कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर 2022 | सबसे कम प्राइस वाले शेयर

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर 2022, सबसे कम प्राइस वाले शेयर, कम कीमत वाले फंडामेंटली मजबूत पेनी शेयर, Best low price shares in india, cheap stocks to buy, fundamentally strong penny stocks in India

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर 2022

आज हम बात करने वाले हैं कम कीमत वाले कुछ मजबूत कंपनियों के शेयर के बारे में जो भविष्य में शानदार रिटर्न दे सकते हैं. वैसे शेयर बाजार में हजारों कम कीमत वाले शेयर पेनी स्टॉक के रूप में मौजूद हैं जिनका शेयर प्राइस तो बहुत कम है लेकिन कंपनियां बर्बाद हो चुकी हैं.

अधिकतर निवेशकों को सस्ते शेयर में निवेश करने से नुकसान होता है क्योंकि कम प्राइस वाले शेयरों में फंडामेंटली मजबूत कंपनी ढूंढ पाना बहुत मुश्किल है. लेकिन सच तो यह है कि जो लोग समझदारी से निवेश करते हैं वह पेनी स्टॉक्स में भी मल्टीबैगर शेयर ढूंढ लेते हैं।

आपने कोटक महिंद्रा बैंक, आईशर मोटर्स और टाइटन कंपनी के बारे में तो सुना ही होगा. ये तीनों ही कंपनियां एक समय पर पेनी स्टॉक के रूप में ट्रेड होती थी लेकिन आज मल्टीबैगर बन चुकी है.

इसका मतलब है कि कंपनियों का शेयर प्राइस भले ही कम हो लेकिन अगर उसके फंडामेंटल मजबूत है और बिजनेस मॉडल strong है तो फ्यूचर में ऐसी कंपनियों के शेयर की कीमत बहुत तेजी से बढ़ती है।

इसीलिए आज हम आपके लिए कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर की लिस्ट लेकर आये हैं जिनके फंडामेंटल काफी मजबूत और जो भविष्य में अच्छी ग्रोथ दिखा सकते है. फ्यूचर में इन कंपनियों का कारोबार बढ़ सकता है जिससे शेयर प्राइस के भविष्य में तेजी से बढ़ने की उम्मीद है.

तो आइए अब जान लेते हैं सबसे कम प्राइस वाले मजबूत कंपनियों के शेयर के बारे में

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर 2022

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर, सबसे कम प्राइस वाले मजबूत शेयर

आपने शेयर बाजार में रोजाना बहुत सारे पेनी स्टॉक्स को मल्टीबैगर बनते हुए तो देखा होगा लेकिन क्या आपको पता है कि कम प्राइस वाले शेयर जितनी तेजी से ऊपर जाते हैं उससे कई गुना तेजी से उनमें गिरावट होती है।

इसका कारण होता है स्टॉक के फंडामेंटल का मजबूत ना होना. कम कीमत वाली कंपनियों के सभी फंडामेंटल पैरामीटर तो मजबूत नहीं हो सकते लेकिन अगर मैनेजमेंट ईमानदार है और बिजनेस मॉडल मजबूत है तो शेयर प्राइस को भविष्य में बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता।

आइए एक-एक करके जान लेते हैं ऐसे ही कुछ कम कीमत वाले फंडामेंटली मजबूत शेयरों के बारे में;

1. Auro Laboratories Ltd.

कम कीमत वाला मजबूत शेयर, फंडामेंटली स्ट्रांग पेनी शेयर इन इंडिया

कम कीमत वाली मजबूत कंपनियों में सबसे पहला शेयर है Auro Laboratories का. कंपनी का शेयर प्राइस 100 रुपये से भी कम है और मार्केट कैप सिर्फ 52 करोड़ के आसपास है मतलब यह एक माइक्रो कैप कंपनी है.

यह कंपनी एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (API) मैन्युफैक्चर करती है। कंपनी कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर अलग-अलग API’s का निर्माण करती है जिसमें डायबिटीज थेरेपी में इनकी खास स्पेशलिटी है.

इस कंपनी के द्वारा बनाई जाने वाली एपीआई में से Metformin Hydrochloride, Chlorzoxazone, और Chlorphenamine Maleate प्रमुख API हैं जिनमें से Metformin Hydrochloride अकेले 90% रेवेन्यू लाकर देता है।

इस कंपनी के पास केवल एक मैन्युफैक्चरिंग यूनिट है जिसकी क्षमता 500 टन है। इंडिया के अलावा साउथ अफ्रीका, ब्राजील, मलेशिया, सिंगापुर जैसे देशों में भी कंपनी अपने प्रोडक्ट को निर्यात करती है.

2017 में कंपनी का रिवेन्यू 35 करोड़ था जो 2021 में बढ़कर 54 करोड़ तक पहुंच गया हालांकि साल 2022 में यह घटकर 50 करोड़ पर आ गया है. साथ ही इस साल नेट प्रॉफिट भी 50% कम हो चुका है हालांकि पिछले 5 सालों की एवरेज प्रॉफिट ग्रोथ 28% रही है.

देखा जाए तो कंपनी के फंडामेंटल मजबूत हैं और प्रमोटर्स शेयर होल्डिंग भी अच्छी खासी 52% है और कोई भी शेयर pledged नहीं है. साथ ही कंपनी पर कर्ज भी बिल्कुल ना के बराबर है जो कि बहुत अच्छी बात है इसीलिए कंपनी का कारोबार भविष्य में बढ़ने की संभावना बहुत ज्यादा है. अगर आने वाले तिमाही नतीजों में कंपनी अच्छा परफॉर्म करती है तो यह कम कीमत वाला मजबूत शेयर आपके निवेश पर अच्छी कमाई करके दे सकता है।

2. Sinclairs Hotel & Resorts

कम कीमत वाली मजबूत कंपनी का शेयर नवंबर 2022

कम कीमत वाले मजबूत शेयरों के लिस्ट में दूसरा शेयर है Sinclairs Hotel कंपनी का. इसकी मार्केट कैप सिर्फ 300 करोड़ है फिर भी स्टॉक 100 रुपये से अधिक कीमत पर ट्रेड कर रहा है.

इसी बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि माइक्रो कैप कंपनी होने के बावजूद शेयर प्राइस 100 रुपये से ऊपर इसीलिए पहुंच गया क्योंकि कंपनी के फंडामेंटल मजबूत है। इतनी छोटी मार्केट कैप वाली कंपनियों में ग्रोथ की संभावना बहुत ज्यादा होती है इसीलिए इन्वेस्टर कम कीमत वाली कंपनियां के पीछे पड़े रहते हैं.

कंपनी के पास देशभर में 5 लोकेशन पर 4 स्टार प्रॉपर्टीज 🏘️ मौजूद है जिसमें से 5 होटल तो केवल पश्चिम बंगाल में ही है इसके अलावा तमिलनाडु, अंडमान और सिक्किम के गंगतोक में कंपनी अपना होटल बिजनेस चलाती है। भारत के कुछ खूबसूरत जगहों जैसे; दार्जिलिंग, सिलीगुड़ी और पोर्ट ब्लेयर में कंपनी के होटल और रिसॉर्ट है जो कि कंपनी को अच्छा रेवेन्यू लाकर देते हैं.

मार्च 2022 में कंपनी का सेल्स और प्रॉफिट काफी कम हो गया था क्योंकि देश भर में लॉकडाउन 🚫 लगा था लेकिन अब इनका कारोबार तेजी से बढ़ रहा है और कंपनी नई -नई होटल चेन खोलती जा रही है. तो जैसे-जैसे कंपनी का मुनाफा बढ़ेगा तो शेयर प्राइस अपने आप ही ऊपर जाएगा.

अगर मैं आपको पर्सनली बताऊं तो अभी इस कंपनी में ग्रोथ की संभावना बहुत ज्यादा है और सबसे अच्छी बात यह है कि कंपनी लगभग डेट फ्री है. और यही कारण है कि हमने कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर की लिस्ट में इस कंपनी को शामिल किया है.

3. Ashapuri Gold Ornament

सबसे कम प्राइस वाले शेयर

सबसे कम प्राइस वाले शेयर की लिस्ट में Ashapuri Gold Ornament तीसरा कंपनी है जिसका बाजार पूंजीकरण अर्थात मार्केट कैप 175 करोड़ के आसपास है. अभी कंपनी का शेयर प्राइस 70 रुपये के आसपास ट्रेड कर रहा है।

2008 में स्थापित हुई यह कंपनी होलसेल ज्वेलरी ट्रेडिंग बिजनेस में कार्यरत है जिसका आईपीओ 2019 में आया था. ये कंपनी 22 कैरेट गोल्ड आर्नामेंट ऑफर करती है. अगर इनके प्रोडक्ट की बात करें तो टोडा सेट, पोटा ज्वेलरी, सलोया, ब्रेसलेट और एंटीक ज्वेलरी प्रमुख उत्पाद हैं।

कंपनी हाई एंड मार्केट और मिड मार्केट को ही अपना सामान बेचती है. इनके क्लाइंट पोर्टफोलियो में मालाबार गोल्ड और टाइटन जैसे ब्रांड सबसे बड़े कस्टमर है।

2019 में कंपनी का रिवेन्यू सिर्फ 88 करोड़ था जो 2022 में बढ़कर 164 करोड़ हो गया है. कंपनी की प्रमोटर होल्डिंग 62% है और लगभग डेट फ्री कंपनी है इतनी छोटी कंपनी होने के बावजूद कंपनी पर कर्ज ना होना अच्छी बात है. इसीलिए हमने सबसे कम कीमत वाले शेयर की लिस्ट में इस कंपनी को भी रखा है।

4. Ksolves India Ltd.

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर की लिस्ट

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर में Ksolves India कंपनी मेरा फेवरेट है क्योंकि कंपनी का शेयर पहले ही मल्टीबैगर रिटर्न दे चुका है. 2020 में ही इसका आईपीओ आया था और सिर्फ 2 सालों में ही शेयर प्राइस 13 रुपये से बढ़कर 420 रुपये हो चुका है. देखा जाए तो यह 2 सालों में 3000 फीसदी से भी ज्यादा का रिटर्न है.

कंपनी का मार्केट कैप अभी सिर्फ 500 करोड़ है. 2014 में शुरू हुई यह कंपनी सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट और कंसलटिंग के बिजनेस में काम करती है. यह अलग-अलग सेक्टर जैसे रियल एस्टेट, फाइनेंस, ई-कॉमर्स, टेलीकॉम, हेल्थ केयर आदि को आईटी सॉल्यूशंस प्रदान करती है.

“देखा जाए तो इस कंपनी का बिजनेस मॉडल बिल्कुल टाटा ग्रुप की मल्टीबैगर कंपनी Tata elexi की तरह है और यह स्टॉक अगला टाटा एलेक्सी बनने की पूरी क्षमता रखता है.”

ऐसा मैं इसलिए बोल रहा हूं क्योंकि इतनी छोटी कंपनी होने के बावजूद इसमें सभी फैक्टर्स शानदार हैं जैसे कंपनी ने साल दर साल सेल्स और मुनाफे में अच्छी वृद्धि दिखाई है, 68% की प्रमोटर होल्डिंग है, डेट फ्री कंपनी है मतलब सारे ही फंडामेंटल मजबूत है।

कंपनी का फोकस है मशीन लर्निंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसी नई टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में अपने कारोबार को अधिक से अधिक फैलाना.

तो अब आप समझ ही सकते हैं कि Ksolves India माइक्रो कैप होने के बावजूद इस लिस्ट में मेरी फेवरेट कंपनी क्यों है. इसलिए अगर कम कीमत वाली कंपनियों की लिस्ट में सबसे मजबूत शेयर की बात करें तो Ksolves India का नाम जरूर आता है.

5. Zee Media Corporation Limited

कम कीमत वाले फंडामेंटली मजबूत शेयर

कम कीमत वाले मजबूत कंपनी की लिस्ट में ज़ी मीडिया कॉरपोरेशन एक अच्छा शेयर है. इसकी मार्केट कैप 1000 करोड़ से कम है और शेयर कीमत 20 रुपये से कम है. कंपनी का व्यापार डिजिटल न्यूज़ पब्लिशिंग में है.

ग्लोबल और नेशनल चैनल के अलावा कंपनी रीजनल न्यूज़ चैनल भी चलाती है जिस पर लोकल भाषा में न्यूज़ पब्लिश की जाती है। कंपनी का ‘Zee’ ब्रांड के अंतर्गत इंडिया में न्यूज़ नेटवर्क है. इनके 14 न्यूज़ चैनल 8 भाषाओं में उपलब्ध है. इसके अलावा 19 डिजिटल न्यूज़ वेबसाइट और 3 डिजिटल न्यूज़ ऐप्स भी हैं.

Zee news, Zee business और Zee hindustan कंपनी के प्रमुख न्यूज़ चैनल है जिसमें से कंपनी का flagship प्रोडक्ट Zee news ( हिंदी न्यूज़ चैनल) है जिस पर इनका flagship शो DNA न्यूज़ है जो सबसे ज्यादा पॉपुलर है जो इंडिया के हर घर में ज़ी न्यूज़ पर सबसे ज्यादा देखा जाता है।

इसके अलावा कंपनी Wion नाम का एक ग्लोबल इंग्लिश न्यूज़ चैनल भी चलाती है जो साउथ एशिया, मिडिल ईस्ट, अफ्रीका, USA और UK में प्रसारित किया जाता है इसके पॉपुलर प्रोग्राम Gravitas और Wion sports हैं.

अगर बिजनेस की बात करें तो कंपनी का 93% रेवेन्यू एडवर्टाइजमेंट से आता है और 7% सब्सक्रिप्शन के जरिए। क्योंकि कंपनी बहुत छोटी है इसलिए कर्ज लेने के लिए शेयर्स को गिरवी (pledged) रखा है हालांकि कंपनी धीरे धीरे debt कम कर रही है.

अगर आप फाइनेंशियल्स देखें तो कंपनी की सेल्स लगातार बढ़ रही है लेकिन प्रॉफिट नेगेटिव में है ऐसा इसलिए है क्योंकि कंपनी के खर्चे (expense) बहुत ज्यादा है. जैसे-जैसे कंपनी अपने खर्चे कम करेगी वैसे वैसे उनका मुनाफा भी बढ़ने लगेगा.

Note: देखिए प्रॉफिट नेगेटिव होना कोई बुरी बात नहीं है क्योंकि फ्लिपकार्ट जैसी बड़ी कंपनी भी प्रॉफिट नहीं कमाती है लेकिन ऐसी कंपनियां भविष्य में बहुत तेजी से बढ़ती हैं उदाहरण; अमेजॉन (Amazon) जिसने 20 साल तक कोई प्रॉफिट नहीं कमाया लेकिन आज दुनिया की टॉप कंपनियों में शामिल है।

जी मीडिया कंपनी का प्रॉफिट नेगेटिव में है क्योंकि कंपनी अभी बहुत छोटी है। अभी इनको अपना कारोबार बढ़ाने के लिए बहुत ज्यादा इन्वेस्टमेंट करनी पड़ रही है. भविष्य के नजरिए से कंपनी का बिजनेस expand होने की उम्मीद है.

कंपनी का शेयर प्राइस भी अभी बहुत कम है इसलिए अगर आप कम कीमत वाली कंपनियों के शेयर ढूंढ रहे हैं तो इस कंपनी पर खुद से रिसर्च कर सकते हैं।

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर की लिस्ट 2022

No. शेयर का नाम शेयर प्राइस
1. Auro Laboratories ~ 87 रुपये
2. Sinclairs Hotel & Resorts ~ 120 रुपये
3. Ashapuri Gold Ornament ~ 70 रुपये
4. Ksolves India Ltd ~ 420 रुपये
5. Zee Media Corporation Limited ~ 20 रुपये

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर में निवेश करने से पहले क्या ध्यान रखें?

सबसे कम प्राइस वाले मजबूत शेयर में निवेश करने से पहले आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए जैसे;

कभी भी पूरा पैसा एक साथ ना लगाएं―

कम कीमत वाले सस्ते शेयरों में आपको हमेशा छोटा निवेश करना चाहिए क्योंकि कंपनी कितनी छोटी होगी उसमें रिस्क भी उतना ही ज्यादा होगा।

मान लो आपने 10 सबसे कम प्राइस वाली कंपनियों में निवेश किया और उनमें से 5 कंपनियां भविष्य में किन्ही कारणों के चलते डूब गई तो बची हुई 5 कंपनियां आपको आपके निवेश पर आपके नुकसान से कई गुना मुनाफा दे जाएगी.

क्योंकि आपका नुकसान उतना ही हो सकता है जितना आपने पैसा लगाया है लेकिन रिटर्न मिलने के चांसेस अनलिमिटेड हैं क्योंकि शेयर प्राइस 10 गुना, 20 गुना या 100 गुना भी बढ़ सकता है।

खुद से रिसर्च करें―

कभी भी दूसरों के कहने पर आंख बंद करके निवेश मत करें. किसी भी शेयर में पैसा इन्वेस्ट करने से पहले उसकी फंडामेंटल रिसर्च जरूर करें जिसके अंतर्गत आपको कंपनी का बिजनेस मॉडल, बैलेंस शीट, फाइनेंसियल स्टेटमेंट, डिवीडेंड, प्रमोटर्स शेयर होल्डिंग, पीई रेश्यो, पीबी रेश्यो, डेट आदि चेक करना पड़ता है।

खुद से रिसर्च करना करना इसलिए जरूरी है क्योंकि क्योंकि हो सकता है जो शेयर आपको बताया जा रहा है उसमें सिर्फ ऑपरेटर का फायदा हो रहा हो जो बड़ी क्वांटिटी में शेयर को खरीदते हैं और बाद में उसका प्रमोशन करते हैं ताकि आप और हम जैसे छोटे रिटेल निवेशक उसे खरीद लें जिससे शेयर प्राइस बढ़ जाए.

और जैसे ही शेयर प्राइस बढ़ता है तो ऑपरेटर अपने सारे शेयर बेचकर बाहर निकल जाता है और नए निवेशक फस जाते हैं. इसलिए किसी भी कम प्राइस वाले शेयर में निवेश करने से पहले एक बार खुद से रिसर्च जरूर करें।

बिजनेस मॉडल अच्छे से समझें―

जब तक आप कंपनी के बिजनेस मॉडल को अच्छी तरह नहीं समझेंगे तब तक आप को डर बना रहेगा कि कंपनी भविष्य में कैसा परफॉर्म करेगी. बिजनेस मॉडल का मतलब है कि कंपनी पैसा कैसे कमाती है और कंपनी का रिवेन्यू कहां कहां से आता है. कंपनी के क्लाइंट कौन-कौन है, कहीं ऐसा तो नहीं है कि कंपनी सिर्फ एक प्रोडक्ट या एक क्लाइंट पर पूरी तरह से निर्भर है, या फिर कंपनी के प्रमोटर धीरे धीरे अपनी हिस्सेदारी या इक्विटी कम कर रहे हैं.

भविष्य की संभावनाओं पर नजर रखें―

चाहे कम कीमत वाली छोटी कंपनी हो या फिर रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी लार्ज कैप कंपनी हो सभी कंपनियां साल के अंत में अपनी वार्षिक रिपोर्ट BSE या NSE की ऑफिसियल वेबसाइट पर पब्लिश करती हैं जिनमें कंपनियों का मैनेजमेंट भविष्य में अपना कारोबार बढ़ाने के लिए क्या निर्णय लेने वाला है उसके बारे में बताया जाता है.

आपको एनुअल रिपोर्ट में मैनेजमेंट डिस्कशन वाला सेक्शन जरूर पढ़ना चाहती है क्योंकि उसमें कंपनी की फ्यूचर प्लांस के बारे में भी बहुत इंपोर्टेंट बातें लिखी होती है जिनसे आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि कंपनी के प्रमोटर बिजनेस को लेकर कितना सीरियस है और भविष्य में क्या ऐसा करने वाले हैं जिससे कंपनी में ग्रोथ आ सकती है और शेयर प्राइस बढ़ सकता है।

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर से जुड़े सवाल

क्या कम कीमत वाली कंपनियों के शेयर अच्छा रिटर्न देते हैं?

भविष्य में शेयर कितना रिटर्न देंगे यह कंपनी के बिजनेस पर निर्भर करता है मैनेजमेंट कारोबार को बढ़ाता है, कर्ज को कम करता है और इनोवेशन करता रहता है तो कम कीमत वाली कंपनियां भी अच्छा रिटर्न दे सकती हैं।

सबसे कम कीमत वाले मजबूत शेयर कौन से हैं?

इस पोस्ट में बताए गए सभी शेयर कम कीमत वाली कंपनियों के मजबूत शेयर हैं।
क्या कम प्राइस वाले शेयर मल्टीबैगर बन सकते हैं?

क्या कम प्राइस वाले शेयर मल्टीबैगर बन सकते हैं?

जी हां, कम प्राइस वाले सस्ते शेयर भी मल्टीबैगर बन सकेते हैं जिसके उदाहरण आईसर मोटर्स और टाइटन कंपनी है.

फंडामेंटली मजबूत पेनी स्टॉक कैसे ढूंढे?

कम कीमत वाले फंडामेंटली मजबूत कंपनी के शेयर ढूंढने के लिए आपको बहुत सारे पैरामीटर्स देखने पड़ते हैं जैसे कंपनी की ग्रोथ, बिजनेस मॉडल, मैनेजमेंट एनालिसिस, फाइनेंशियल रेश्योस, वार्षिक रिपोर्ट आदि. साथ ही कंपनी का long term विज़न पता करना भी मजबूत ढूंढने के लिए जरूरी फैक्टर है।

ये भी पढ़ें―

निष्कर्ष (Kam kimat wale majbut share)

इस पोस्ट में हमने कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर (Sabse kam price wale share) के बारे में बात की. लेकिन किसी भी शेयर में पैसा निवेश करने से पहले खुद से रिसर्च जरूर करें।

ऊपर बताए गए सभी कम कीमत वाले मजबूत शेयर स्मॉल कैप और माइक्रो कैप कंपनियों की कैटेगरी में आते हैं इसीलिए रिस्क भी थोड़ा बढ़ जाता है।

मैं आपसे कहना चाहूंगा कि इनमें से किसी भी शेयर में अपने पोर्टफोलियो का बहुत छोटा हिस्सा ही इन्वेस्ट करें. एक ही कंपनी में पूरा पैसा लगाने के बजाय अलग-अलग कंपनियों में डायवर्सिफाई करें जिससे आपका रिस्क भी कम हो जाएगा और अगर भविष्य में इनमें से कोई भी कंपनी शानदार परफॉर्म करती है तो आपको जबरदस्त रिटर्न मिल सकते हैं।

आप हमें कमेंट करके बताइए आपको कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर की लिस्ट में कौन सी कंपनी सबसे अच्छी लगी और कौन सा शेयर आपके पोर्टफोलियो में है?

5/5 - (9 votes)
Deepak SenAbout Author
मेरा नाम दीपक सेन है और मैं इस ब्लॉग का Founder हूं। यहां पर मैं अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से शेयर मार्केट, निवेश और फाइनेंस से संबंधित उपयोगी जानकारी शेयर करता हूं। ❤️

Leave a Comment