगा. फिर जैसे-जैसे निवेशक उस शेयर को खरीदते बेचते हैं तो उसकी कीमतें बदलने लगती हैं।

स्टॉक्स के प्राइस कैसे बदलते हैं?

डिमांड और सप्लाई के कारण स्टॉक्स या shares की कीमतें घटती बढ़ती हैं. अगर मार्केट में खरीददार (buyers) की अपेक्षा विक्रेता (sellers) ज्यादा है तो शेयर की कीमत घटने लगती हैं और जब खरीदार ज्यादा है और विक्रेता कम है तो शेयर के दाम बढ़ने लगते हैं।

ये भी पढ़ें

Conclusion “How stock prices moves up and down”

इस पोस्ट में मैंने आपको शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है, शेयर के प्राइस कम ज्यादा क्यों होते हैं और सेंसेक्स या निफ्टी ऊपर नीचे क्यों होते हैं? इन सब के बारे में मैन एक पोस्ट में आपको विस्तार से बताया है।

अगर आपका इस पोस्ट से संबंधित कोई सवाल है तो नीचे कमेंट में जरूर पूछें।

Deepak SenAbout Author
मेरा नाम दीपक सेन है और मैं इस ब्लॉग का संस्थापक हूं। यहां पर मैं अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से शेयर मार्केट, निवेश और फाइनेंस से संबंधित उपयोगी जानकारी शेयर करता हूं। ❤️

2 thoughts on “शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है? | शेयर का प्राइस कम या ज्यादा क्यों होता है?”

  1. Electric power is in high demand as it’s very hot summer.. But share price is continuously falling.. Why?

    Why demand and supply concept failed here..?

    I think that there must be some manipulation in background of specially retain investors..

    Reply
    • This time overall maket are falling because of many reason, so indivijual stocks are also falling along nifty.

      And the demand and supply concept not works when Nifty goes down.

      All depends on market trend

      Reply

Leave a Comment

किस कंपनी का शेयर खरीदे पता करें (5 तरीकों से)