जानिए टाटा मोटर्स शेयर कब ऊपर जाएगा? ये शेयर भविष्य में कितने रिटर्न देगा?

Tata Motors Share News in Hindi 2022

Tata motors share latest news in hindi

  • अलग-अलग एक्सपर्ट और ब्रोकरेज हाउस टाटा मोटर्स के शेयर पर विभिन्न टारगेट जैसे 580, 660 और 740 रुपये बता रहे हैं.
  • इसी प्रकार आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने टाटा मोटर्स के शेयर पर बुलिश होकर 680 रुपये का टारगेट सेट किया है उनके अनुसार अभी इस शेयर में पैसा लगाने पर भविष्य में 75% मिल सकते हैं.
  • अप्रैल 2020 के बाद से ही टाटा मोटर्स का शेयर लगातार तेजी दिखा रहा है और तब से लेकर अब तक 600% रिटर्न दे चुका है.

Tata motors share news in hindi, tata motors share news hindi

आप जानते ही होंगे कि आने वाला फ्यूचर इलेक्ट्रिक व्हीकल का है क्योंकि पेट्रोल डीजल वाली गाड़ियां वातावरण में climate change पर बहुत बुरा असर डालती हैं और इसीलिए सरकार का लक्ष्य है कि 2030 तक 80% गाड़ियां electric vehicle होनी चाहिए क्योंकि 2050 तक भारत सरकार अपने जीरो कार्बन एमिशन के लक्ष्य को पाना चाहती है।

भारत में टाटा मोटर्स (Tata Motors) ही एक ऐसी कंपनी है जो EV यानी इलेक्ट्रिक व्हीकल में 80% market share के साथ नंबर वन पर है मतलब इंडिया में 80% इलेक्ट्रिक गाड़ियां केवल टाटा मोटर्स कंपनी के द्वारा ही बनाई जाती हैं।

अब ऐसे में निवेशकों का ध्यान टाटा मोटर्स शेयर न्यूज और स्टॉक प्राइस की तरफ बढ़ना आम बात है इसीलिए EV पर bullish निवेशक टाटा मोटर्स शेयर को खरीदना चाहते हैं। लेकिन इस शेयर को लेकर निवेशकों के मन में बहुत सारे डाउट है कुछ लोग पॉजिटिव हैं तो कुछ लोग नेगेटिव इसीलिए आज हम टाटा मोटर्स शेयर न्यूज का पूरा एनालिसिस हिंदी में करेंगे। साथ ही इससे जुड़ी हर एक खबर (Tata motors share news hindi) आपके साथ साझा करेंगे।

इस पेज पर समय-समय पर हमारी टीम Tata motors share hindi news अपडेट करती रहती हैं इसीलिए आप चाहो तो इस पेज को बुकमार्क कर सकते हैं.

टाटा मोटर्स कंपनी के बारे में जानकारी

टाटा मोटर्स इंडिया के ऑटोमोबाइल सेक्टर की एक लीडिंग कंपनी बन चुकी है. यह टाटा ग्रुप की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है. टाटा मोटर्स सिर्फ cars ही नहीं बेचती बल्कि इसके अलावा भी बहुत सारे स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल, ट्रक बसें और सेना के लिए वाहन यानी डिफेंस व्हीकल भी बनाती है।

इंडिया के अलावा चाइना, साउथ अफ्रीका, साउथ कोरिया, ब्राज़ील, ऑस्ट्रिया और स्लोवाकिया जैसे देशों में इनका ग्लोबल नेटवर्क है जहां पर इनकी अन्य सब्सिडियरी कंपनियां और ज्वाइंट वेंचर ऑपरेट करते हैं जिसमें UK में Jaguar और Landrover (JLR) और साउथ कोरिया में Tata Daewoo की supply करती है।

टाटा मोटर्स का 80% रेवेन्यू जैगुआर और लैंड रोवर से ही आता है. लेकिन अब कंपनी धीरे धीरे इलेक्ट्रिक व्हीकल पर शिफ्ट हो रही है और इनकी Tata Nexon जैसी इलेक्ट्रिक व्हीकल मार्केट में खूब धूम मचा रही है.

Tata motors news today in hindi

  • टाटा मोटर्स का कहना है कि वह 2025 तक 10 इलेक्ट्रिक गाड़ियां बाजार में लॉन्च करेंगे।
  • पिछले साल इंडिया में 2021 में 13700 इलेक्ट्रिक व्हीकल गाड़ियां बिकी जिसमें से 11600 गाड़ियां टाटा मोटर्स की थी।

अब आप इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि भविष्य में टाटा मोटर्स कंपनी का शेयर कितनी तेजी दिखा सकता है इसीलिए निवेशक इस शेयर में पैसा लगा रहे है क्योंकि उन्हें फ्यूचर साफ नजर आ रहा है.

टाटा मोटर्स ने अपने EV प्लान को एग्जीक्यूट करने के लिए टाटा ग्रुप की अन्य कंपनियों के साथ कोलैबोरेशन कर लिया है जिससे यह सस्ते प्राइस पर मार्केट में इलेक्ट्रिक गाड़ियां बीच पाएंगे और इस प्रकार टाटा मोटर्स की पूरे इलेक्ट्रिक व्हीकल इंडस्ट्री में monoploy बन जाएगी।

आप खुद सोच कर देखिए अगर टाटा मोटर्स ने इंडिया का इलेक्ट्रिक व्हीकल मार्केट पूरी तरह से कैप्चर कर लिया तो Tata motors share तो मल्टीबैगर बन ही चुका होगा साथ ही यह उन लोगों को अमीर बना देगा जिन्होंने इस समय टाटा मोटर्स में इन्वेस्ट किया होगा। और यही सब सोचकर निवेशक टाटा मोटर्स शेयर खरीदने में इंटरेस्टेड हैं।

लेकिन टाटा मोटर्स शेयर में निवेश करने से पहले निवेशकों के मन में बहुत सारे सवाल उठते हैं जैसे―

  • टाटा मोटर्स कंपनी पर इतना सारा कर्जा है क्या वह इस डेट को चुका पाएगी? और अगर वह कर्ज नहीं चुका पाए तो क्या निवेशकों का पैसा डूब जाएगा?
  • मारुति सुजुकी इंडिया में कार बनाने में नंबर वन है लेकिन उनका कहना है कि वह 2025 तक इलेक्ट्रिक व्हीकल नहीं बनाएगी जिसके लिए उन्होंने कई कारण बताए हैं उसके बारे में हम बाद में चर्चा करेंगे लेकिन क्या 2025 के बाद जब मारुति सुजुकी मार्केट में उतरेगी तो टाटा मोटर्स को खत्म कर देगी?
  • क्या इंडिया में इलेक्ट्रिक व्हीकल गाड़ियां सक्सेसफुल हो पाएगी?
  • क्या टेस्ला इंडिया में आकर टाटा मोटर्स का मार्केट शेयर हड़प लेगी?
  • क्या टाटा मोटर्स का शेयर भविष्य में मल्टीबैगर रिटर्न दे सकता है?
  • भविष्य को लेकर टाटा मोटर्स की क्या योजनाएं हैं जो कंपनी के बिजनेस को next लेवल पर ले जा सकती हैं?
  • अगले 5 सालों में टाटा मोटर्स का शेयर कितने गुना हो चुका होगा?
  • टाटा मोटर्स अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए ऐसा क्या कर रही है जो ऑटोमोबाइल सेक्टर की अन्य कंपनियां नहीं कर सकती?

यह सभी वो सवाल है जिनका जवाब हर एक टाटा मोटर्स शेयर का निवेशक जानना चाहता है. इसलिए आज हम आपको इन सभी सवालों के जवाब देने वाले हैं और टाटा मोटर्स शेयर की सभी latest hindi news upadte भी प्रोवाइड करेंगे।

ताकि आप यह निर्णय ले सके कि टाटा मोटर्स शेयर में इस वक़्त निवेश करना चाहिए या नहीं?

Tata Motors Latest News Today in Hindi

क्या आपको पता है 5 साल पहले टाटा मोटर्स का मार्केट शेयर इंडिया में केवल 5% था और 2019 में तो टाटा मोटर्स के जो पैसेंजर vehicle हैं उनका मार्केट शेयर गिरकर 3.6% पर आ गया था उस समय टाटा मोटर्स के चेयरमैन नटराज चंद्रशेखरन का कहना था कि टाटा मोटर्स लगभग हर कार के पीछे अपना पैसा गंवा रही है

लेकिन अगले 2 सालों बाद situation पूरी तरह से बदल चुकी है क्योंकि देखा जाए तो आज EV में इनका 80% market share है और आज देश में हर पांचवीं गाड़ी टाटा की बिकती है।

लेकिन आखिर टाटा मोटर्स मार्केट इतना बड़ा चेंज कैसे क्रिएट कर पाई? और मारुति जैसी बड़ी कंपनियां इलेक्ट्रिक व्हीकल क्यों नहीं बना पा रहे हैं?

अगर आपने इस सवाल का जवाब जान लिया तो आपको टाटा मोटर्स के बिजनेस और इनके भविष्य को लेकर क्या vision है उसके बारे में बहुत कुछ पता चलेगा जिससे आपको एक clearity मिलेगी कि आपको इस शेयर में निवेश करना भी चाहिए या नहीं?

तो टाटा मोटर्स अपने बिजनेस में इतना बड़ा चेंज ला पाई इसके 3 कारण है आइये एक-एक करके सभी कारणों पर विस्तार से चर्चा करते हैं―

Tata Motors share News in Hindi today

Tata motors future plans in hindi:

सबसे पहला कारण Customer Need को समझा―

टाटा मोटर्स समझ चुकी थी कि इंडियन कस्टमर को इधर-उधर के फालतू फीचर्स नहीं चाहिए. उन्हें वैल्यू फॉर मनी गाड़ी चाहिए मतलब कस्टमर जो पैसा दिए हैं उन्हें गाड़ी में उतने फीचर्स भी मिलना चाहिए।

कस्टमर फीडबैक से उन्हें पता चला कि SUV आजकल ज्यादा बिकती है और लोग चाहते हैं कि electric vehicle एक बार चार्ज करने पर मिनिमम 200 किलोमीटर गाड़ी चले इसीलिए फिर क्या था टाटा ने तुरंत की ऐसी ही एक SUV बनाने पर काम शुरू कर दिया।

This is how tata motors share price will grow in future by 2025 and 2030.

दूसरा कारण गाड़ी की cost को बहुत कम कर दिया―

Tata motors share news hindi: अब आप सोचेंगे hyudrai, MG तो छोड़ो टेस्ला तक अपनी गाड़ियों की प्राइस कम नहीं कर पा रही है तो टाटा मोटर्स कैसे करेगी यहीं पर आता है टाटा का मास्टर प्लान,

आपको पता होना चाहिए जब कोई कंपनी इलेक्ट्रिक व्हीकल में एंट्री करती है तो उसको जीरो से अपना सारा काम शुरू करना पड़ता है ( गाड़ी बनाने के लिए एक पूरा प्लेटफार्म बनाना पड़ता है ,फैक्ट्री लगानी पड़ती है, इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करना पड़ता है, असेंबली लाइन तैयार करनी पड़ती है )

इन सब में खर्चा बहुत ज्यादा हो जाता है इसलिए गाड़ी को कम कीमत पर बेचना संभव नहीं है लेकिन टाटा मोटर्स फिर भी सस्ती कीमत पर गाड़ियों को बेच पाती है अब बात करते हैं कि आखिर टाटा मोटर्स कम price पर गाड़ियों को कैसे बेच पाती है?

देखिए टाटा ने सोचा कि अगर खुद ही गाड़ियां बनाएंगे तो इसमें करोड़ों रुपए खर्च हो जाएंगे, टाइम भी बहुत लग जाएगा और गाड़ी ज्यादा कॉस्ट पर बेचनी पड़ेगी तो उन्होंने सोचा कि पहले देख तो ले इंडियन मार्केट में डिमांड है कि नहीं?

तो उन्होंने सोचा कि अगर एक नया फैक्ट्री, नया असेंबली लाइन, नया प्लेटफार्म खोलेंगे तो खर्चा बहुत ज्यादा आ जाएगा इसीलिए उनका जो पहले से फैक्ट्री है उसमें जो जगह खाली पड़ी थी उस जगह पर उन्होंने अपनी exiatance सबसे पॉपुलर गाड़ी nexon को लिया और खुद उसकी इंजीनियरिंग करी खुद हाथों से उसकी बैटरी वायरिंग यह सब करी मार्केट को टेस्ट करने के लिए.

तो इस प्रकार टाटा मोटर्स ने शुरुआत की लेकिन शुरुआत में सिर्फ 8 गाड़ियां ही 1 दिन में बन पाती थी लेकिन धीरे धीरे उन्हें कस्टमर से अच्छा फीडबैक मिलने लगा और वह गाड़ियां बनाते गए।

और आज वह प्रतिदिन 100 से भी ज्यादा गाड़ियां बनाते हैं जिसका नंबर धीरे-धीरे बढ़ता ही जा रहा है.

Tata motors stock news in hindi

Tata motors share today news hindi: सबसे पहले उन्होंने Tigor EV निकाली जिसकी रेंज 160 किलोमीटर थी मतलब गाड़ी एक बार चार्ज हो जाने पर 160 किलोमीटर चल सकती थी लेकिन धीरे-धीरे उन्हें समझ आया कि कस्टमर को क्या चाहिए फिर उन्होंने टाटा नेक्सन पर काम किया और इसके लॉन्च होते ही इसने पूरे इंडियन ev मार्केट को ही हिला डाला.

  • Tata Nexon EV ही वह गाड़ी है जो टाटा मोटर्स की इलेक्ट्रिक व्हीकल सेगमेंट में सबसे ज्यादा सक्सेसफुल हुई क्योंकि यह वैल्यू फॉर मनी तो है ही साथ ही इसके फीचर्स भी इंडिया में उपलब्ध बाकी इलेक्ट्रिक गाड़ियों की तुलना में बढ़िया है।

तो इस प्रकार टाटा मोटर्स ने गाड़ियों को बनाने का कॉस्ट कम किया और मार्केट को टेस्ट करके शुरुआती सक्सेस पाई।

तीसरा और सबसे बड़ा कारण है टाटा मोटर्स के इलेक्ट्रिक व्हीकल सेगमेंट में इतना सक्सेसफुल (80% market share) होने का― Tata EV ecosystem

इंडिया में अब तक ev रिवैल्युएशन अब तक इसलिए नहीं आया है क्योंकि इस इंडस्ट्री में आपको सब कुछ खुद करना पड़ता है बैटरी डिवेलप करने से लेकर चार्जिंग स्टेशन सेटअप करने तक जिससे खर्चा बहुत ज्यादा आ जाता है

लेकिन टाटा मोटर्स ने एक स्ट्रांग ev इकोसिस्टम बनाने के लिए मजबूत मास्टर प्लान बनाया जिसके तहत उन्होंने टाटा ग्रुप की सभी subsidiary कंपनियों के साथ कोलैबोरेशन किया और इलेक्ट्रिक व्हीकल बनाने के लिए हर एक काम एक specific टाटा कंपनी संभाल लेगी

जैसे चार्जिंग स्टेशन बनाने के लिए इन्होंने Tata power के साथ डील साइन की जो हर एक जगह जैसे; घर, वर्कप्लेस ऑफिस आदि में चार्जिंग स्टेशन सेटअप करता है इसलिए आप देखोगे कि इंडिया में अभी सबसे ज्यादा चार्जिंग स्टेशन लगभग 1000 से ज्यादा टाटा के ही है।

It means tata motors share will give good returns if their entire electric vehicle ecosystem works according to their plan.

इसके बाद एक बैटरी बनाने में बहुत ज्यादा टाइम और रिसोर्सेज लगते हैं. लगभग 30 से 40% cost electric गाड़ी की बैटरी बनाने का ही आ जाता है इसलिए बैटरी बनाने की जिम्मेदारी टाटा केमिकल को सौंपने वाले थे लेकिन अब टाटा केमिकल का कहना है कि― वह ev रिवॉल्यूशन में हिस्सा नहीं लेगी मतलब बैटरी नहीं बनाएगी

इसलिए टाटा मोटर्स के इलेक्ट्रिक व्हीकल इकोसिस्टम में टाटा केमिकल शामिल नहीं हो रही है इसीलिए बैटरी का इंतजाम टाटा को कहीं और से करना पड़ेगा।

  • इसके बाद बैटरी मैनेजमेंट और असेंबली में भी बहुत ज्यादा रिसोर्सेस लगते हैं और सही से सब कुछ टेस्ट करना पड़ता है ताकि इंडियन सड़कों की कंडीशन में भी गाड़ी को कोई नुकसान ना हो इसलिए टाटा मोटर्स ने टाटा autocomp के साथ कोलैबोरेट किया
  • गाड़ियों में टेक्नोलॉजी और सॉफ्टवेयर की जरूरत पड़ती है तो उसके लिए TCS और Tata Elexi मदद करेगी
  • इसके बाद आपको पता है गाड़ी खरीदने के लिए लोन की जरूरत पड़ती है तो उसके लिए टाटा कैपिटल (Tata Finance) मदद करेगा.
  • फिर ev का जो पूरा डिजिटल एक्सपीरियंस है उसके लिए टाटा क्रोमा हेल्प करेगा।

तो इस प्रकार टाटा मोटर्स ने टाटा की सभी कंपनियों की हेल्प ली जिससे कॉस्ट सभी कंपनियों में डिवाइड हो गया क्योंकि ev के जो सभी पार्ट्स है वह वही कंपनी मैनेज करेगी जिनकी उस चीज में स्पेशलिटी है

जिस कारण Tata दूसरी ev कंपनियों को भी हेल्प करने लग गए उदाहरण; टाटा पावर अन्य कंपनियों के लिए चार्जिंग स्टेशन सेटअप करने में भी हेल्प करता है।

तो ये था टाटा मोटर्स का कंपलीट मास्टर प्लान जिसकी मदद से Future में Tata motors इलेक्ट्रिक व्हीकल industry में क्रांति ला सकता है।

Tata Motors शेयर की ताज़ा खबरें (Tata motors all latest news in hindi)

ऐसा नहीं है कि Tata motors कंपनी केवल गाड़ियां ही इलेक्ट्रिक बना रही हैं बल्कि इन्होंने इलेक्ट्रिक बस भी बनाई है जिसमें Tata ace ev cargo ट्रक भी सड़कों पर दौड़ने वाले हैं जिसके लिए ऑलरेडी businesses ने 39000 गाड़ियों की बुकिंग कर दी है।

Tata motors news in hindi–

  • अब FY 2022 में टाटा मोटर इंडिया की तीसरी सबसे बड़ी कार कंपनी बन चुकी हैं.
  • टाटा नेक्सन ने hyudrai क्रेटा को भी beat कर दिया है इंडिया की बेस्ट selling SUV बनकर.
  • TVG drive के द्वारा इलेक्ट्रिक वाहन business को अगले लेवल पर ले जाने के लिए 1 बिलियन डॉलर की फंडिंग भी उठा ली है.
  • साल के अंत तक Altroz ev भी लांच करेगी जिसकी कीमत 13 लाख से कम होगी।

तो ये थीं कुछ Tata motors latest news hindi में

आपको क्या लगता है क्या और कोई कंपनी है जो टाटा मोटर्स को ev सेगमेंट में हरा सकती है? कमेंट करके बताइए…

Tata Motors Share Price Target News in Hindi

अब आइए टाटा मोटर्स के बिजनेस के बारे में थोड़ा बहुत जान लेते हैं―

Tata motors History in hindi:

टाटा मोटर्स की जब शुरुआत हुई तो यह अपनी बनाई हुई cars पर ही निर्भर थे लेकिन 2008 में इन्होंने 10 हजार करोड़ में JLR यानी Jaguar और Landrover को खरीद लिया और तब टाटा मोटर्स ने निर्णय लिया कि हम इस कंपनी को पूरी तरह से Turnaround करेंगे हालांकि जो उन्होंने plan किया वह करके भी दिखाया.

2008-09 में कंपनी ने struggle किया लेकिन 2010 से कंपनी बहुत तेजी से आगे बढ़ने लगी और कुछ सालों बाद कंपनी JLR पर बहुत ज्यादा निर्भर हो गई और इनका 70-80% revenue सिर्फ JLR से आने लगा।

आप सोच रहे होंगे कि जब JLR का बिजनेस इतना अच्छा चल रहा था तो 2019 में प्रॉब्लम कहां से आ गई?

तो देखिए प्रॉब्लम भी JLR में ही आई थी अब इसके लिए JLR को समझना होगा―

देखिए JLR का मुख्य बिजनेस इंडिया में नहीं है ये चाइना और यूरोपियन देशों में है.

  • 2015 से लेकर 2017 तक JLR का 33% रेवेन्यू सिर्फ चाइना से आता था.
  • टाटा मोटर्स ने देखा कि चाइना गाड़ियों के इम्पोर्ट पर 25% import tariff लगा रही है और इसी tax से बचने के लिए टाटा मोटर्स ने चाइना की ही एक कंपनी Chery automobile के साथ ज्वाइंट वेंचर किया
  • और फिर 2017 तक JLR 1 से 1.5 लाख कार चाइना में बेचने लगे।

लेकिन अब बिजनेस में एक बहुत बड़ी प्रॉब्लम आ गई जैसे ही JLR का सेल्स बढ़ने लगा तो तो टेक्निकल problems भी बढ़ने लग गई और प्रोडक्ट क्वालिटी में बहुत सारे concern आने लग गए जिसके कारण उन्हें अपने 106000 वाहन वापस बुलाने पड़े जिनमें कई सारे अलग-अलग तरह के डिफेक्ट थे जैसे― engine, instrument panel, Airbag और बैटरी संबंधित issue थे

इन सभी problems की वजह से जो 33% रेवेन्यू वो चाइना से लाते थे वह गिरकर 10% पर आ गया।

अब ये issue तो सिर्फ china का था दूसरी तरफ यूरोपियन देशों से भी problems सामने आ गई जब Volkswegan का emission scandal सामने आया इसके बाद वहां की सरकार ने डीजल वैरीअंट जो कि pollution फैलाती हैं उन गाड़ियों पर भारी टैक्स लगा दिया ताकि जल्द से जल्द ये कंपनियां इलेक्ट्रिक व्हीकल पर शिफ्ट करें

लेकिन दिक्कत ये थी कि;

  • टाटा की 90% jaguar और landrover डीजल वैरीअंट गाड़ियां थी अब उन्हें पहले तो इन गाड़ियों को बेचना था तभी तो वह EV पर आ पाएंगे जिसके चलते डिस्काउंट पर उन्हें माल बेचना पड़ा इसलिए यूरोपियन देशों में भी Tata motors को नुकसान झेलना पड़ा।

इस दौरान कंपनी का डेट (debt) बढ़ता चला गया और एक समय  ऐसा आया जब कंपनी पर कर्ज 1 लाख करोड़ तक बढ़ गया।

ऐसे में टाटा मोटर्स के मैनेजमेंट के पास सिर्फ दो ऑप्शन थे ― या तो JLR को बंद करो या फिर टाटा मोटर्स का पूरा बिजनेस ही बंद कर दो। लेकिन कंपनी के सीईओ Guenter Butschek तुरंत हार मानने वालों में से नहीं थे।

यह दोनों प्रॉब्लम ही सॉल्व नहीं हुई थी और तीसरी सबसे बड़ी प्रॉब्लम आ गई कि मार्च 2020 में लॉकडाउन लग गया इसके बाद अप्रैल 2020 से लेकर जून 2020 तक तो कंपनी की sales ना के बराबर थी, लेकिन इसी समय का कंपनी ने बहुत अच्छी तरह से यूज किया और कुछ ऐसी चीजें की जिससे कंपनी पूरी तरह से turnaround हुई।

Tata motors business analysis news in hindi

सबसे पहले कंपनी ने इनोवेशन पर फोकस करके नए नए models लाना शुरु किए और पुराने मॉडल्स को हटाना शुरू किया.

कुछ मॉडल्स जैसे; Tata Nexon, Tata Altroz, Tata Harrier और Tata Punch को कंपनी ने कुछ ही समय में लांच कर दिया.

अगर आप 2020-21 के sales देखें तो सबसे ज्यादा यही गाड़ियां बिकी हैं जिसमें टाटा नेक्सन नंबर वन पर है जिसकी 2020 में sales 48000 थी वहीं 2021 में बढ़कर एक लाख 6 हज़ार हो गई। बाकी सभी गाड़ियों का डाटा भी आप नीचे इमेज में देख सकते हैं―

Tata motors share news in hindi, tata motors share news hindi

इसमें से Tata punch जो अक्टूबर 2001 में ही लांच हुई उसमें सिर्फ ढाई महीनों में ही 22000 गाड़ियां बेच डाली।

Tata Motors Stock Analysis News in Hindi:

आपको बता दूं कि टाटा मोटर्स ने हमेशा से ही नए- नए innovations पर फोकस किया है. उनकी टाटा इंडिका पहली कार थी जिसमें डीजल वैरीअंट था, टाटा नैनो में भी उन्होंने सस्ती कार लाकर इनोवेशन किया लेकिन वह लोगों को पसंद नहीं आया और एक market failure साबित हुआ.

अब Tata nexon, Altroz, Punch जैसे नए मॉडल्स पर फोकस करते समय उन्होंने अपने पुरानी मॉडल्स को हटाना भी शुरू कर दिया है और कई सारे पुराने मॉडल जैसे; Sumo, Arrea, Zest, Bolt, Indica मैंने धीरे धीरे वह हटाने लगे, Tata Hexa को तो उन्होंने सिर्फ 3 साल के अंदर ही हटा दिया।

टाटा मोटर्स के इतने बड़े turnaround का सबसे बड़ा कारण है इनका Proactive approch.

जहां बाकी कंपनियों जैसे मारुति सुजुकी के चेयरमैन RC भार्गव कह रहे हैं कि 2025 से पहले वह इलेक्ट्रिक व्हीकल नहीं लाएंगे वह पहले देखेंगे कि इंडिया में इलेक्ट्रिक व्हीकल कैसे परफॉर्म करती है उसके बाद ही वह निर्णय लेंगे।

इसी तरह बाकि कंपनी यह भी सोच रही थी कि इलेक्ट्रिक व्हीकल के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर कहां से आएगा, बैटरी कहां से आएगी, चार्जिंग स्टेशन कौन लगाएगा और डिजाइन कौन तैयार करेगा?

लेकिन टाटा मोटर्स ने समझ लिया था कि future तो यही है।

और इसीलिए टाटा मोटर्स ने वर्टिकल इंटीग्रेशन बनाना शुरू किया इंतजार नहीं किया कि कोई और चार्जिंग स्टेशन बनाएगा. टाटा ग्रुप की ही दूसरी कंपनी टाटा पावर ने चार्जिंग स्टेशन बनाना शुरू कर दिया और देखते ही देखते आज उनके 1000 से ज्यादा चार्जिंग स्टेशन है।

तो इस तरह टाटा मोटर्स ने अपना पूरा फोकस इलेक्ट्रिक व्हीकल पर लगा दिया।

  • इनका जो टाटा Nexon मॉडल है वह इतना हिट हुआ कि इंडिया का जो पूरा इलेक्ट्रिक व्हीकल का मार्केट शेयर है उसका 64% तो Tata nexon के ही पास है और 80% पूरे टाटा मोटर्स के पास जो लगातार बढ़ता जा रहा है।
  • अपने बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए टाटा मोटर्स ने TPG Rise climate fund और Abu dhabi holding company से अच्छी खासी funding भी उठाई है।

जिस तेजी से टाटा मोटर्स अपना बिजनेस एक्सपेंड कर रही है और एक के बाद एक गाड़ियां लांच कर रही है उससे एक बात तो साफ है कि भविष्य में कंपनी का बिजनेस बहुत बढ़ने वाला है और कंपनी के परफॉर्मेंस के आधार पर ही टाटा मोटर्स का शेयर प्राइस भी बढ़ेगा।

टाटा मोटर्स का शेयर क्यों गिर रहा है?

Tata motors share price news hindi: निवेशकों का सवाल है कि टाटा मोटर्स का शेयर प्राइस नीचे क्यों जा रहा है कारण है कंपनी पर कर्ज बहुत ज्यादा होना. साथ ही दिसंबर तिमाही में गाड़ियों की बिक्री कम हो गई थी जिससे कंपनी के सेल्स और प्रॉफिट कम हो गए थे और तब से लगातार टाटा मोटर्स का शेयर गिर रहा था.

लगभग 3 सालों से कंपनी का बिजनेस भारी नुकसान में था कंपनी अच्छा मुनाफा नहीं कमा पा रही थी लेकिन अब कंपनी ने भविष्य को ध्यान में रखते हुए अपने बिजनेस में काफी बदलाव किए है जिससे अब शेयर प्राइस भी धीरे-धीरे ऊपर जा रहा है. साथ ही भविष्य में टाटा मोटर्स के अच्छा प्रदर्शन करने की पूरी संभावना है.

Tata Motors stock split, bonus, dividend, bonus news in hindi

अभी तक Tata motors के मैनेजमेंट की तरफ से कोई स्टॉक स्प्लिट या डिविडेंड से संबंधित कोई बड़ी खबर नहीं आई है। अगर टाटा मोटर कंपनी बोनस देने से रिलेटेड कोई official अनाउंसमेंट करती है या टाटा मोटर्स शेयर की कोई latest news आती है तो इस पेज पर आपको सबसे पहले अपडेट कर दिया जाएगा।

FAQs About Tata motors share news in hindi

टाटा मोटर्स क्या क्या बनाती है? यह कंपनी कमर्शियल व्हीकल पैसेंजर व्हीकल, स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल, ट्रक बस और डिफेंस वाहनों को भी बनाती है।
टाटा कंपनी कौन-कौन सी कार बनाती है? टाटा मोटर्स बहुत सी कार बनाती है जिसमें टाटा नेक्सन, टाटा अल्टरोज, टाटा टैगोर और टाटा सफारी प्रमुख गाड़ियां है।
टाटा की बैटरी वाली गाड़ी कितने की है? टाटा नेक्सन के अलावा भी बहुत सारे इलेक्ट्रिक बैटरी वाली गाड़ी है जिनकी कीमत 13 लाख से शुरू होती है।
टाटा मोटर्स का पुराना नाम क्या है? जब यह कंपनी स्टार्ट हुई थी तो टाटा मोटर्स का पुराना नाम TELCO ( टाटा इंजीनियरिंग एंड लोकोमोटिव कंपनी लिमिटेड) रखा गया था।
टाटा की सबसे सस्ती इलेक्ट्रिक कार कौन सी है? 12.5 लाख रुपए की शुरुआती कीमत वाली टाटा टिगोर टाटा की सबसे सस्ती इलेक्ट्रिक कार है।
Tata Motors कंपनी का मालिक कौन है? J.R.D. Tata
क्या Tata Motors एक Debt Free (कर्ज मुक्त) कंपनी है? यह डेट फ्री नहीं है टाटा मोटर्स पर लगभग 48000 करोड़ का कर्ज है।
Tata Motors के कंपीटीटर्स कौन-कौन है? मारुति सुज़ुकी, महिंद्रा एंड महिंद्रा, hyudrai आदि।

क्या टाटा मोटर्स शेयर फ्यूचर में बढ़ेगा?

कंपनी ने जिस तरह से भविष्य के लिए योजनाएं बनाई हैं अगर उन पर काम करती है तो इनका बिजनेस बहुत बड़ा हो सकता है बिजनेस परफॉर्मेंस के आधार पर टाटा मोटर्स का शेयर भी फ्यूचर में बढ़कर ऊपर जाएगा।

क्या टाटा मोटर्स कंपनी भविष्य में सफल हो पाएगी?

टाटा मोटर्स EV इकोसिस्टम देखते हुए इलेक्ट्रिक व्हीकल मार्केट में इसकी पोजीशन बहुत मजबूत हो चुकी है इसीलिए बहुत चांसेस है कि भविष्य में टाटा मोटर्स EV इंडस्ट्री में बहुत सफल होगी.

Tata Motors का शेयर प्राइस 2025 या 2030 तक कितना बढ़ सकता है?

यह कंपनी के क्वार्टरली और वार्षिक रिजल्ट पर निर्भर करता है कि 2025 तक कंपनी का शेयर प्राइस कितने गुना पड़ेगा अगर टाटा मोटर्स के फाइनेंशियल्स में सुधार आता है तो निश्चित ही शेयर प्राइस भविष्य में ऊपर जाएगा।

Tata Motors शेयर में पैसा निवेश करना चाहिए या नहीं?

अगर आपको भरोसा है कि भविष्य में इंडस्ट्री व्हीकल इंडस्ट्री के शेयर अच्छे return दे सकते हैं तो आप इस शेयर में निवेश कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें―

Tata Motors share से जुड़ी सभी लेटेस्ट खबरें और अपडेट पाइये सिर्फ इसी पेज पर

अब तक आप टाटा मोटर्स कंपनी और Tata motors share news in hindi के बारे में बहुत कुछ जान चुके होंगे. आज मैंने आपको टाटा मोटर्स कंपनी के बिजनेस के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है।

मैं आशा करता हूं इस पोस्ट से आपको टाटा मोटर्स शेयर में निवेश करना चाहिए या नहीं? इसका निर्णय लेने में मदद जरूर मिलेगी.

अगर मैं अपना ओपिनियन रखू तो मुझे पर्सनली टाटा मोटर्स के बिजनेस में पहले इंटरेस्ट नहीं था लेकिन जब से इन्होंने इलेक्ट्रिक व्हीकल सेगमेंट में कदम रखा है तभी से मुझे और ज्यादातर लोगों का टाटा मोटर्स शेयर में इंटरेस्ट बढा है।

इसीलिए अगर आप किसी इलेक्ट्रिक व्हीकल शेयर में निवेश करना चाहते हैं तो आपको टाटा मोटर्स से बढ़िया शेयर नहीं मिलेगा यह एक फैक्ट बन चुका है क्योंकि अगर बारीकी से देखा जाए तो EV इंडस्ट्री में टाटा मोटर्स से ज्यादा opportunity किसी अन्य कंपनी के पास नहीं है.

अगर मारुति सुजुकी 2025 में इलेक्ट्रिक व्हीकल बनाती भी है तो भी वह टाटा मोटर्स की बराबरी नहीं कर पाएगी क्योंकि तब तक टाटा मोटर्स ev में टाटा इकोसिस्टम के साथ इतनी बड़ी कंपनी बन चुकी होगी कि उसका मुकाबला कोई कंपनी नहीं कर पाएगी।

मतलब आज जिस प्रकार अपनी इंडस्ट्री में Asian paint और Pidilite इंडस्ट्रीज की मोनोपोली है उसी तरह से अगले 5 से 10 सालों में इलेक्ट्रिक व्हीकल में टाटा मोटर्स कि monopoly होगी।

और अगर ऐसा हुआ तो टाटा मोटर्स का शेयर निवेशकों को मालामाल बना देगा।

क्या आपने भी टाटा मोटर्स share में निवेश किया है कमेंट बॉक्स में जरूर बताइए.

Tata motors share news in hindi अपडेटेड रहने के लिए इस पेज से जुड़े रहिए.

Rate this post
Deepak SenAbout Author
मेरा नाम दीपक सेन है और मैं इस ब्लॉग का Founder हूं। यहां पर मैं अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से शेयर मार्केट, निवेश और फाइनेंस से संबंधित उपयोगी जानकारी शेयर करता हूं। ❤️

Leave a Comment