ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं? Option Trading kaise kare in hindi

Option Trading kaise kare in hindi, ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं, कम पैसों में ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करें, ऑप्शन ट्रेडिंग की शुरुआत कैसे करें, ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए कौन सा ऐप सबसे अच्छा है, ऑप्शंस में ट्रेड करने से पहले क्या ध्यान रखना चाहिए?

ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं, Option Trading kaise kare in hindi

आज मैं आपको बताऊंगा कि शेयर मार्केट में ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करें, कॉल और पुट ऑप्शंस कैसे खरीदते और बेचते हैं, ऑप्शन ट्रेडिंग शुरु कैसे करें और ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए कितने पैसे की जरूरत होती है।

इसके अलावा ऑप्शंस को ट्रेड (buy और sell) करने के लिए आपके पास कौन-कौन सी चीजें होनी चाहिए और ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए कौन सा ऐप सबसे बेस्ट रहेगा यह भी बताऊंगा।

ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे की जाती है यह जानने के लिए इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ना। मैं आपसे वादा करता हूं इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको इस टॉपिक से संबंधित कहीं और पढ़ने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

चलिए सबसे पहले जानते हैं कि–

इस पोस्ट में आप जानेंगे-

ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं? (Option Trading kaise kare)

ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए आपको सबसे पहले शेयर मार्केट में किसी ब्रोकर के पास डीमैट या ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना पड़ता है। फिर फ्यूचर एंड ऑप्शन्स (F&O) सेगमेंट को एक्टिवेट करें। इसके बाद आप कॉल (CE) और पुट (PE) ऑप्शन को ट्रेड (buy और sell) कर सकते हैं।

लेकिन ध्यान रखिए ऑप्शन ट्रेडिंग की शुरुआत करते समय आपको स्टॉक की बजाए Nifty और Banknifty इंडेक्स में ही ऑप्शंस ट्रेडिंग करना चाहिए. क्योंकि इनमें आपको लिक्विडिटी काफी अच्छी मिल जाती है मतलब निफ्टी और बैंकनिफ्टी में कॉल और पुट ऑप्शंस को खरीदने और बेचने वाले ट्रेडर्स की संख्या बहुत ज्यादा होती है।

आइए आप step by step जान लेते हैं कि ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करें

🔥 Whatsapp Group👉 अभी जुड़ें
🔥 Telegram Group👉 अभी जुड़ें

Step 1. ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए डीमैट खाता खोलें

शेयर बाजार में ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए आपको सबसे पहले किसी ब्रोकर के पास डीमैट खाता खोलना होगा. आजकल मार्केट में Upstox, Zerodha, एंजल ब्रोकिंग और 5paisa जैसे कई trusted डिस्काउंट ब्रोकर हैं जिनके पास आप आसानी से अपना डीमैट खाता खोल सकते हैं।

जब आपका डिमैट अकाउंट खुल जाए तो उसमें आपको अपने बैंक अकाउंट से पैसे ट्रांसफर करना होगा ताकि आप call और put ऑप्शन को खरीद और बेच सकें और Profit कमा सकें.

Step 2. फ्यूचर एंड ऑप्शन (F&O) सेगमेंट एक्टिवेट करें

जब आपका डीमैट खाता खुल जाए तो आपको फ्यूचर एंड ऑप्शन (F&O) सेगमेंट को एक्टिवेट करवाना पड़ता है जिसमें लगभग 48 घंटे का समय लगता है।

फ्यूचर एंड ऑप्शन सेगमेंट को एक्टिवेट करने के बाद ही आप ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं.

तो इसे एक्टिवेट करने के लिए आपको अपनी ब्रोकर ऐप को ओपन करना है और अपने प्रोफाइल वाले सेक्शन में जाना है. उसमें आपको ‘Activate F&O trading’ दिखाई देगा उस पर आपको क्लिक करना है।

क्लिक करने के बाद 24 से 48 घंटे के अंदर आपका डेरिवेटिव यानी F&O सेक्शन एक्टिवेट हो जाएगा।

Step 3. स्टॉक या इंडेक्स ऑप्शन सेलेक्ट करें

डेरिवेटिव सेक्शन एक्टिवेट हो जाने के बाद आपको वह शेयर चुनना है जिसका कॉल या पुट ऑप्शन आप खरीदना या बेचना चाहते हैं।

शेयर के अलावा आप निफ्टी या बैंकनिफ्टी में भी ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं। इसके लिए आपको निफ्टी और बैंकनिफ्टी का कॉल या पुट ऑप्शन ट्रेड (buy या sell) करना होगा.

  • ध्यान रखिए– निफ्टी और बैंकनिफ्टी में ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए आपको Lot size में ऑप्शंस को खरीदना या बेचना पड़ता है।
  • इसका मतलब है कि आप अपनी मर्जी के मुताबिक कितने भी शेयर खरीद या बेच नहीं सकते हैं बल्कि आप को मिनिमम एक lot खरीदना ही होगा जिसमें 25 या 50 शेयर होते हैं।

आपको बता दें कि Nifty के एक Lot में 50 शेयर होते हैं और Banknifty के 1 lot में 25 शेयर होते हैं।

मतलब अगर आप निफ्टी का call या put ऑप्शन ट्रेड करते हैं तो आप को कम से कम 50 क्वांटिटी खरीदना होगा और बहन बैंक निफ्टी में मिनिमम 25 क्वांटिटी खरीदना होगा।

मान लीजिए निफ्टी के किसी call option (CE) की कीमत 100 रुपये है तो आपको उसका कम से कम एक लॉट खरीदना होगा मतलब उस ऑप्शन को खरीदने के लिए आपको मिनिमम 100×50 = 5000 रुपये देने होंगे तब जाकर आप एक लॉट खरीद सकते हैं।

Step 4. अब कॉल (CE) या पुट (PE) ऑप्शन चुनें

जब आप यह डिसाइड कर लें कि आप को स्टॉक या निफ्टी और बैंकनिफ्टी में से किसमें ऑप्शन ट्रेडिंग करना है तो इसके बाद आपको कॉल या पुट ऑप्शन में से किसी एक को चुनना होगा।

  • अगर आपको लगता है कि आज मार्केट ऊपर जाएगा तो आपको कॉल ऑप्शन खरीदना चाहिए और अगर आपको लगता है कि मार्केट नीचे जाएगा तो आपको पुट ऑप्शन खरीदना चाहिए।

मान लीजिये आप बैंकनिफ्टी में ऑप्शन ट्रेडिंग करते हैं और आपको लगता है कि आज बैंकिंग सेक्टर के स्टॉक्स बढ़ने वाले हैं मतलब बैंक निफ्टी ऊपर जाएगा तो आप banknifty का Call option यानी CE खरीद सकते हैं।

अगर आपके मुताबिक उस दिन बैंक निफ्टी ऊपर चला जाता है तो आपके द्वारा खरीदे गए कॉल ऑप्शन की कीमत बढ़ जाएगी जिससे आपको प्रॉफिट होगा।

जानिए कैसे पता करें–

Step 5. स्ट्राइक प्राइस चुनें जिस पर ऑप्शन ट्रेडिंग करना है

जब आप कॉल या पुट ऑप्शन में से किसी एक का चुनाव कर ले तो अब आपको उस ऑप्शन का strike price सिलेक्ट करना है।

स्ट्राइक प्राइस वह प्राइस होता है जिस पर आप कॉल या पुट ऑप्शन को खरीदते या बेचते हैं। मान लीजिये अगर अभी निफ्टी 18000 अंक पर चल रहा है तो करंट स्ट्राइक प्राइस 18000 ही होगा.

  • 18000 से नीचे के सभी स्ट्राइक प्राइस (17900, 17800, 17600, 17500 आदि) को हम ITM यानी In The Money ऑप्शन्स कहते हैं,
  • 18000 से ऊपर के सभी स्ट्राइक प्राइस (18100, 18200, 18300, 18400 आदि) को हम OTM यानी Out The Money ऑप्शन्स कहते हैं
  • जबकि 18000 यानी करंट स्ट्राइक प्राइस को ATM ऑप्शन कहा जाता है।

आपको वही स्ट्राइक प्राइस चुनना चाहिए जिस पर आपको लगता है कि निफ्टी या बैंकनिफ्टी जल्द ही पहुंचने वाला है।

मान लीजिये अभी निफ्टी 18000 पॉइंट पर चल रहा है पर आपको लगता है कि 2 से 3 दिन में यह 18500 तक पंहुच जाएगा तो ऐसे में आप 18500 का OTM यानी Out The Money कॉल ऑप्शन खरीद सकते हैं।

अगर आपके Prediction के मुताबिक उस call option के expire होने से पहले निफ्टी 18500 पॉइंट तक पहुंच जाता है तो आपके द्वारा खरीदे गए कॉल ऑप्शन की कीमत बढ़ जाएगी जिससे आपको प्रॉफिट होगा

लेकिन वहीं अगर निफ़्टी ऊपर जाने की बजाए नीचे चला जाता है तो आपको नुकसान होगा क्योंकि आपके द्वारा खरीदे गए ऑप्शन की प्रीमियम की कीमत घट जाएगी।

Step 6. अब ऑप्शन की क्वांटिटी डालें और ट्रेड करें

जब आप कॉल या पुट ऑप्शन चुनने और स्ट्राइक प्राइस भी डिसाइड कर लें तो अब आपको केवल quantity डालना है जितने ऑप्शंस को आप खरीदना या बेचना चाहते हैं।

अगर आप के 1 Lot खरीदना चाहते हैं तो आपको 1 डालना होगा और अगर 10 Lot खरीदना चाहते हैं तो आपको 10 डालना होगा।

इसके बाद आपको सीधा Buy बटन पर क्लिक कर देना हैं। तो इस प्रकार आप आसानी से किसी भी स्टॉक या इंडेक्स में ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं।

जीरोधा में ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करें?

  • जीरोधा में ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए सबसे पहले आपको अपना डीमैट अकाउंट खोलना है।
    इसके बाद डेरिवेटिव सेगमेंट को एक्टिवेट करना है।
  • अब आपको स्टॉक या इंडेक्स में से किसी एक को सिलेक्ट करना है।
  • फिर आपको उस कॉल या पुट ऑप्शंस का चुनाव करना है जिसे आप खरीदना या बेचना यानि ट्रेड करना चाहते हैं।
  • अब आपको केवल स्ट्राइक प्राइस सिलेक्ट करना है।
  • स्टॉक की क्वांटिटी डालें और buy बटन पर क्लिक कर दें, इस प्रकार आप Zerodha में आसानी से ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं।

Upstox में ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करें?

  • Upstox में ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए सबसे पहले आपको अपना डीमैट अकाउंट खोलना है।
  • इसके बाद डेरिवेटिव सेगमेंट को एक्टिवेट करना है।
  • अब आपको स्टॉक या इंडेक्स में से किसी एक को सिलेक्ट करना है।
  • फिर आपको उस कॉल या पुट ऑप्शंस का चुनाव करना है जिसे आप खरीदना या बेचना यानि ट्रेड करना चाहते हैं।
  • अब आपको केवल स्ट्राइक प्राइस सिलेक्ट करना है।
  • स्टॉक की क्वांटिटी डालें और buy बटन पर क्लिक कर दें, इस प्रकार आप Zerodha में आसानी से ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं।

एंजल ब्रोकिंग में ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करें?

  • Angel broking में ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए भी same तरीका फॉलो करना होगा।
  • एंजल ब्रोकिंग में ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए सबसे पहले आपको अपना डीमैट खाता खोलना है।
  • इसके बाद डेरिवेटिव यानी F&O सेगमेंट को एक्टिवेट करना है।
  • अब आपको स्टॉक या इंडेक्स में से किसी एक को सिलेक्ट करना है।
  • फिर आपको उस कॉल या पुट ऑप्शंस का चुनाव करना है जिसे आप ट्रेड करना चाहते हैं।
  • अब आपको केवल स्ट्राइक प्राइस सिलेक्ट करना है।
  • स्टॉक की क्वांटिटी डालें और buy बटन पर क्लिक कर दें, इस प्रकार आप Zerodha में आसानी से ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं।

उम्मीद करता हूं अब आप जान गए होंगे कि Zerodha, Upstox और Angel broking में ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं। आइए अब जानते हैं कि–

ऑप्शन ट्रेडिंग करने से पहले क्या ध्यान रखना चाहिए?

ऑप्शन ट्रेडिंग की शुरुआत करने से पहले आपको option buying और option selling में से किसी एक को चुनना होगा. Option buying करने के लिए आपको ज्यादा पैसे की जरूरत नहीं पड़ती है जबकि Option selling करने के लिए आपको लाखों रुपए की जरूरत होती है।

इसीलिए शुरुआत में ज्यादातर लोग ऑप्शन buying करना ही पसंद करते हैं. और यही कारण है कि शेयर मार्केट में 70% से ज्यादा ट्रेडर्स option buyers हैं जबकि option sellers केवल 30% हैं।

Option Trading kaise kare in hindi (FAQ’s)

कम पैसे में ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करें?

कम पैसे में ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए आपको कॉल या पुट ऑप्शन को खरीदना होगा। सबसे पहले आपको वह स्ट्राइक प्राइस चुनना होगा जिसके ऑप्शन प्रीमियम की कीमत सबसे कम है।

लेकिन ध्यान रखिए केवल सस्ते ऑप्शन प्रीमियम के चक्कर में ऑप्शन्स को ट्रेड नहीं करना चाहिए बल्कि टेक्निकल एनालिसिस करने के बाद अगर आपको लगता है कि ऑप्शन की कीमत बढ़ या घट सकती है तो उसी के अनुसार कॉल (CE) या पुट (PE) ऑप्शन को ट्रेड करना चाहिए।

क्या हम रोज ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं?

जी हां, आप रोज ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं और daily profit कमा सकते हैं। रोजाना ऑप्शन ट्रेडिंग से प्रॉफिट कमाने के लिए आपके पास एक मजबूत ऑप्शन स्ट्रेटजी होनी चाहिए और उसी के आधार पर मार्केट में CE या PE को ट्रेड करने का निर्णय लेना चाहिए।

ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए कौन सा ऐप सबसे अच्छा है?

ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए Zerodha और Upstox सबसे अच्छे ऐप माने जाते हैं।

ऑप्शन ट्रेडिंग में शुरुआत कैसे करें?

ऑप्शन ट्रेडिंग की शुरुआत करने के लिए आपको शेयर बाजार में डीमैट खाता खोलने के बाद उसमें फ्यूचर एंड ऑप्शन यानी डेरिवेटिव सेगमेंट को एक्टिवेट करना होगा। इसके बाद आप स्टॉक या इंडेक्स (Nifty और Banknifty) के कॉल और पुट ऑप्शन को ट्रेड कर सकते हैं।

निष्कर्ष (ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं)

मुझे उम्मीद है आपको यह आर्टिकल ‘ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं‘ जरूर पसंद आया होगा. इसे पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे कि शेयर बाजार में कॉल और पुट ऑप्शंस को कैसे ट्रेड (buy और sell) किया जाता है

अगर आपके मन में ‘Option Trading kaise kare‘ इस पोस्ट से रिलेटेड कोई doubts है तो नीचे कमेंट में पूछ सकते हैं.

ये भी पढ़ें,

अगर आपको यह लेख ‘How to do option trading in hindi’ पसंद आया हो तो कृपया इसे सोशल मीडिया पर भी शेयर करें.

4.8/5 - (16 votes)

मेरा नाम दीपक सेन है और मैं इस वेबसाइट का Founder हूं। यहां पर मैं अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से शेयर मार्केट, निवेश और फाइनेंस से संबंधित उपयोगी जानकारी शेयर करता हूं। ❤️