डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले क्या करना चाहिए? (10 महत्वपूर्ण टिप्स)

आज आप जानेंगे कि डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले क्या करना चाहिए? शेयर मार्केट में डे ट्रेडिंग का मतलब इंट्राडे ट्रेडिंग से है. मतलब ऐसी ट्रेडिंग जिसमें स्टॉक को उसी दिन खरीद कर बेचना पड़ता है वह ‘डे ट्रेडिंग’ कहलाती है।

इस प्रकार की trading में पैसा लगाने से पहले अगर आप कुछ बातों का ध्यान नहीं रखते हैं तो गारंटी है कि आपको नुकसान ही होगा. क्योंकि यह fact है कि–

इंट्राडे ट्रेडिंग में पैसा लगाने वाले लगभग 90% निवेशकों को प्रॉफिट की बजाए नुकसान ही होता है

लेकिन वहीं दूसरी ओर कुछ ट्रेडर्स डे ट्रेडिंग के जरिए दिन का लाखों रुपए कमाते हैं तो आखिर ऐसा कैसे हो पाता है…

अगर आप भी डे ट्रेडिंग से पैसा कमाना चाहते हैं और नुकसान को खत्म करना चाहते हैं तो इसके लिए पहले आपको पता होना चाहिए कि डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले क्या करना चाहिए ताकि नुकसान को कम किया जा सके और मुनाफे को बढ़ाया जा सके।

आज हम इसी विषय पर बात करने वाले हैं कि डे ट्रेडिंग में एक शुरुआती बिगिनर हैं और इसमें पैसा निवेश करके हर दिन शानदार रिटर्न कमाना चाहते हैं तो यह पोस्ट आपके लिए है।

Contents

डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले क्या करना चाहिए?

डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले क्या करना चाहिए

अगर आप डे ट्रेडिंग में पैसा लगाकर अच्छे रिटर्न जनरेट करना चाहते हैं तो आपको नीचे दिए गए सभी points पर गौर करना चाहिए।

मुझे पूरा विश्वास है कि अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग में एक बिगिनर है और अपने नुकसान को कम करके प्रॉफिट को बढ़ाना चाहते हैं तो नीचे दी गई बातों पर आपको डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले जरूर विचार करना चाहिए।

आइए एक-एक करके जान लेते हैं–

1. ट्रेडिंग को सीखकर पैसा इन्वेस्ट करना चाहिए

यह सबसे महत्वपूर्ण पॉइंट है क्योंकि अगर आपने ट्रेडिंग को बिना सीखें पैसा लगाने की गलती की तो आप का भी वही हाल होगा जो बाकी लोगों का होता है। आपके मन में सवाल आना चाहिए कि आखिर क्यों 90% नए ट्रेडर इंट्राडे ट्रेडिंग में फेल हो जाते हैं और अपना सारा पैसा कुछ ही हफ्तों या कुछ ही दिनों में गवा देते हैं?

  • ऐसा इसलिए होता है कि लोगों को पैसा कमाने की बहुत जल्दी होती है और वह सीखना कुछ नहीं चाहते.

जबकि अगर आप सीखकर ट्रेड करें तो आप उन लोगों से काफी आगे हो जाएंगे जो बिना सीखे केवल किस्मत के भरोसे ट्रेडिंग करने की कोशिश करते हैं।

आपको समझना होगा कि ट्रेडिंग एक व्यापार है ना कि जुआ और इसमें वही पैसा कमाता है जो ट्रेडिंग को एक सीरियस बिजनेस की तरह देखता है ना कि किसी खेल की तरह।

हर प्रोफेशनल ट्रेडर यह बात जानता है और इसीलिए वह कंसिस्टेंट तरीके से रेगुलर पैसा कमाता है जबकि नए लोग बिना खुद से रिसर्च किये या बिना किसी स्ट्रेटेजी का उपयोग किए सिर्फ दूसरों की टिप्स से लेकर शेयर buy और sell करने की कोशिश करते हैं इसीलिए उन्हें नुकसान होता है।

इसीलिए मेरा सबसे पहला सुझाव आपको यही रहेगा कि डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले–

  • सभी बेसिक चीजों को सीखें,
  • अपने फंडामेंटल्स को क्लियर करें,
  • खरीदार और विक्रेता की साइकोलॉजी को समझें,
  • ट्रेडिंग में नुकसान के पीछे की वजह पता करें।

आप चाहे तो रियल लाइव मार्केट में ट्रेड करने से पहले पेपर ट्रेडिंग का अभ्यास कर सकते हैं फिर जब आपको पेपर पर 10 में से 7 बार प्रॉफिट होने लगे उसके बाद ही आपको लाइव मार्केट में ट्रेड करने की शुरुआत करना चाहिए।

2. ट्रेड करते समय स्टॉपलॉस जरूर लगाना चाहिए

आपने अक्सर लोगों से सुना होगा कि stop loss नहीं लगाने से अधिकतर ट्रेडर्स बर्बाद हुए हैं यह बिल्कुल सच है। स्टॉपलॉस लगाकर आप अपने नुकसान को सीमित कर देते हैं। स्टॉप लॉस लगाने का मतलब है अपने loss को पहले ही तय कर देना.

मतलब अगर आपने 100 रुपये के हिसाब से 10 शेयर खरीदे (मतलब आपने टोटल 1000 रुपये लगाए) और आप चाहते हैं कि मुझे एक शेयर पर 20 रुपये से ज्यादा नुकसान नहीं होना चाहिए तो आप अपनी ब्रोकर ऐप में जाकर 80 रुपये पर स्टॉप लॉस ऑर्डर लगा सकते हैं

ऐसा करने से जब आपके खरीदने का शेयर का प्राइस 80 Rs से नीचे जाएगा तो आपका शेयर 80 रुपये पर अपने आप ही बिक जाएगा। इस प्रकार का बड़ा नुकसान करने से बच सकते हैं खासकर तब जब आप इंट्राडे या ऑप्शन ट्रेडिंग करते हैं।

वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि आजकल इंडिया के नंबर वन भरोसेमंद ब्रोकर एप Upstox में GTT ऑर्डर की फैसिलिटी भी आ गई है जिसमें आप एक ही ऑर्डर में अपना स्टॉपलॉस और टारगेट प्राइस सेट कर सकते हैं यह फीचर बहुत ही उपयोगी है अगर आप चाहे तो upstox में डिमैट अकाउंट खोलकर ट्राई कर सकते हैं।

3. पेनी स्टॉक्स में ट्रेडिंग करने से बचें

पेनी स्टॉक्स में ट्रेडिंग करने से हमेशा बचना चाहिए क्योंकि कम कीमत वाले सस्ते शेयर में लिक्विडिटी बहुत कम होती है मतलब खरीदार और विक्रेता की संख्या कम होती है जिससे आपको कई बार शेयर खरीदने या बेचने में प्रॉब्लम आ सकती है और इस कारण आपको बहुत बड़ा नुकसान भी हो सकता है।

इसके अलावा ऐसी कंपनियों के शेयर प्राइस को कोई भी ऑपरेटर आसानी से बड़ा पैसा इन्वेस्ट कर के ऊपर नीचे कर सकता है और खासकर इसी प्रकार के स्टॉक्स में सर्किट लगते हैं।

इसीलिए डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले इलिक्विड पेनी स्टॉक्स को पहचाने और उनमें निवेश करने से बचना चाहिए।

4. ऑप्शन चैन डाटा देखना चाहिए

डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले ऑप्शन चेन डाटा देखना बहुत जरूरी है क्योंकि यह आपको बताता है कि शेयर मार्केट में कितने buyers और sellers हैं।

इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि अगर बाजार में खरीदार ज्यादा है और विक्रेता कम है तो इसका मतलब है कि आज मार्केट ऊपर जा सकता है।

और इसके विपरीत अगर मार्केट में buyers की अपेक्षा sellers बहुत ज्यादा active हैं तो निफ्टी या सेंसेक्स में गिरावट हो सकती है। तो उस दिन आप डे ट्रेडिंग में शार्ट sell करके जानी शेयर बेचकर पैसा कमा सकते हैं।

हालांकि ऑप्शन चैन डेटा का उपयोग ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए किया जाता है क्योंकि यह put और call का डाटा दिखाता है, PCR रेश्यो बताता है जो ऑप्शन ट्रेडर के लिए जानना बहुत जरूरी है लेकिन हर प्रकार का ट्रेडर इस डाटा का लाभ उठा सकता है।

5. डे ट्रेडिंग में एक साथ पूरा पैसा कभी मत लगाएं

बहुत सारे लोग इंट्राडे ट्रेडिंग में अपना पूरा पैसा लगाने की गलती करते हैं लेकिन आज से यह गलती सुधार लीजिए क्योंकि यह एक ऐसी गलती है जो आपको ट्रेडिंग में कभी सफल नहीं होने देगी।

आपको एक बात समझना होगा कि जब आप पूरा पैसा लगाकर ट्रेड करते हैं तो आपका माइंडसेट हमेशा डर का होता है क्योंकि आपको अंदर से यह डर होता है कि कहीं नुकसान ना हो जाए।

जबकि वहीं दूसरी ओर अगर आप अपने पैसे का सिर्फ कुछ भाग लगाकर ट्रेड करें तो आपका यह डर काफी हद तक कम हो जाएगा।

और डे ट्रेडिंग में डर और लालच दो ऐसे इमोशंस है जिन पर अगर आपने काबू पा लिया तो आप डे ट्रेडिंग से खूब पैसा कमा सकते हैं। क्योंकि अधिकतर लोग या तो प्रॉफिट के लालच के चलते शेयर को नुकसान में बेचते हैं या फिर डर की वजह से शेयर प्रॉफिट में आने से पहले ही बेच देते हैं।

इसीलिए जब भी आप डे ट्रेडिंग में पैसा लगाएं तो अपनी कुल कैपिटल की राशि का सिर्फ पांचवा हिस्सा ही निवेश करें मतलब अगर आपके पास 1 लाख रुपये हैं एक बार में मैक्सिमम 20 हजार रुपए से ही ट्रेडिंग करनी चाहिए।

6. स्टॉक्स की बजाय इंडेक्स में ट्रेड करना चाहिए

बहुत सारे नए लोग सीधा ही स्टॉक्स में ट्रेड करने की गलती करते हैं जबकि पहले उन्हें इंडेक्स जैसे निफ्टी या बैंकनिफ्टी में ट्रेडिंग से शुरुआत करनी चाहिए क्योंकि हमें भरपूर लिक्विडिटी होती है और यह ज्यादा वोलेटाइल भी नहीं होती हैं।

जबकि किसी पर्टिकुलर स्टॉक में जोखिम की संभावना बहुत ज्यादा होती है क्योंकि वह किसी ऑपरेटर के द्वारा एक ही दिन में 10% भी उछल सकता है ऐसे में अगर आपने उस stock में गलत साइड trade किया तो आपका 10% कैपिटल एक ही झटके में खत्म हो जाता है।

इसीलिए डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने के लिए हमेशा निफ्टी या बैंक निफ्टी में ट्रेडिंग से शुरुआत करें ऐसा करने से आप अपने नुकसान होने के चांसेस कम और प्रॉफिट होने के चांसेस बढ़ जाते हैं।

7. किसी ना किसी इंट्रा डे ट्रेडिंग स्ट्रेटजी का उपयोग करें

कुछ लोग बिना किसी टेक्निकल एनालिसिस के बिना कोई चार्ट देखें और बिना किसी पैटर्न को observe किये या यूं कहें कि बिना किसी स्ट्रेटजी के ट्रेडिंग करने की गलती करते हैं। और उनकी इसी गलती के कारण उन्हें नुकसान होता है ऐसा दिखता नए ट्रेडर करते हैं।

आप खुद सोच कर देखिए कि एक ओर कुछ प्रोफेशनल ट्रेडर हैं जो डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले;

  • अच्छे से टेक्निकल एनालिसिस करते हैं,
  • सपोर्ट और रेजिस्टेंस पता करते हैं,
  • चार्ट पर इंडिकेटर अप्लाई करते हैं,
  • चार्ट पेटर्न्स देखते हैं,
  • मार्केट के ट्रेंड को analyse करते हैं,

और इन सभी चीजों को देखने के बाद ही ट्रेडिंग करते हैं

लेकिन वहीं दूसरी ओर कोई नया ट्रेडर बिना कुछ सीधा ट्रेड करने की गलती करता है तो इन दोनों में से किसको प्रॉफिट होने की संभावना ज्यादा होगी?

जाहिर सी बात है जिसने सभी चीजों को देखा होगा टेक्निकल एनालिसिस को फॉलो किया होगा ट्रेंड को समझा होगा वही ट्रेडर पैसा कमायेगा।

इसलिए मैंने शुरुआत में बोला था कि सबसे पहले ट्रेडिंग को सीखने पर ध्यान दें उसके बाद ही डे ट्रेडिंग में पैसा लगाना चाहिए।

ये भी पढ़ें,

  • Technical Analysis in Hindi ( टेक्निकल एनालिसिस की पूरी जानकारी हिंदी में)
  • Chart Pattern in hindi (सभी शेयर मार्केट ट्रेडिंग चार्ट पेटर्न के बारे में उदाहरण सहित पूरी जानकारी)
  • Candlestick Chart Pattern in Hindi (22 बेस्ट कैंडलस्टिक पेटर्न उदाहरण सहित पूरी जानकारी

8. दूसरों की सलाह पर ट्रेड करने की बजाए खुद रिसर्च करें

शुरुआत में नए लोग दूसरों से टिप्स लेकर शेयर खरीदना पसंद करते हैं क्योंकि उन्हें fake profit दिखाए जाते हैं जिसमें नए निवेशक फस जाते हैं। कुछ लोग टेलीग्राम चैनल के माध्यम से nifty या banknifty की calls प्रोवाइड करते हैं और कुछ टाइम बाद जिन लोगों को प्रॉफिट होता है उनसे paid calls के बदले पैसा मांगते हैं

जबकि जिन लोगों को उनकी calls से नुकसान होता है उन्हें टेलीग्राम ग्रुप से हटा देते हैं इस प्रकार नए लोग उनके जाल में फंस जाते हैं और अपना पैसा गवा देते हैं।

इसीलिए खुद से ट्रेड करना सीखिए और अपनी रिसर्च के बाद ही किसी भी स्टॉक में पैसा लगाना चाहिए। एक बात समझ लीजिए इस दुनिया में कुछ भी फ्री नहीं है तो अब तक अगर आप भी सिर्फ एक दूसरों के भरोसे ट्रेड करने की सोच रखते हैं तो ट्रेडिंग में प्रॉफिट करना भूल जाइए

हो सकता है दूसरों से टिप्स लेकर आपको कुछ समय प्रॉफिट हो जाए लेकिन लॉन्ग टर्म में आप कभी भी सफल ट्रेडर नहीं बन सकते क्योंकि एक सफल ट्रेडर ने हजारों बार प्रयास किया होता है उसके बाद उसकी मेहनत ही उसे सफल ट्रेडर बनाती है।

9. सही टाइम फ्रेम का चार्ट चुनना चाहिए

डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले चार्ट पर सही टाइम प्रेम अप्लाई करें। कुछ लोग daily यानी 1 day timeframe के चार्ट पर इंट्राडे ट्रेडिंग करने की गलती करते हैं जबकि डे ट्रेडिंग में आपको सिर्फ 5 मिनट या 15 मिनट का चार्ट ही उपयोग करना चाहिए।

कुछ नए ट्रेडर्स ऐसे हैं जो किसी भी टाइम फ्रेम के चार्ट पर ट्रेडिंग करना शुरू कर देते हैं क्योंकि उन्हें ना तो कैंडलस्टिक का ज्ञान होता है और ना ही चार्ट पेटर्न्स का.

आपको पता होना चाहिए कि कितने लंबे समय के लिए आप ट्रेनिंग कर रहे हैं उतने ही बड़े टाइमफ्रेम का उपयोग करना चाहिए। मतलब अगर आप स्विंग ट्रेडिंग करते हैं तो आपके लिए daily टाइम चार्ट देखना बेस्ट है लेकिन इंट्राडे ट्रेडिंग में 5 मिनट का चार्ट देखना सबसे बेस्ट होता है।

डिलीवरी ट्रेडिंग में आप 1 week एक या 1 month का चार्ट भी देख सकते हैं। लेकिन ऑप्शन ट्रेडिंग में आप कितने टाइम फ्रेम का चार्ट देखेंगे यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप कितने समय के लिए अपने ऑप्शन प्रीमियम को होल्ड रखना चाहते हैं।

अगर आप एक्सपायरी डेट के लिए अपने खरीदी के प्रीमियम को होल्ड रखते हैं तो आपको थोड़े बड़े टाइम फ्रेम का चार्ट देखना होगा लेकिन अगर आप इंट्राडे ऑप्शन ट्रेडिंग करते हैं तो 15 मिनट समय अंतराल का चार्ट आपके लिए बेस्ट है।

10. रिस्क मैनेजमेंट का ध्यान रखें

यह सबसे आखरी और महत्वपूर्ण पॉइंट है कि आपको हमेशा रिस्क मैनेजमेंट के अनुसार ही ट्रेडिंग करनी चाहिए। आपको पता होना चाहिए कि आप अपने कैपिटल पर कितना रिस्क ले सकते हैं। क्योंकि अगर आपने अपनी क्षमता से अधिक risk लिया तो आप मुसीबत में पड़ सकते हैं इसीलिए पहले अपना जोखिम निर्धारित कर लें।

मान लीजिए– आपके पास अभी 50000 रुपये हैं लेकिन आप सिर्फ 20000 रुपये का ही risk ले सकते हैं तो इससे अधिक पैसा डे ट्रेडिंग में कभी मत लगाएं। इसके अलावा अपना Risk to Reward ratio भी मेंटेन करते चलें।

रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो का मतलब है कि आपको देखना होगा कि 10 बार ट्रेड करने से आपको कितनी बार profit होता है और कितनी बार loss. अगर आप को 10 में से 7 बार प्रॉफिट होना शुरू हो जाए तो समझ जाइए आप सही रास्ते पर चल रहे हैं।

लेकिन अगर आपको प्रॉफिट की वजह नुकसान ज्यादा हो रहा है तो आपको डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले अधिक से अधिक ट्रेडिंग को सीखने पर ध्यान देना चाहिए।

डे ट्रेडिंग में कितना पैसा लगाना चाहिए?

डे ट्रेडिंग में आपको उतना ही पैसा लगाना चाहिए जितना आप रिस्क ले सकते हैं। कभी भी अपनी क्षमता से बाहर जाकर या किसी से उधार लेकर शेयर मार्केट में पैसा नहीं लगाना चाहिए।

डे ट्रेडिंग करने से पहले क्या करना चाहिए?

डे ट्रेडिंग करने से पहले आपको बाजार के ट्रेंड को देखना चाहिए, सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल पता करने चाहिए, सही टाइम फ्रेम का चार्ट देखें, इंडिकेटर्स अप्लाई करें और चार्ट पेटर्न को एनालाइज करें, यह सब चीजें देखने के बाद ही डे ट्रेडिंग में पैसा लगाना चाहिए।

डे ट्रेडिंग में नुकसान से कैसे बचना चाहिए?

डे ट्रेडिंग में नुकसान से बचने के लिए टेक्निकल एनालिसिस करनी चाहिए और मार्केट के ट्रेंड के विपरीत ट्रेडिंग करने से बचना चाहिए। इसके अलावा ट्रेड करने से पहले अपना टारगेट और स्टॉप लॉस जरूर निर्धारित कर लें क्योंकि ऐसा करने से आप काफी हद तक अपने जोखिम को कम कर सकते हैं।

आज आपने क्या सीखा?

मैं उम्मीद करता हूं आपको यह लेख – डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले क्या करना चाहिए जरूर पसंद आया होगा। अगर आप इस आर्टिकल में बताए गए पॉइंट्स को अप्लाई करके आप अपने नुकसान को कम कर सकते हैं और प्रॉफिट को increase कर सकते हैं।

मुझे पूरा विश्वास है कि अगर आपने ऊपर दी गई बातों को अपने ट्रेडिंग जीवन में अप्लाई किया तो एक दिन आप सफल ट्रेडर जरूर बनेंगे।

अगर आपका इस पोस्ट से संबंधित कोई सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर पूछें।

शेयर मार्केट या ट्रेडिंग के बारे में और अधिक जानने के लिए आप इस ब्लॉग की अन्य पोस्ट भी पढ़ सकते हैं।

4.7/5 - (4 votes)
Deepak SenAbout Author
मेरा नाम दीपक सेन है और मैं इस ब्लॉग का Founder हूं। यहां पर मैं अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से शेयर मार्केट, निवेश और फाइनेंस से संबंधित उपयोगी जानकारी शेयर करता हूं। ❤️

Leave a Comment